scorecardresearch

फैक्ट-चेक के नाम पर पत्थरबाज़ी करता रहा… अंजना ओम कश्यप ने जुबैर पर कसा तंज तो मिलने लगे ऐसे जवाब

मोहम्मद जुबैर को दिल्ली पुलिस की स्पेशल ब्रांच ने गिरफ्तार किया तो अंजना ओम कश्यप ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है ।

Alt News | Mohammad, Zubair | delhi police
ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद

मोहम्मद जुबैर की गिरफ्तारी पर सोशल मीडिया पर लोगों के विचार दो धड़ों में बंट गए हैं। एक तरफ जहां कुछ लोग मोहम्मद जुबैर को निर्दोष बताकर रिहाई की मांग कर रहे हैं तो वहीँ दूसरी तरफ एक वर्ग जुबैर पर धार्मिक भावनाएं आहत करने, लोगों को उकसाने का आरोप लगाकर कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहा है। इसी बीच पत्रकार अंजना ओम कश्यप ने भी ट्वीट किया है। 

अंजना ओम कश्यप ने ट्विटर पर लिखा कि “वो फैक्टचेक के नाम पर सोशल मीडिया पर सेलेक्टिव पत्थरबाज़ी करता रहा। जिनको फ़ायदा होता रहा आज वही निकले हैं मोहल्ले में!” सोशल मीडिया पर लोग इस पर अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं।

लोगों की प्रतिक्रियाएं: संदीप सिंह ने लिखा कि ‘आज मैडम ने कपिल मिश्रा और यति नरसिम्हानंद को पछाड़ दिया है। ऐसा लग रहा है स्वयं नुपूर शर्मा ट्वीट कर रही हैं।’ निखिल शर्मा ने लिखा कि ‘आप पत्रकार ही हैं ना?’ हिमांशु मिश्रा ने लिखा कि ‘फैक्ट चेक करने के नाम पर काफी कांड कर चुका है इसलिए उसने अपना फोन फार्मेट कर दिया था। लैपटॉप और बाकी गैजेट छुपा दिए ताकि पुलिस के हाथ सबूत न लगे। इसकी अच्छे से जांच हो तो कई बड़े राज खुलेंगे।’

मोहम्मद सलमान नाम के यूजर ने अंजना ओम कश्यप को जवाब देते हुए लिखा कि ‘हलचल तो सिर्फ़ नुकसान वालों में मची हुई है। खैर, आप जश्न मनाओ, केक-शेक एन्जॉय करो और अपनी फैक्ट चेकिंग यूनिट को जरूर इनवाइट कीजियेगा।’ सैय्यद सैफ अशरद नाम के यूजर ने लिखा कि ‘अंजना जी सच का सामना करना हर किसी की बस की बात नहीं है।’

सीमा नाम की यूजर ने लिखा कि ‘मैडम आप से बड़ा सेलेक्टिव कोई और हो नहीं सकता। हम आम जनता हैं और हमें फायदे और नुकसान से मतलब नहीं है लेकिन सही को सही और गलत को गलत कहने की हिम्मत रखते हैं।’ सुधीर मौर्या ने लिखा कि ‘जो लोग जुबैर का समर्थन कर रहे हैं वे लोग इस बात का समर्थन कर रहे हैं कि हिंदू देवी-देवताओं का मजाक उड़ाया जाए।’

बता दें कि ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक प्रतीक सिन्हा ने ट्वीट कर आरोप लगाया कि कि जुबैर को 2020 से एक मामले में पूछताछ के लिए दिल्ली बुलाया गया था लेकिन उन्हें इस नए मामले में बिना किसी अनिवार्य सूचना के गिरफ्तार कर लिया गया। एफआईआर की कोई कॉपी नहीं दी जा रही है।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट