ताज़ा खबर
 

बुर्किनी पहनकर नहाने पर जुर्माना, मुस्लिम महिला को स्विमिंग पूल से भी निकाला

फदीला ने इस्लामोफोबिया के खिलाफ काम करने वाली संस्था चैरिटी यूनाइटेड अगेंस्ट इस्लामोफोबिया इन फ्रांस को बताया, 'मैं निराश थी, दुखी थी मुझे तकलीफ पहुंचा था कि कोई बुर्किनी की वजह से शैतान होने का इतना बड़ा पाखंड कैसे रच सकता है।'

प्रतीकात्मक तस्वीर

फ्रांस की एक कम्यूनिटी स्विमिंग पूल में बुर्किनी पहनकर नहाने गई मुस्लिम महिला को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा। स्विमिंग पूल की देखरेख करने वाली संस्था ने इस महिला पर स्विमिंग पूल में नहाने के लिए भारी जुर्माना लगाया है। फदीला नाम की इस महिला ने बताया कि दक्षिण फ्रांस के मर्साइल में ये महिला बुर्किनी पहनकर नहाने गई थी। बुर्किनी मुस्लिम महिलाओं के डिजाइन किया गया एक विशेष पोशाक है, इसे नहाने के दौरान इस्तेमाल किया जाता है, इसे पहनने के बाद शरीर के अधिकतर हिस्से कपड़े में ढके रहते हैं। फदीला ने बताया कि वो नहा ही रही थी तभी एक स्टाफ ने स्विमिंग पूल में नहा रहे बाकी लोगों को बाहर निकलने को कहा। इसके बाद इस स्टाफ ने महिला के पति को बुलाया और स्विमिंग पूल से फदीला को बाहर निकालने को कहा। बाद में स्विमिंग पूल के मालिक ने महिला के पति को 440 पौंड का बिल भी दिया। स्विमिंग पूल मालिक का कहना है कि अब पूरे पूल को खानी करना पड़ेगा और इसकी सफाई करनी पड़ेगी।

बाद में फदीला ने इस्लामोफोबिया के खिलाफ काम करने वाली संस्था चैरिटी यूनाइटेड अगेंस्ट इस्लामोफोबिया इन फ्रांस को बताया, ‘मैं निराश थी, दुखी थी मुझे तकलीफ पहुंचा था कि कोई बुर्किनी की वजह से शैतान होने का इतना बड़ा पाखंड कैसे रच सकता है।’ इस संस्था ने कहा कि फदीला की बुर्किनी की वजह से वहां नहा रहे दूसरे लोगों को स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्याएं नहीं हुई होंगी क्योंकि ऐसे पोशाक विशेषकर नहाने के लिए बनाए जाते हैं। बता दें कि कुछ सालों से आतंकवाद का शिकार हो रहे फ्रांस में मुस्लिम समुदाय के प्रति स्थानीय लोगों का गुस्सा बढ़ा है। पिछली गर्मियों में फ्रांस के कांस शहर में बुर्किनी पहनने पर स्थानीय प्रशासन की ओर कुछ महिलाओं पर जुर्माना लगाया गया था। बाद में फ्रांस की अदालत ने फैसला दिया था कि फ्रांस के समुद्री तट पर बुर्किनी पर रोक नहीं लगायी जा सकती है, क्योंकि ऐसा करना अवैध है और मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App