राजा भैया की तुलना मुख्तार अंसारी से करने पर भड़के BJP विधायक, कहा- रघुराज प्रताप सिंह गुंडा नहीं दबंग; अखिलेश को बताया मानसिक दुर्बल

सुरेंद्र सिंह अपनी बेबाक टिप्पणी और अलग अंदाज के लिए जाने जाते हैं। कई बार उन्होंने दल और संगठन के खिलाफ भी टिप्पणी किया जिसके कारण पार्टी की किरकिरी भी हुई।

Raja Bhaiya, Kunda, Pratapgarh
यूपी के प्रतापगढ़ की कुंडा सीट से विधायक राजा भैया (फोटो सोर्स: फाइल/ANI)।

बलिया के बैरिया विधानसभा से भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह का मानना है कि राजा भैया गुंडा नहीं बल्कि एक दबंग शख्सियत है। वह ओम प्रकाश राजभर और सपा प्रमुख अखिलेश को मानसिक रूप से कमजोर बताते हुए कहते हैं कि राजा भैया की मुख्तार अंसारी से तुलना करना पूरी तरह से गलत है। एक राज घराने से ताल्लुक रखता है तो दूसरा पूरी तरह से अपराधी है। विधायक मानते हैं कि उनके विधानसभा क्षेत्र में करप्शन खत्म तो नहीं पर बहुत कम हो गया है। अगर उन्हें बलिया की जिम्मेदारी मिले तो वह जिले से करप्शवन को कम कर देंगे।

सुरेंद्र सिंह अपनी बेबाक टिप्पणी और अलग अंदाज के लिए जाने जाते हैं। कई बार उन्होंने दल और संगठन के खिलाफ भी टिप्पणी किया जिसके कारण पार्टी की किरकिरी भी हुई। भारतीय जनता पार्टी से विधायक होने के पहले भी उन्होंने कई मुद्दों को लेकर काफी संघर्ष किया है, जिससे उनकी छवि एक संघर्षशील नेता के रूप से विकसित हुई थी। उनका कहना है कि वह ज्यादती व अन्याय को बिलकुल बर्दाश्त नहीं कर सकते।

एक चैनल से दौरान उन्होंने राजा भैया को क्रांतिकारी नेता और राज घराने का बेटा बताया। वे किसी भी तरह मानने के लिए तैयार नहीं थे कि राजा भैया गुंडा हैं। उनका मानना है कि उन्हें खुद भी संघर्ष के दौरान उन्हें कई गंभीर मुकदमों का सामना करना पड़ा। इसके लिए वे पूर्ववर्ती सरकारों को दोषी मानते हैं। उनका कहना है कि सच का साथ देने के लिए अगर केस दर्ज हो जाएं तो उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता।

भाजपा विधायक का कहना है कि राजा भैया के खिलाफ साजिशन केस दर्ज किए गए। वो राज घराने से हैं। जाहिर है कि उनके खून में गर्मी है और वह एक दबंग शख्सियत हैं। जबकि मुख्तार अंसारी पैसा एकत्र करने के लिए इंसान और इंसानियत को शर्मसार करता रहता है। वह पूरी तरह से गुंडा है। वहीं राजा भैया एक राजनीतिक शख्सियत हैं, जिनके पास बाहुबल है।

पत्रकार ने जब विधायक से पूछा कि राजा भैया गुंडा नहीं है तो है क्या? भाजपा विधायक ने कहा कि पुलिस को छूट दे दी जाए तो समस्त नेताओं पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर देंगे। उन्होंने एक उदाहरण देते हुए कहा कि किस तरह से सिपाही ने नाचने वाली से पैसा लिया था। उन्हें पता चला तो सिपाही का तबादला कराया और उससे पहले उसे शर्मसार करके नाचने वाली के पैसे वापस कराए। विधायक का कहना है कि योगी राज में कोई भी मनमानी नहीं कर सकता है। सीएम बहुत ईमानदार हैं। वह किसी के खिलाफ ज्यादती को बर्दाश्त नहीं करते हैं।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट