ताज़ा खबर
 

ताजमहल विवाद: एंकर ने BJP प्रवक्ता से पूछा- रेलवे भी अंग्रेजों ने बनाया है रेल में सफर छोड़ दीजिए

बहस में जब एंकर ने उनसे पूछा कि क्या मुगलो द्वारा बनाए गए ताजमहल का विरोध है तो क्या अंग्रेजों द्वारा बिछाई गई रेल की पटरी पर चलने वाली रेलवे का भी विरोध करेंगे।

सुधांशु त्रिवेदी टीवी बहस में अपना पक्ष रखते हुए।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक संगीत सोम ने ताजमहल पर एक विवादित बयान देते हुए कहा कि ताजमहल भारतीय संस्कृति पर एक धब्बा है। उन्होंने इतिहास को गलत तरीके से पेश करते हुए यह भी कहा कि 17वीं शताब्दी में संगमरमर की यह इमारत बनवाने वाले शाहजहां ने अपने पिता को जेल में डाल दिया था और वह देश से हिंदुओं का नामो निशान मिटा देना चाहता था। उनकी ऐसी टिप्पणी के बाद सोमवार को पूरे दिन मीडिया और सोशल मीडिया पर ये मुद्दा जमकर उछला।

जहां एक एक करके सभी पार्टियां इसे मुद्दे पर बीजेपी को घेरने के लिए आगे आती रही तो व हीं बीजेपी के प्रवक्ता भी अपनी पार्टी के बचाव में जी जान से लगे रहे। बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी इसी मुद्दे पर एक टीवी चैनल पर अपनी पार्टी का पक्ष रख रहे थे। बहस में जब एंकर ने उनसे पूछा कि क्या मुगलो द्वारा बनाए गए ताजमहल का विरोध है तो क्या अंग्रेजों द्वारा बिछाई गई रेल की पटरी पर चलने वाली रेलवे का भी विरोध करेंगे तो सुधांशु त्रिवेदी ने इसे राष्ट्रीय गर्व का विषय बना दिया। उन्होंने साफ कहा कि रेलवे हमारा है लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि ब्रिटिश राज को हम अपने से श्रेष्ठ माने रेलवे के कारण।

 

ये सारा मामला तब मीडिया में आया जब सोम वायरल हो रहे एक वीडियो में प्रत्यक्ष तौर पर एक जनसभा को संबोधित करते नजर आ रहे हैं। हालांकि यह वीडियो कब का है, यह स्पष्ट नहीं है। वह वीडियो में वह कह रहे हैं, “मैं आपको सुनिश्चित करता हूं कि हम इस इतिहास को बदल देंगे।” वहीं, टेलीविजन रिपोर्टों के अनुसार, भाजपा नेता मेरठ में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। संगीत सोम ने इतिहास को गलत ढंग से बताते हुए कहा है कि मुगल सम्राट शाहजहां ने अपने पिता को कैद कर दिया था, जबकि वास्तव में शाहजहां के बेटे औरंगजेब ने अपने पिता को सत्ता से हटाकर आगरा के किले में कैद कर दिया था। विश्व के सात अजूबों में से एक ताज को शाहजहां ने अपनी प्रिय पत्नी मुमताज महल की याद में बनवाया था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App