लाइव शो में कश्मीर हिंसा को लेकर एक-दूसरे से उलझ गए पत्रकार और पीडीपी नेता, पूछा- योगी आदित्यनाथ और आतंकवादियों की करेंगे तुलना

कश्मीर हिंसा पर एक न्यूज़ चैनल में हो रही डिबेट के दौरान एंकर ने पीडीपी नेता ताहिर सईद से कहा कि आप की पोल खुल गई।

Uttar Pradesh, Yogi Adityanath
योगी आदित्यनाथ और आतंकवादियों की करेंगे तुलना – लाइव शो में एंकर ने पीडीपी नेता से पूछा सवाल, मिला ऐसा जवाब (फोटो सोर्स – पीटीआई)

कश्मीर हिंसा पर हो रही डिबेट के दौरान एक एंकर और पीडीपी नेता ताहिर सईद एक दूसरे से उलझते नजर आए। एंकर ने सईद से कहा कि आप एक बार यह कह दीजिए कि जिस तरह से आतंकवादियों ने कश्मीर के नागरिकों को मारा है उसी तरीके से सेना भी आतंकवादियों को मारे। इस पर पीडीपी नेता उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जिक्र करने लगे।

न्यूज़ 18 इंडिया के शो ‘देश नहीं झुकने देंगे’ में चल रही डिबेट में एंकर ने पीडीपी नेता से कहा, आप डंके की चोट पर बोलिए कि जिन्होंने हत्या की… उन क्रूर आतंकियों को सेना जहन्नुम में भेजे। सईद ने कहा जो लोग धर्म के नाम पर सियासत करते हैं, वो समाज के लिए खतरा हैं।

डिबेट को मुद्दे से भटकाने का आरोप लगाते हुए पीडीपी नेता ने कहा कि आप लोग डंके की चोट पर कहिए कि योगी आदित्यनाथ देशभक्त नहीं है। सईद द्वारा कही गई बात पर एंकर ने आपत्ति लेते हुए कहा कि यहां पर सीएम योगी की बात कहां से आ गई। एंकर ने पीडीपी नेता से पूछा कि आप आतंकवादियों की तुलना योगी आदित्यनाथ से कर रहे हैं? मैं आपको जो कह रहा हूं आप वह नहीं बोलेंगे क्योंकि ऊपर से आपको बोलने का आदेश नहीं दिया गया है।

इसके बाद एंकर और पीडीपी नेता एक दूसरे से तीखी बहस करने लगे। गौरतलब है कि कश्मीर में आतंकवादियों ने हाल में ही 5 दिनों के अंदर 7 आम नागरिकों की निर्मम हत्या की है। कांग्रेस ने इस विषय पर केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि जम्मू कश्मीर में लोगों की सुरक्षा करने में मोदी सरकार विफल रही है। इन हत्याओं को लेकर केंद्र शासित प्रदेश के एलजी मनोज सिन्हा ने कहा है कि 1990 जैसे हालत नहीं बनने दिए जाएंगे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मैंने अल्पसंख्यक समुदाय के प्रतिनिधियों से मुलाकात की है और उन्हें अपनी सुरक्षा मजबूत करने का आश्वासन दिया है।

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने दावा किया है कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन को अल्पसंख्यकों पर हमले की पूर्व सूचना थी। फिर भी उन्होंने इन इनपुट्स को नजरअंदाज़ किया। इसके बजाय वे केंद्रीय मंत्रियों को सुरक्षा प्रदान करने में व्यस्त थे, जिन्हें जम्मू-कश्मीर में तथाकथित सामान्य स्थिति के बीजेपी के ‘फेक नरेटिव और प्रोपोगेंडा’ को बढ़ावा देने के लिए कश्मीर लाया गया था।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट