टीवी डिबेट में बीजेपी प्रवक्‍ता ने कराई किरकिरी, एंकर ने याद दिलाया तो तुरंत मांगी माफी

कार्यक्रम के दौरान जब एंकर ने संबित पात्रा से पूछा कि सरकार पेट्रोल डीजल के बढ़ते दामों से राहत कब दिलाएगी? इसके जवाब में संबित पात्रा ने 3 कारण गिनाए।

sambit patra
भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा। (file pic)

देश में पेट्रोल-डीजल के दामों में जबरदस्त वृद्धि का दौर चल रहा है। जिसके चलते केन्द्र सरकार निशाने लोगों के निशाने पर आयी हुई है। विभिन्न टीवी चैनलों में भाजपा नेताओं से इस मुद्दे पर सवाल जवाब किया जा रहा है। चूंकि लगभग सभी टीवी चैनलों पर पेट्रोल डीजल के दामों में वृद्धि के मुद्दे पर बहस चल रही है, ऐसे में भाजपा प्रवक्ताओं को भी अलग-अलग चैनलों पर जाकर पार्टी का पक्ष रखना पड़ रहा है। इसी के चलते ऐसा कुछ हुआ कि भाजपा प्रवक्ता को एंकर से माफी मांगनी पड़ गई। दरअसल ‘आज तक’ चैनल पर एक डिबेट कार्यक्रम भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा मौजूद थे और कार्यक्रम की एंकरिंग रोहित सरदाना कर रहे थे। तभी संबित पात्रा ने रोहित सरदाना को सुमित जी कहकर संबोधित किया। जिस पर रोहित सरदाना ने भाजपा प्रवक्ता को टोका तो संबित पात्रा ने भी तुरंत बात को संभालते हुए माफी मांग ली। बता दें कि संबित पात्रा न्यूज 18 टीवी चैनल की डिबेट में भी हिस्सा लेते रहते हैं और वहां शो की एंकरिंग सुमित अवस्थी करते हैं। यही वजह है कि संबित पात्रा जल्दबाजी में रोहित के बजाए सुमित कह गए।

कार्यक्रम के दौरान जब एंकर ने संबित पात्रा से पूछा कि सरकार पेट्रोल डीजल के बढ़ते दामों से राहत कब दिलाएगी? इसके जवाब में संबित पात्रा ने 3 कारण गिनाए। संबित पात्रा ने कहा कि देश के बढ़ती तेल की कीमतों का पहला कारण तेल उत्पादक देशों द्वारा कच्चे तेल के प्रोडक्शन में लायी गई कमी है, जिससे अन्तरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतें पूरी दुनिया में बढ़ गई हैं। संबित पात्रा ने दूसरा कारण डॉलर के मुकाबले रुपए की कीमत में आयी गिरावट को जिम्मेदार ठहराया। तीसरा कारण पात्रा ने तेल उत्पादक देश ईरान और वेनेजुएला में चल रहा अस्थिरता के दौर को जिम्मेदार ठहराया।

चूंकि अमेरिका ने ईरान पर कई आर्थिक प्रतिबंध लगाए हुए हैं, जिससे भी भारत में तेल के दामों पर असर पड़ा है। बहरहाल जब एंकर ने सरकार से तेल पर लगने वाले टैक्स में कटौती कर जनता को राहत देने पर सवाल किया तो संबित पात्रा कोई ठोस जवाब नहीं दे सके और उन्होंने इसका दोष राज्य सरकारों पर डाल दिया।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट