ताज़ा खबर
 

चेतन भगत ने विधायकों की खरीद-फरोख्‍त को बताया ‘आर्ट’, जमकर हुई धुलाई

चेतन भगत के इस ट्वीट के बाद कई लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। योगेश साहनी नाम के एक यूजर ने लिखा कि ' हॉर्स ट्रेडिंग एक आर्ट है...वाह भगत जी वाह...आप हुए ना असली वाले भगत'।

चेतन भगत (image source-Twitter)

मशहूर लेखक चेतन भगत ने विधायकों की खरीद-बिक्री को आर्ट (कला) बता दिया है। अब सोशल मीडिया पर लोग चेतन भगत की क्लास लगा रहे हैं। दरअसल चेतन भगत ने सोशल मीडिया साइट पर लिखा कि ‘हंग (त्रिशंकु) विधानसभा में कोई नैतिक रास्ता नहीं है। नैतिकता को रोक दें क्योंकि यह एक व्यर्थ अभ्यास है। हॉर्स ट्रेडिंग एक कला है। बीजेपी और कांग्रेस के लिए एक और परीक्षा है, देखते हैं कौन बेहतर प्रदर्शन करता है’।

चेतन भगत के इस ट्वीट के बाद कई लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। योगेश साहनी नाम के एक यूजर ने लिखा कि ‘ हॉर्स ट्रेडिंग एक आर्ट है…वाह भगत जी वाह…आप हुए ना असली वाले भगत’। गौरव वत्स नाम के एक यूजर ने लिखा की ‘लोकतंत्र को बेचना एक कला नहीं है। इसमें कुछ भी सही नहीं है। भारत बीजेपी और कांग्रेस से ज्यादा महान है। इस तरह के सिद्धांत बंद होने चाहिए वरना कुछ दिन दिनों बाद देश में अराजकता की स्थिति उत्पन्न हो जाएगी’। प्रभा राज नाम की एक यूजर ने लिखा कि ‘हां एक कला है आपकी किताबों की तरह’।

बन्नी नाम के एक यूजर ने लिखा कि ‘तो अब भारत में हॉर्स ट्रेडिंग को बढ़ावा देना चाहिए? क्या आपका दिमाग खराब है? गवर्नर का यह फर्ज है कि वो हॉर्स ट्रेडिंग ना होने दें और भारत का नागरिक होने की वजह से आपको लोकतंत्र की भलाई के लिए ऐसी चीजों की निंदा करनी चाहिए’। आपको बता दें कि मंगलवार (15 मई) को कर्नाटक विधानसभा चुनाव का रिजल्ट आया है। इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), कांग्रेस और जेडी(एस) में से किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है।

त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति में भाजपा ने सरकार बनाने का अपना दावा पेश किया है तो वही रिजल्ट के बाद कांग्रेस और जेडी(एस) ने भी गठबंधन कर सरकार बनाने का अपना दावा पेश किया है। अब सभी की निगाहें कर्नाटक के राज्यपाल पर टिकी हैं। दरअसल ऐसी स्थिति में अक्सर हॉर्स ट्रेडिंग यानी जीते हुए विधायकों के खरीद-बिक्री की खबरें सामने आती हैं। सरकार बनाने के लिए जरूरी संख्या बल हासिल करने के लिए राजनीतिक दल हॉर्स ट्रेडिंग का सहारा लेते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App