scorecardresearch

कर्नाटक में 10वीं की किताब से भगत सिंह का चैप्टर हटाने पर भड़क गए भगवंत मान, अरविंद केजरीवाल ने दी ऐसी प्रतिक्रिया

पंजाब सीएम (Punjab CM) और दिल्ली के मुख्यमंत्री (Delhi CM) द्वारा किए गए ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर्स अपने कमेंट करने में पीछे नहीं हैं।

Delhi CM| Delhi CM Arvind Kejriwal| Arvind Kejriwal Photo|
पंजाब सीएम के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (File Photo) ।

कर्नाटक के दसवीं की किताब से शहीद भगत सिंह का चैप्टर हटाए जाने पर पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बीजेपी पर भड़क गए। भगवंत मान ने बीजेपी पर भड़कते हुए कहा है कि देश भक्ति के इसी जज्बे से बीजेपी की रूह कांपती है। वहीं केजरीवाल और भगवंत मान द्वारा किए गए ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर्स भी कमेंट्स कर रहे हैं।

केजरीवाल ने बीजेपी पर यूं बोला हमला : दिल्ली सीएम ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी के लोग अमर शहीद सरदार भगत सिंह जी से इतनी नफरत क्यों करते हैं? स्कूल की किताबों से सरदार भगत सिंह जी का नाम हटाना अमर शहीद की कुर्बानी का अपमान है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी लिखा कि देश अपने शहीदों का ये अपमान बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेगा। बीजेपी सरकार को ये फैसला वापस लेना होगा।

बीजेपी पर भड़क गए भगवंत मान : पंजाब के मुख्यमंत्री ने बीजेपी पर भड़कते हुए कहा कि शहीद ए आजम भगत सिंह जी से बीजेपी की नफरत सबके सामने आ गई। कम उम्र में देश के यह जान देकर इंकलाब की लौ जलाने वाले भगत सिंह को पढ़कर आज भी युवाओं में देशभक्ति की लहर दौड़ जाती है। देशभक्ति के इसी जज्बे से डर के मारे बीजेपी की रूह कांपती है।

लोगों की प्रतिक्रियाएं : गजेंद्र भारद्वाज नाम के ट्विटर हैंडल से लिखा गया कि बीजेपी और RSS जानती है कि देश के इतिहास में उनका कोई योगदान नहीं है इसलिए उन्हें न सिर्फ इतिहास से दिक्कत है बल्कि इतिहास में दर्ज हर वाक्य और हर महापुरुष से भी दिक्कत है। एक अन्य ट्विटर द्वारा केजरीवाल से सवाल किया गया कि भगवत सिंह को पूजते सब है, पढ़ता कौन है? आपने पढ़ा है? सूरज त्रिपाठी नाम के एक यूजर द्वारा लिखा गया – बीजेपी सरकार अब शहीदों के नाम पर भी राजनीति कर रही है।

Koo App
By removing a lesson on Bhagat Singh from a school text book in Karnataka, BJP has once again revealed it’s hatred towards Shaheed-e-Azam. The context of the life of this young martyr ignites patriotism, passion and revolution in the hearts of our youth even today. This very patriotic spirit among youth of our country is what frightens the BJP most.
View attached media content
– Bhagwant Mann (@bhagwantmann) 17 May 2022

कर्नाटक शिक्षा विभाग ने दी है यह सफाई : कर्नाटक शिक्षा विभाग ने इस मामले में एक नोटिस जारी करते हुए जानकारी दी है कि दसवीं की किताबों से शहीद भगत सिंह का अध्याय नहीं हटाया गया है। शिक्षा विभाग की ओर से बताया गया है कि किताबें अभी प्रिंटिंग स्टेज में हैं। जानकारी के लिए बता दें कि AIDSO और AISEC की तरफ से दावा किया गया था कि कर्नाटक सरकार दसवीं के किताब से भगत सिंह का अध्याय हटा कर RSS के संस्थापक केशव राम बलिराम हेडगेवार का चैप्टर शामिल किया गया है।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट