scorecardresearch

“जिसे शिवलिंग कह रहे हैं वो मस्जिद का फव्वारा है”- ज्ञानवापी मस्जिद विवाद पर बोले ओवैसी, यूजर्स ने किए ऐसे कमेंट

ओवैसी ने कहा है, ‘बाबा नहीं मिले हैं, दावा किया जा रहा है कि शिवलिंग मिला है लेकिन मस्जिद की कमेटी ने कहा कि वो तो मस्जिद का फव्वारा है और हर मस्जिद में फव्वारा होता है।

Asaduddin Owaisi| Asaduddin Owaisi Photo| AIMIM|
एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस)

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर शुरू हुए विवाद पर जमकर राजनीति हो रही है। विपक्ष के कई नेता, ज्ञानवापी मस्जिद के विवाद पर अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि ‘यह 1991 के एक्ट का उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि आज के कोर्ट के ऑर्डर को मैं मुसलमानों के इंस्टिट्यूशन पर हमला करार देता हूं। वहीं ओवैसी ने अब मस्जिद के अन्दर मिले शिवलिंग के दावे पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

ओवैसी ने कहा है, ‘बाबा नहीं मिले हैं, दावा किया जा रहा है कि शिवलिंग मिला है लेकिन मस्जिद की कमेटी ने कहा कि वो तो मस्जिद का फव्वारा है और हर मस्जिद में फव्वारा होता है। अगर वहां पर शिवलिंग था तो कमिश्नर को कोर्ट में जाकर कहना चाहिए था। जो कोर्ट ने सील करने का आदेश दिया है वो तो कानून का उल्लंघन है।

एक और ट्वीट करते हुए ओवैसी ने कहा है कि “अगर इतिहास की बात करना है तो बात निकली है तो दूर तलक जाएगी। बेरोजगारी, महंगाई, वगैरह के जिम्मेदार औरंगजेब ही हैं.. प्रधानमंत्री मोदी नहीं, औरंगजेब ही हैं। ओवैसी के इस बयान पर सोशल मीडिया पर लोग अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं।

अतहर खान नाम के यूजर ने लिखा कि ‘क्या शिवलिंग फव्वारे जैसा होता है? मतलब कुछ भी।’ सुजीत कुमार नाम के यूजर ने लिखा कि ‘आखिर कहना क्या चाहते हो? कहीं तकरीर करते हो कि कयामत तक हम नही छोड़ेंगे, कभी कहते हो कि कोर्ट सही नहीं कर रहा है।’ कौस्तुभ नाम के यूजर ने लिखा कि ‘सर्वे की कोई जरूरत नहीं थी। सीधी सी बात थी कि औरंगजेब ने मंदिर तोड़ा था तो हमें वो वापस चाहिए।’

बता दें कि ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में सर्वे के बाद दावा किया गया है कि एक शिवलिंग मिला है। सोमवार को हिन्दू पक्ष की तरफ से 12 फीट और 8 इंच लंबा शिवलिंग मिलने का दावा किया गया तो कोर्ट ने शिवलिंग मिलने वाली जगह को सील करने का आदेश दे दिया है। वहीं अब मुस्लिम पक्ष ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट