ताज़ा खबर
 

केंद्र कोरोना से मरने वालों को मुआवजा देने में असमर्थ, कांग्रेस प्रवक्ता बोलीं- बेशर्मी के कई पर्यायवाची होते हैं, आज से ‘मोदी सरकार’ भी एक है

कोरोना महामारी से जान गंवाने वालों के परिजन को मुआवजा देने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका पर केंद्र सरकार ने हलफनामा दाखिल कर दिया है। इसमें केंद्र सरकार ने कहा है कि कोरोना से जिनकी मौत हुई है, उनके परिवारों को सरकार 4 लाख रुपए का मुआवजा या आर्थिक मदद के तौर पर नहीं दे सकती।

June 21, 2021 4:36 PM
कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत (फाइल फोटो)

कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने अपने टि्वटर हैंडल से कोरोना से मौत पर मुआवजा ना दे पाने के फैसले पर अपनी तीखी टिप्पणी देते हुए ‘मोदी सरकार’ को बेशर्मी की एक पर्यायवाची बताया।

दरअसल कोरोना महामारी से जान गंवाने वालों के परिजन को मुआवजा देने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका पर केंद्र सरकार ने हलफनामा दाखिल कर दिया है। इसमें केंद्र सरकार ने कहा है कि कोरोना से जिनकी मौत हुई है, उनके परिवारों को सरकार 4 लाख रुपए का मुआवजा या आर्थिक मदद के तौर पर नहीं दे सकती। इतना पैसा खर्च करने से कोरोना से लड़ने में सरकार की कोशिशों पर असर पड़ेगा। इसी खबर पर कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, ‘बेशर्मी के कई पर्यायवाची होते हैं, आज से ‘मोदी सरकार’ भी एक है। मोदी सरकार का सुप्रीम कोर्ट में दिया हलफ़नामा -‘कोरोना मृत्युओं के लिए मुआवज़ा देना सम्भव नहीं’।

उनके इस ट्वीट पर एक यूज़र ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि, ‘बेशर्मी की इंतहा हो गई क्या आपने राम मंदिर के लिए चंदा दिया ? तो आपको मंदिर के बारे में सवाल पूछने का कोई हक नहीं तो ठीक इसी प्रकार सरकार धीरे से कह देगी क्या कोरोना से आपके घर में कोई मरा? तो आप को मुआवजा मांगने का कोई अधिकार नहीं। वाह क्या मास्टर स्टॉक हैं’।

शीतल केशरवानी नाम के एक यूजर ने केंद्र सरकार के इस फैसले पर नाराजगी जताते हुए लिखा कि, ‘ये बेशर्म जनता पार्टी हैं। मजदूरों को कोई हिसाब नही, आम जनता का कोई साथ नही। सिर्फ अपने पूंजीपति मित्रो के लिए ये मोदी सरकार आई है’।

चुनावी रैलियों पर खर्च होने वाले पैसों को लेकर एक यूजर ने सवाल उठाते हुए लिखा कि, ‘मुआवजा के लिए पैसा नहीं तो चुनाव के लिए भी नहीं होना चाहिए देखते है 2022 में भाजपा की रैलियों में कितना खर्च होगा’? वहीं अनिल कुमार यादव नाम के यूजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से एक निवेदन करते हुए लिखते हैं कि, ‘नरेंद्र मोदी जी आप कुछ करिए या ना करिए, लेकिन बेवजह की मंहगाई या तो कम करिए अन्यथा त्यागपत्र दे दीजिए। अब ना हम कोई विश्व गुरु चाहिए और ना ही शेर पालने की हमारी हैसियत है। हम अपनी नमक रोटी में पहले भी खुश थे, आगे भी खुश रहेंगे, बस बेवजह की सरदर्दी नहीं चाहिए’।

बालवीर पायल नाम की एक यूजर लिखती है कि वो तो विधायक खरीदने। स्विस बैंक में जमा करने, अपने लिए काजू की रोटी खाने, घूमने के लिए जहाज खरीदने, और रहने के लिए महल बनवाने के लिए ही संभव है।

Next Stories
1 ये है बनारस का ‘धरतीफाड़ विकास’, नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र का वीडियो शेयर कर अखिलेश यादव ने कसा तंज, आने लगे ऐसे कमेंट
2 दो लाइन की चौपाई नहीं सुना पाए, ढोंगी राम भक्त- डिबेट में BJP के गौरव भाटिया से भिड़ी कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक, कहा –
3 गरीब का योग रोटी और रामदेव का योग मुनाफा- पूर्व IAS ने योग दिवस पर कसा तंज, लोगों ने किये ऐसे कमेंट
यह पढ़ा क्या?
X