ताज़ा खबर
 

कारगिल की याद दिलाई तो भड़क गए अर्नब गोस्‍वामी, अभिनेत्री मीता वशिष्‍ठ को किया शो से बाहर

मीता ने एक वेबसाइट पर लेख लिखकर अपना पक्ष रखा है।
मीता अर्नब के शो द न्‍यूजआवर में हिस्‍सा ले रही थी।

बॉलीवुड अभिनेत्री मीता वशिष्‍ठ को एक टीवी चैनल के कार्यक्रम से निकाले जाने पर विवाद होता नजर आ रहा है। टाइम्‍स नाउ चैनल पर देश में पाकिस्‍तानी कलाकारों पर प्रतिबंध लगाने को लेकर बहस चल रही थी। पैनल में अभिनेत्री मीता वशिष्‍ठ और कारगिल शहीद कर्नल विजयन्‍त थापर के पिता मौजूद थे। इसी बहस के दौरान एंकर अर्नब गोस्‍वामी मीता पर भड़क गए। उन्‍होंने मीता को शो से बाहर जाने के लिए कह दिया। मीता ने सफाई देने की कोशिश की मगर अर्नब के चुप न होने पर वह उन्‍हें ‘शट अप’ बोलकर उठ गईं। शो पर बहस के दौरान क्‍या हुआ, आइए आपको बताते हैं।

बहस के दौरान मीता का कहना था कि अब लोगों को कारगिल याद आ रहा है। जिसपर अर्नब बोले- ”सबसे पहली बात, मैं सरपरस्‍ती वाली आवाजें बर्दाश्‍त नहीं करता, जो कि आप कर रही हैं। आप कह रही हैं कि का‍रगिल में जो हुआ, हम सब उसे भूल गए हैं। कोई कुछ नहीं भूला। हम इसीलिए ये मुद्दा उठा रहे हैं। मुझे नहीं पता कि बॉलीवुड इसे (कारगिल) भूल गया है या नहीं। बॉलीवुड फिल्‍म बनाते वक्‍त यह भूल जाता है। बालीवुड सेनाओं की तस्‍वीरों का इस्‍तेमाल करता हैं। बाॅलीवुड फवाद खान से यह पूछना भूल जाता है कि आप एक भारतीय वीजा पर आए हैं, क्‍या वीजा पर आना  आपको आपके देश पाकिस्‍तान द्वारा प्रायोजित आतंकवाद के प्रति आंखें मूंदने को जायज ठहराता है। क्‍या भारतीय वीजा पर आने वालों कलाकारों को उरी हमलों की निंदा नहीं करनी चाहिए ताकि लोग यह मानें कि भारत-पाकिस्‍तान दोस्‍त हैं। और मीता वशिष्‍ठ पूछती हैं कि मैं बाेल ही क्‍यों रहा हूं। जब मेरे साथ विजयन्‍त थापर के पिता हैं। जिस तरह आप देश के शहीदों के बारे में बोल रही हैं, वह मुझे पसंद नहीं आ रहा।”

बारामूला में फिर आतंकी हमला, देखें वीडियो: 

इस पर मीता कहती हैं, ‘मैं समझ नहीं पा रही। क्‍या आप चिल्‍लाने की बजाय बोल सकते हैं? माफ कीजिए आप मेरी ओपिनियन जानना चाहते हैं या आप चाहते हैं कि मैं आपकी बात मान लूं?” अर्नब नाराज होते हुए कहते हैं, ”एक सेकेंड, मीता आखिरी बार मैं आपको बता रहा हूं, ठीक से समझ लीजिए। आप कर्नल थापर के बारे में बात कर रही हैं। मैं तुरंत आपको शो से बाहर कर रहा हूं जब तक आप सेना के अधिकारी, जो कि एक शहीद का पिता है, से तमीज से बात करना नहीं सीख लेतीं। क्‍या मैं उसे शो से बाहर कर सकता हूं?” मीता अर्नब को ‘शट अप’ बोलकर उठ जाती हैं।

बाद में मीता ने एक वेबसाइट पर लेख लिखकर अपना पक्ष रखा है। उन्‍होंने लिखा है कि कि वो एंकर की बात सुन नहीं पाई थीं, न ही उन्हें बताया गया था कि शो में कारगिल शहीद के पिता भी शामिल हैं।

मीता का पूरा लेख यहां पढ़ें 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Y
    yogendra sharma
    Oct 4, 2016 at 10:51 am
    communisto ke ye dalaal apne aap ko bahut akl wale samjhtey hai. par hai ye dhurt. jab inkey gaal par ek jhnnatey padtaa hai to sari akl inkey ado main ghus jaati hai. koi Russian ya chines communist apney desh ke khilaaf baol saktaa hai. ye Bharat ke communist Russia ya china ke khilaaf bol saktaery hai. .
    (0)(0)
    Reply
    1. Devisahai Meena
      Oct 4, 2016 at 4:19 am
      Arnab Goswami should be asked to undergo a refresher course which teach Indian civilization/culture how to behave . perhaps he nothing see beyond Modii.
      (1)(0)
      Reply
      1. A
        ashok kasture
        Oct 6, 2016 at 8:08 am
        आप क्यों अपना मुह बीचमे दाल रहे है.
        (0)(0)
        Reply
      2. I
        indian
        Oct 6, 2016 at 12:04 pm
        मीट वशिष्ठ एक आर्मी अफसर की बेटी है. यह शायद आप नहीं jaante. अर्णब ने तो वीरों की लाशों पर ही सियासत कर दी
        (0)(0)
        Reply
        1. Tridib Roy
          Oct 31, 2016 at 4:39 pm
          Shame for the profession 'Journalism'! Have anyone ever seen a journo dancing as puppet?
          (0)(0)
          Reply
          1. Tridib Roy
            Oct 31, 2016 at 4:47 pm
            कोई भी पढेलिखे जानते है जर्मन फ़ासिस्ट की दलाली करने से बेहतर है सोशलिस्ट का दलाली करना क्योंकि यह आम आदमी का शोचता है, और आरएसएस केबल घृणा ही जानते है.
            (0)(0)
            Reply
            1. Load More Comments