ताज़ा खबर
 

लाइव शो में भड़के बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी के संयोजक, बोले- सिर्फ राम की वजह से ऐतिहासिक नहीं है अयोध्या

बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी के संयोजक जफरयाब जिलानी ने कहा कि अयोध्या सिर्फ राम की वजह से ऐतिहासिक नहीं है, वहां बहुत से पैगंबरों के मजार भी हैं जो मुसलमानों की आस्था का केंद्र हैं।
बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी के संयोजक जफरयाब जिलानी।(फोटो- यूट्यूब)

बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी के संयोजक जफरयाह जिलानी ने कहा है कि अयोध्या सिर्फ भगवान राम की वजह से ऐतिहासिक नहीं है। जिलानी ने ये बयान हिंदी न्यूज चैनल आज तक के एक डिबेट प्रोग्राम में दिया। दरअसल मंगलवार को बाबरी मस्जिद केस में लाल कृष्ण आडवाणी, उमा भारती, मुरली मनोहर जोशी सरीके शीर्श बीजेपी नेताओं पर सीबीआई की विशेष कोर्ट में सुनवाई हुई जिसमें उन सभी को जमानत मिल गई। इसी मुद्दे पर आज तक पर एक लाइव डिबेट शो का कार्यक्रम रखा था। इस शो में बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी के संयोजक जफरयाब जिलानी के साथ ही बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी और संघ विचारक राकेश सिन्हा भी मौजूद थे।

शो की एंकर ने जब इस मुद्दे पर जफरयाब जिलानी की राय जाननी चाही तो उन्होंने कहा कि हमेशा से हमारा मकसद रहा है कि अयोध्या का विकास हो। वहां के लोगों के लिए फैक्ट्रियां लगें, वहां टूरिस्ट प्वॉइन्ट ऑफ व्यू से विकास हो। जिलानी ने आगे कहा कि अयोध्या एक ऐतिहासिक शहर रहा है। जिलानी की इस बात को काटते हुए संघ विचारक राकेश सिन्हा ने उनसे पूछा कि आप ये बता दीजिए कि अयोध्यो क्यों ऐतिहासिक शहर है। राकेश सिन्हा के सवाल को नजरअंदाज करते हुए जफरयाब जिलानी आगे बोलते रहे कि हमने हमेशा कोशिश की है कि अयोध्या का विकास हो।

जफरयाब जिलानी को बीच में टोकते हुए शो की एंकर ने भी वही सवाल पूछा जो राकेश सिन्हा पूछ रहे थे। एंकर ने उनसे कहा कि राकेश सिन्हा जी के सवाल का जवाब दीजिए क्योंकि उनका सवाल महत्पूर्ण है। इसपर बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी के संयोजक जफरयाब जिलानी ने कहा कि अयोध्या सिर्फ राम की वजह से ऐतिहासिक नहीं है, वहां बहुत से पैगंबरों के मजार भी हैं जो मुसलमानों की आस्था का केंद्र हैं। जिलानी के इस बयान से राकेश सिन्हा उखड़ गए और उनपर आरोप लगाने लगे कि आप नेशनल चैनल पर बैठ कर ये किस तचरह की बात कर रहै हैं। मामला तूल पकड़ता देख एंकर ने बीच-बचाव किया और एक ब्रेक लेकर मामले को शांत कराया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Narendra Batra
    May 31, 2017 at 3:46 pm
    इस दोगले सुवर को शायद अपना इतिहास नहीं मालूम १४०० साल पुराण भी नहीं है कही कोई ३००० साल पुराणी मस्जिद या चर्च मिला हो तो बताये या गद्दार दोगली मिडिया बताये जब २००० साल पुराणी मूर्तिए मिलती है इससे यही साबित होता है सनातन धर्म ही सबसे पुराण धर्म है बाकि सब है
    (0)(0)
    Reply