ताज़ा खबर
 

कंधे पर झोला लटकाए गुजरात पहुंचे राहुल गांधी, एक ने कहा- टिफिन, बोतल चेक कर लेना

गुजरात चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस नवसर्जन यात्रा कर रही है। इस यात्रा के तीसरे चरण में शामिल होने और पार्टी के प्रचार प्रसार के लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को गुजरात पहुंचे।
कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी (फोटो सोर्स- ट्विटर/@INCMumbai)

गुजरात विधानसभा चुनाव के दिन जैसे-जैसे नजदीक आ रहे हैं राजनीतिक गलियारों में हलचल भी तेज होती जा रही हैं। कांग्रेस और बीजेपी, दोनों बड़ी पार्टियों के नेता इस वक्त जोरशोर से चुनाव की तैयारी कर रहे हैं। दोनों ही पार्टी के नेता राज्य में जगह-जगह पर रैलियां और जनसभाएं करके लोगों को संबोधित कर रहे हैं। गुजरात चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस नवसर्जन यात्रा कर रही है। इस यात्रा के तीसरे चरण में शामिल होने और पार्टी के प्रचार प्रसार के लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को गुजरात पहुंचे। उनके पहुंचने की जानकारी मुंबई कांग्रेस ने ट्विटर के माध्यम से दी और साथ में राहुल गांधी की दो तस्वीरें भी डालीं। इन्हीं तस्वीरों की वजह से अब ट्विटर पर राहुल गांधी को एक बार फिर से ट्रोल किया जा रहा है। दरअसल तस्वीरों में राहुल गांधी अपने कंधे पर बैग टांगे दिख रहे हैं, बस इसी बैग को लेकर सोशल मीडिया का एक धड़ा उन्हें ट्रोल कर रहा है।

लोग ट्वीट करके ये पूछ रहे हैं कि क्या वे साथ में टिफिन और बोतल भी लाए हैं? तस्वीर में राहुल गांधी के साथ दिख रहे कांग्रेस नेता अशोक गहलोत से भी लोग कह रहे हैं कि उन्हें राहुल का बैग चेक करना चाहिए और देखना चाहिए कि कहीं वे टिफिन और बोतल लाना तो नहीं भूल गए। वहीं कई लोग राहुल की सादगी की तारीफ भी कर रहे हैं, तो वहीं कुछ लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी की तुलना कर रहे हैं।

बता दें कि नवसर्जन यात्रा के तीसरे चरण में बुधवार को गुजरात पहुंचे राहुल गांधी ने पीएम मोदी के गुजरात मॉडल की कड़ी आलोचना की है। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर तीन दिनों के लिए गुजरात दौरे पर पहुंचे राहुल गांधी ने कहा, ‘भरूच में किसान दबा हुआ है। वह रो रहा है। यहां गरीबों से बिजली पानी लेकर उद्योगपतियों को दे दिया जाता है। बाद में उनसे कुछ हासिल नहीं होता। यह है मोदी जी का गुजरात मॉडल।’ भरूच के जंबुसर में आयोजित रैली में उन्होंने आगे कहा, ‘नरेंद्र मोदी ने टाटा नैनो के लिए 33 हजार करोड़ रुपए का लोन दिया। तकरीबन मुफ्त में। कम से कम दरों पर, लेकिन वह कार आज कहीं नहीं दिखती है। उनकी सरकार गरीबों से बिजली-पानी लेकर उद्योगपतियों को दे देती है। बाद में उनसे कुछ नहीं मिलता है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.