ताज़ा खबर
 

राहुल गांधी से हो गई ऐसी चूक कि डिलीट करना पड़ा ट्वीट

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बलात्कार की घटनाओं पर चुप्पी साधने का आरोप लगाया और कहा कि मोदी को सिर्फ 2019 में दोबारा प्रधानमंत्री बनने की चिंता है। राहुल ने कहा कि संसद में 15 मिनट भाषण करा लो मोदी जी वहां टिक नहीं पाएंगे।

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी। (File Photo: PTI)

कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार (23 अप्रैल) को नई दिल्‍ली के तालकटोरा स्‍टेडियम में ‘संविधान बचाओ रैली’ को संबोधित किया। हालांकि इस बारे में लोगों को जानकारी देते समय ट्विटर पर उनसे चूक हो गई। उन्‍होंने रैली का नाम गलत लिखते हुए उसे ‘संसद घेराव’ रैली लिख दिया। कुछ ही मिनटों बाद इस ट्वीट को डिलीट कर दिया गया और उसकी जगह ‘संविधान बचाओ’ रैली के साथ ट्वीट किया गया। कांग्रेस के ‘संविधान बचाओ’ अभियान का मकसद संविधान एवं दलितों पर कथित हमलों के मुद्दे को राष्ट्रीय स्तर पर जोरशोर से उठाना है।

राहुल गांधी ने यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बलात्कार की घटनाओं पर चुप्पी साधने का आरोप लगाया और कहा कि मोदी को सिर्फ 2019 में दोबारा प्रधानमंत्री बनने की चिंता है। कांग्रेस के ‘संविधान बचाओ’ अभियान की शुरुआत करते हुए कहा राहुल ने कहा, ”आईएमएफ (अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष) की प्रमुख ने कहा कि भारत में महिलाओं पर अत्याचार हो रहा है, लेकिन मोदी जी चुप। कुछ नहीं बोले। …मोदी जी को सिर्फ मोदी जी में दिलचस्पी है और किसी मुद्दे में नहीं।” उन्होंने कहा कि मोदी को सिर्फ 2019 में फिर से प्रधानमंत्री बनने की फिक्र है, लेकिन अगली बार जनता उनको अपने ‘मन की बात’ सुनाएगी।

पहले राहुल ने किया था ये ट्वीट:

ऊपरवाला ट्वीट डिलीट करने के बाद किया ये पोस्‍ट:

प्रधानमंत्री पर कटाक्ष करते हुए राहुल ने कहा, ”मोदी जी सोचते हैं कि जो शौचालय साफ करता है या गन्दगी उठता है, वह यह काम पेट भरने के लिए नहीं करता, बल्कि आध्यात्म के लिए करता है।” उन्होंने कहा कि मोदी जी देश के दलित आपसे गुस्सा हैं क्योंकि यह आपकी विचारधारा ऐसी है। उन्होंने कहा, “देश का हर व्यक्ति यह समझता है कि इस व्यक्ति (मोदी) के दिल में दलितों, कमजोरों और महिलाओं के लिए कोई जगह नहीं है। ऊना में घटना होती है और वह कुछ नहीं बोलते।”

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि संविधान देश के सभी लोगों की रक्षा करता है। इस देश में जो भी संस्थाएं हैं वह हमारे संविधान की वजह से हैं। संविधान के बिना कुछ नहीं बनता। उन्होंने कहा कि जनता जज के पास जाती और न्याय मांगती है। पहली बार जज न्याय मांगने जनता के बीच आये। ”सुप्रीम कोर्ट को कुचला जा रहा है। संसद नहीं चलने दी जा रही क्योंकि मोदी जी जवाब देने से घबरा रहे हैं।”

राहुल ने कहा कि संसद में 15 मिनट भाषण करा लो मोदी जी वहां टिक नहीं पाएंगे। कार्यक्रम में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत, अहमद पटेल, मोती लाल बोरा, अहमद पटेल, गुलाम नबी आजाद, दिग्विजय सिंह, सुशील कुमार शिंदे, पी एल पूनिया और कई दूसरे वरिष्ठ नेता मौजूद रहे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App