ताज़ा खबर
 

मुहर्रम पर दिग्विजय सिंह ने किया ऐसा ट्वीट कि होने लगे ट्रोल

Digvijay Singh: एक यूजर ने लिखा- ऐसे दिल नहीं जीत पाओगे मुसलमानों का, दो-चार कोड़े अपने बदन पर मारो और उसका वीडियो बनाकर अपलोड करो। तब सच्ची मुबारकबाद मानी जायेगी।

Author Updated: September 10, 2019 4:34 PM
Moharram को पावन बता सलाम कर ट्रोल हो रहे दिग्विजय सिंह।(फोटो- पीटीआई)

आज देश भर में इस्लाम को मानने वाले ढेरों लोग मुहर्रम का मातम मना रहे हैं। इस बीच वरिष्ठ कांग्रेस नेता और मध्‍य प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने मुहर्रम पर कुछ ऐसा ट्वीट कर दिया कि ट्रोल होने लगे। लोग उन्हें लिखने लगे कि ऐसे नहीं मानेंगे कि आप मुसलमानों के हिमायती हो, दो चार कोड़े खुद को लगाओ और वीडियो अपलोड करो। वहीं बहुत से लोग दिग्विजय सिंह के इस ट्वीट पर सवालिया निशान भी खड़े कर रहे हैं।

दरअसल मुहर्रम के मौके पर दिग्विजय सिंह ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया। ट्वीट में लिखा- सभी मुस्लिम भाईयों और बहनों को मुहर्रम के पावन अवसर पर हमारी सलाम। दिग्विजय सिंह का ये ट्वीट देखते ही लोग टूट पड़े और उन्हें खरी-खोटी सुनाने लगे।

दरअसल इस्लाम के चार पवित्र महीनों में शुमार मुहर्रम को मातम का महीना कहा जाता है। लेकिन कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने इसे ‘पावन’ बता दिया। दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर कमेंट्स की भरमार होने लगी। जनार्दन मिश्रा(@JBMIS) नाम के यूजर ने लिखा- ऐसे दिल नहीं जीत पाओगे मुसलमानों का, दो-चार कोड़े अपने बदन पर मारो और उसका वीडियो बनाकर अपलोड करो। तब सच्ची मुबारकबाद मानी जायेगी।

अमित पांडे(@dr_amitpandey) नाम के अन्य यूजर ने लिखा- मुहर्रम वो मनहूस दिन है (शियों के अनुसार) जिस दिन हुसैन की यजीदी के द्वारा हुई हत्या पर वो मातम मनाते हैं। इस दिन वो ताजिया निकालते हैं और हुसैन की मृत्यु पर गहरा रोष प्रकट करते हैं। मौत का दिन पावन नहीं मनहूस होता है।

शुभ्रा सुमन(@Anu1021996) नाम की यूजर ने लिखा- मुहर्रम पर कौन सलाम करता है और अगर अपनी हाजिरी लगानी थी तो खुद को भी कोड़ों से मार कर बता देते कि सच्चे मुसलमान हो।

वहीं सचिन श्रवास्तव(@DrSachinSrivas1) ने लिखा- ईद पर जालीदार टोपी लगा कर सेवईयां खाने वाले सेकुलर नेता आज गंगा जमुनी तहजीब को और मजबूत करने के लिए मुहर्रम पर खुद को कोड़े मारेंगे क्या ? इसी तरह से तमाम यूजर्स दिग्विजय सिंह को ट्रोल कर रहे हैं।

बता दें कि इस्‍लामिक कैलेंडर के पहले महीने को ‘मुहर्रम’ कहते हैं। इस महीने की 10 तारीख को ‘रोज-ए-आशुरा’ कहते हैं। इस महीने में  हजरत मुहम्मद साहब के छोटे नवासे इमाम हुसैन और उनके 72 साथियों का कर्बला में कत्ल कर दिया गया था। इसी कारण आज के दिन मातम मनाया जाता है।

Next Stories
1 VIDEO: जब एक्स-रे मशीन से सामान की जगह निकलने लगे लोग, उड़ रहा पाकिस्तान का मजाक
2 Magamuni Full Movie Leaked Online to download: Tamilrockers पर लीक हो गई शांताकुमार की ‘मगामुनि’, ऐसे ऑनलाइन देख रहे लोग
3 ट्विटर यूजर ने की PM नरेंद्र मोदी की आलोचना तो परेश रावल ने लिखा- सुअर का बच्चा
ये पढ़ा क्या?
X