नौकरी नीलाम करने की कोशिश की तो उसका घर नीलाम होगा- बोले योगी आदित्य नाथ, लोग गिनाने लगे समस्याएं

योगी ने ये भी कहा कि वर्ष 2017 से पहले हर गरीब को मिलने वाला राशन क्यों नहीं मिल पाता था? क्योंकि तब प्रदेश में शासन करने वाले लोग और शागिर्द माफिया गरीबों का राशन हजम कर जाते थे। आज गरीबों का राशन कोई नहीं निगल सकता। अगर निगला तो जेल जरूर जाएगा।

Yogi Aditya Nath, UP CM, Auction the job, House will be auctioned , Kushinagar rally
यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ। (फोटोः एजेंसी)

उप्र के कुशीनगर में सीएम योगी ने आज विपक्ष पर करारे वार किए। उन्होंने विपक्ष को चेतावनी देते हुए कहा कि नौकरी नीलाम करने की कोशिश की तो उसका घर नीलाम होगा। योगी ने ये भी लिखा कि वर्ष 2017 से पहले हर गरीब को मिलने वाला राशन क्यों नहीं मिल पाता था? क्योंकि तब प्रदेश में शासन करने वाले लोग और शागिर्द माफिया गरीबों का राशन हजम कर जाते थे। आज गरीबों का राशन कोई नहीं निगल सकता। अगर निगला तो जेल जरूर जाएगा। हालांकि उनके ट्वीट पर लोगों ने अपनी समस्याएं गिनानी शुरू कर दीं। कुछ यूजर्स ने तंज कस सरकार पर कटाक्ष भी किए।

शिव बहादुर वर्मा ने लिखा- माननीय मुख्यमंत्री जी एम्बुलेंस कर्मचारियों को अवैध रूप से लगभग 5000 कर्मचारियों को निष्कासित कर नये कर्मचारियों को रख लिया। हम सभी 2012 से निरंतर सेवा दे रहे थे कोरोना महामारी में अग्रिम पंक्ति में खड़े होकर सरकार का साथ दिया आपसे अनुरोध है कि सेवा प्रदाता को निर्देश दे। ठाकुर ममता भदौरिया ने लिखा- नौकरी पहले मिले तब ना नीलाम की बात आएगी। आपके सरकार में तो सिर्फ अखबार और पोस्टर में नौकरी दी जाती है। असलियत तो यह है आरक्षण आपका वोट बैंक बन गया है इसलिये ही बढ़ावा दिया जा रहा है। उन्होंने तंज कस कहा कि जनरल वाले पकौड़े तलेंगे।

शिवकार मिश्रा ने लिखा- महराज ये भी आपके ही अधिकारियों की देन है जिसकी वजह से लगभग 2500 नौजवान अंधकार में डूबे हुए है,और आपको गुमराह कर रहें है। आप भी इसपर कुछ नजर नही डाल रहे है,कृपा करके हम नौजवानों को नियुक्ति दे कर हमारे परेशानी को खत्म किया जाय, इसमें हम नौजवानों की क्या गलती।

रागिनी के हैंडल से पोस्ट किया गया- मुख्यमंत्री जी हमारी भी समस्या का समाधान कीजिए। हम जौनपुर से लखनऊ जनता दर्शन में गए पर कोई सुनवाई नहीं हुई। आरती पाल ने लिखा- मुख्यमंत्री पद पर बैठकर लोगों को धमकी दे रहे हैं? पहले घर तो दीजिए फिर नीलाम कीजिएगा, नौकरी अभी मिली कहां है। नीलामी की बात पहले ही कर रहे हैं कब तक झूठ की चादर ओढ़ कर धमकी देंगे। लोगों को कम से कम इंसानों से नहीं तो ऊपर वाले से तो डरिए इंसानियत को शर्मसार करते जा रहे हैं।

बृजेश पासवान ने कटाक्ष किया जरा सरकारी डाटा उठाकर देख लीजिए किस सरकार में कितनी नौकरी मिली हैं। सरकार में कितने आवास मिले हैं। भगवान श्री राम आपको सद्बुद्धि दे। हर्षित भरद्वाज ने लिखा- उत्तर प्रदेश की पहली ऐसी सरकार होगी जिसने नौकरी के नाम पर चपरासी की नौकरी भी नही दी। सिर्फ कागजों और अखबारों मैं नौकरी मिली है युवाओं को। वसीम अंसारी ने लिखा- उप्र शासन द्वारा सहायता प्राप्त मदरसों में खुलेआम नौकरी नीलाम हो रही हैं। आपको चाहिये ? कीमत 20 लाख। आज पैसे दीजिये कल नियुक्ति पत्र।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।