ताज़ा खबर
 

‘अर्नब गोस्वामी के घर की बालकनी में बैठ गाने सुनना चाहता हूं..’, Republic TV हेड की गिरफ्तारी पर रवीश कुमार का पोस्ट वायरल

Ravish Kumar ने लिखा कि Arnab Goswami जब भी जेल से आएं, अव्वल तो पुलिस उन्हें तुरंत रिहा करे, मैं यही कहूंगा कि कुछ दिनों की छुट्टी लेकर अपने इस सुंदर घर को निहारा करें। इस सुंदर घर का लुत्फ उठाएं।

Author November 5, 2020 1:17 PM
republic tv, poochta hai bharat, debate show, arnab goswami, shivsena leader, vikram singh yadavArnab Goswami

Republic TV के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को 14 दिन की न्यायिक हुिरासत में भेजा गया है। बुधवार की सुबह मुंबई पुलिस ने अर्नब को उनके घर से हिरासत में लिया था। पुलिस की इस कार्रवाई की तमाम केंद्रीय मंत्रियों समेत ढेरों सोशल मीडिया यूजर्स ने मजम्मत की। ऐसे लोगों ने इस कार्रवाई को पत्रकारिता पर हमला बताया।

बुधवार सुबह अर्नब के घर पर जब मुंबई पुलिस की टाम पहुंची तो वहां काफी हंगामा हुआ। अर्नब घर से निकलने को तैयार नहीं थे। पुलिस उन्हें ले जाने पर अड़ी थी। पत्नी और बच्चे मोबाइल से सारी घटना रिकॉर्ड कर रहे थे। इस बीच अर्नब गोस्वामी के घर के अंदर का नजारा भी लोगों को दिखा। अर्नब का घर देखकर वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार (Ravish Kumar) तो हैरान रह गए। इस बात का जिक्र उन्होंने अपने फेसबुक पोस्ट में किया है।

अर्नब गोस्वामी मामले में रवीश ने कहा है कि, ‘मुंबई पुलिस को ये साफ करना चाहिए कि पुराना मामला दोबारा से आखिर क्यों खोला गया है। ताकि लोगों को संतोष हो सके कि अर्नब की गिरफ्तारी कानून के दायरे में हुई है।’ रवीश कुमार ने कहा कि हर कोई अर्नब के साथ खड़ा है लेकिन अर्नब ने कभी ऐसा नहीं किया।

रवीश कुमार ने लिखा कि, ‘अर्णब की पत्रकारिता रेडियो रवांडा का उदाहरण है जिसके उद्घोषक ने भीड़ को उकसा दिया और लाखों लोग मारे गए थे। अर्णब ने कभी भीड़ की हिंसा में मारे गए लोगों का पक्ष नहीं लिया। पिछले चार महीने से अपने न्यूज़ चैनल में जो वो कर रहे हैं उस पर अदालतों की कई टिप्पणियां आ चुकी हैं। तब किसी मंत्री ने क्यों नहीं कहा कि कोर्ट अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर हमला कर रहा है?’

 

रवीश कुमार ने अपने पोस्ट में अर्णब गोस्वामी के घर का जिक्र करते हुए लिखा-  “मैं वह घर देखकर हैरान रह गया। रोज़ 6000 शब्द टाइप करके मैं गाज़ियाबाद के उस फ्लैट में रहता हूं जिसमें कुर्सी लगाने भर के लिए बालकनी नहीं है। अर्णब का घर कितना शानदार है। मैं अर्णब के शानदार घर के विजुअल के सामने असंगठित क्षेत्र के एक मज़दूर की तरह सहमा खड़ा रह गया। मैं तो बस अर्णब के घर की ख़ूबसूरती में समा गया। कल्पनाओं में खो गया। ड्राईंग रूम की लंबी चौड़ी शीशे की खिड़की के पार नीला समंदर बेहद सुंदर दिख रहा था। अरब सागर की हवाएं खिड़की को कितना थपथपाती होंगी। यहां तो क़ैदी भी कवि हो जाए।

मुझे इस बात की खुशी हुई कि अर्णब के दिलो दिमाग़ में जितना भी ज़हर भरा हो घर कैसा हो, कहां हो, कैसे रहा जाए इसका टेस्ट काफी अच्छा है। उसमें सौंदर्य बोध है। बिल्कुल किसी नफ़ीस रईस की तरह जो अपने टी-पॉट की टिकोजी भी मिर्ज़ापुर के कारीगरों से बनवाता हो।  मैं यकीन से कह सकता हूं कि अर्णब के अंदर सुंदरता की संभवानाएं बची हुई हैं। लेकिन सोचिए रोज़ समंदर के विशाल ह्रदय का दर्शन करने वाले एंकर का ह्रदय कितना संकुचित और नफ़रतों से भरा है।

अर्णब गोस्वामी जब भी जेल से आएं, अव्वल तो पुलिस उन्हें तुरंत रिहा करे, मैं यही कहूंगा कि कुछ दिनों की छुट्टी लेकर अपने इस सुंदर घर को निहारा करें। इस सुंदर घर का लुत्फ उठाएं। सातों दिन कई कई घंटे एंकरिंग करना श्रम की हर अवधारणा का अश्लील उदाहरण है। अगर इस घर का लुत्फ नहीं उठा  सकते तो मुझे मेहमान के रूप में आमंत्रित करें। मैं कुछ दिन वहां रहूंगा। सुबह उनके घर की कॉफी पीऊंगा।

वैसे अपने घर में चाय पीता हूं लेकिन जब आप अमीर के घर जाएं तो अपना टेस्ट बदल लें। कुछ दिन कॉफी पर शिफ्ट हो जाएं। और हां एक चीज़ और करना चाहता हूं। उनकी बालकनी में बैठकर अरब सागर से आती हवाओं को सलाम भेजना चाहता हूं और बॉर्डर फिल्म का गाना फुल वॉल्यूम में सुनना चाहता हूं।  ऐ जाते हुए लम्हों, ज़रा ठहरो, ज़रा ठहरो….मैं भी चलता हूं… ज़रा उनसे मिलता हूं… जो इक बात दिल में है उनसे कहूं तो चलूं तो चलूं…. और हां पुलिस की हर नाइंसाफी के खिलाफ हूं। चाहें लिखू या न लिखूं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए Arnab Goswami, लोग बोले- 18 नवंबर तक ध्वनि प्रदूषण पर रोक
2 घर में सोफे पर बैठे अर्णब गोस्वामी को जबरन ‘टांग’ ले गए पुलिसवाले, रिपब्लिक टीवी हेड का वीडियो वायरल
3 ‘लव जिहाद के समर्थक, तुम्हारा कचूमर बनाने के लिए BJP प्रवक्ता को बुलाना पड़ेगा’, मुस्लिम पैनलिस्ट पर चीखने लगे अर्णब गोस्वामी
ये पढ़ा क्या?
X