scorecardresearch

मैंने तो गिनना छोड़ दिया है- फिर पहुंची सीबीआई की टीम तो कार्ति चिदंबरम ने किया ट्वीट तो लोग बोले- सरकार अच्छे दिन खोज रही है

सीबीआई की इस छापेमारी को लेकर कार्ति चिदंबरम ने ट्विटर पर तंज कसते हुए लिखा कि “अब तो मैं गिनती भी भूल गया हूं, यह कितनी बार हुआ है? एक रिकॉर्ड तो होना चाहिए।”

Karti Chidambaram, P Chidambram, CBI
पी चिदंबरम के साथ उनके बेटे कार्ति चिदंबरम (file photo)

कांग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम के कई ठिकानों पर 17 मई को सीबीआई ने छापेमारी की। सीबीआई ने कथित तौर पर अवैध लाभ हासिल करने के मामले में कांग्रेस नेता के खिलाफ मामला दर्ज किया है। जानकारी के अनुसार सुबह 6 बजे शुरू हुई इस छापेमारी में कार्ति के दिल्ली और मुंबई सहित 9 ठिकानों पर छापेमारी की गई है।

 सीबीआई की इस छापेमारी को लेकर कार्ति चिदंबरम ने ट्विटर पर तंज कसते हुए लिखा कि “अब तो मैं गिनती भी भूल गया हूं, यह कितनी बार हुआ है? एक रिकॉर्ड तो होना चाहिए।” वहीं कार्ति के पिता पी चिदंबरम ने ट्विटर पर लिखा कि ‘आज सुबह, सीबीआई की एक टीम ने चेन्नई में मेरे आवास और दिल्ली में मेरे आधिकारिक आवास की तलाशी ली। टीम ने मुझे एक प्राथमिकी दिखाई, जिसमें मेरा नाम आरोपी के तौर पर नहीं है।’

सोशल मीडिया पर लोगों ने कार्ति चिदंबरम के ठिकानों पर हुई इस छापेमारी पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। एक यूजर ने लिखा कि ‘सरकार चिदंबरम के परिसरों पर छापेमारी करती रहती है ताकि अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के बारे में सुराग मिल सके।’ पत्रकार राधा कृष्णन ने लिखा कि ‘इतने सारे छापे के बाद, मुझे यकीन है कि CBI को पता है कि चिदंबरम के पास कितनी धोती है!’

सुष्मिता नाम की यूजर ने लिखा कि ‘सीबीआई, ईडी, एनआईए, विभिन्न आयोग, आईटी विभाग, एनसीबी हो, हर संस्थान का दुरुपयोग एनडीए की पहचान रहा है।’ अभय कपूर नाम के यूजर ने लिखा कि ‘सर, आज समय आपके साथ नहीं है, उन्हें जो करना है वो करने दीजिए। जब तुम्हारा समय आएगा तो किसी को मत छोड़ो, जिसने तुम्हारे साथ गलत किया है।’

सौरभ नाम के यूजर ने लिखा कि ‘कांग्रेस के खिलाफ एक-दो बयान दे दीजिए या कांग्रेस में फूट की बात कर दीजिए या राहुल गांधी पर सवाल उठा दीजिए, फिर कोई टीम आपके घर नहीं आएगी।’ डॉ. योगेश नाम के यूजर ने लिखा कि ‘छापेमारी के समय से आपका वास्तव में क्या तात्पर्य है? छापेमारी करने का कोई समय नहीं है। अगर आप दोषी नहीं हैं तो चिंता क्यों करें?’

मुरली नाम के यूजर ने लिखा कि ‘आरोप यह है कि कार्ति ने केंद्रीय मंत्री के रूप में आपके कार्यकाल के दौरान 250 चीनी नागरिकों के लिए वीजा की व्यवस्था करने के लिए रिश्वत ली थी। आपने इस आरोप पर कुछ भी नहीं बोला है। क्या यह सच है?’ एक यूजर ने लिखा कि ‘अर्थव्यवस्था के पतन पर बोलना मोदी और टीम के लिए सीबीआई को आपके घर भेजने के लिए काफी है।’

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट