ताज़ा खबर
 
title-bar

सेंसर बोर्ड सदस्य अशोक पंडित ने जेएनयू की शहला राशिद को आतंकियों के साथ सोने वाली बताया तो ट्विटर पर मिला करारा जवाब

शेहला राशिद के ट्वीट पर रि-ट्वीट करते हुए अशोक पंडित ने लिखा- "आंतकियों के साथ सोने और जेएनयू में भारत विरोधी नारे लगाने के बजाए संघी होना ज्यादा बेहतर है।"

फिल्म मेकर अशोक पंडित ने शेहला राशिद पर की आपत्तिजनक टिप्पणी।

भारतीय फिल्म निर्माता और सेंसर बोर्ड के सदस्य अशोक पंडित ने जेएनयू की स्टूडेंट और जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन की पूर्व उपाध्यक्ष शहला राशिद के लिए बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी की है। दरअसल शहला राशिद ने महिलाओं पर आधारित किसी फिल्म को सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (CBFC) द्वारा बैन करने का आरोप लगाया गया, जिसके बाद यह विवाद शुरू हुआ। शहला राशिद ने अपने ट्वीट में लिखा- “सीबीएफसी ने एक फिल्म पर प्रतिबंध लगा दिया क्योंकि वह “महिला-उन्मुख” (महिलाओं पर आधारित) थी। सीबीएससी को पहलाज निलानी और अशोक पंडित जैसे मूर्ख संघी चलाते हैं।” शहला राशिद के इसी ट्वीट पर फिल्म निर्माता अशोक पंडित भड़क और राशिद के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की।

शहला राशिद के ट्वीट पर रि-ट्वीट करते हुए अशोक पंडित ने लिखा- “आंतकियों के साथ सोने और जेएनयू में भारत विरोधी नारे लगाने के बजाए संघी होना ज्यादा बेहतर है।” पंडित के इस बयान को लेकर सोशल मीडिया पर उनकी खूब आलोचना हो रही है। पदम सिंह नाम के एक यूजर ने लिखा- किस तरह के संघी है आप? आईएसआई एजेंट, बच्चा तस्कर, गुंडे, ट्रोल्स या बम बनाने वाले? वहीं एक अन्य यूजर ने लिखा- तब भी हैरान होने की जरुरत नहीं है जब अशोक पंडित ऐसा ही अपने परिवार के सदस्य के लिए भी कहेंगे। Aasif Iqubal Khan नाम के यूजर ने लिखा- क्या तुम बीमार शख्स हो? वो (शेहला राशिद) तुम्हारी बेटी की उम्र की है, तुम पब्लिक प्लेटफॉर्म पर कैसे इस तरह की भाषा का इस्तेमाल कर सकते हो।

यूजर्स की ओर से अशोक पंडित के ट्वीट पर आए कमेंट्स