scorecardresearch

अमित शाह बोले – बीजेपी सरकार में किसानों को नहीं भरना होगा बिजली बिल, यूजर्स ने कसा तंज – अभी किसकी सरकार है?

गृहमंत्री के इस वादे पर सोशल मीडिया यूजर्स चुटकी लेते हुए अपनी प्रतिक्रिया देने लगे।

Amit Shah Photo| Amit Shah Jansatta| Amit Shah PTI Photo| Amit Shah Troll|
केंद्रीय मंत्री अमित शाह (File Photo – PTI)

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर गृह मंत्री अमित शाह ने कल औरैया के दिबियापुर में एक जनसभा को संबोधित किया। जहां उन्होंने अपने वादों की लिस्ट में एक और वादा जोड़ते हुए कहा कि बीजेपी की सरकार में किसानों को बिजली का बिल नहीं भरना होगा। उनके इस ऐलान पर यूजर्स ने तंज कसते हुए पूछा कि अभी किसकी सरकार है।

शाह का बयान : गृह मंत्री ने जनता से अपील की कि 10 मार्च को भाजपा को जीत दिलाइए। 5 साल तक किसी भी किसान को बिजली का बिल भरना नहीं पड़ेगा। इसके साथ उन्होंने वादा किया कि होली 18 मार्च को है और चुनाव का रिजल्ट 10 मार्च को आएगा। बीजेपी सरकार को 10 मार्च को सत्ता में लाओ और 18 मार्च को मुफ्त गैस सिलेंडर आपके घर पहुंचेगा।

सोशल मीडिया यूजर्स की प्रतिक्रिया : अमित शाह (Amit Shah) के इस बयान पर सोशल मीडिया यूजर्स मजे लेते नजर आ रहे हैं। हेमंत नाम के एक यूजर ने कमेंट किया कि अभी किसकी सरकार है फिर? रजत नाम के एक यूज़र ने बीजेपी सरकार (BJP Government) पर चुटकी लेते हुए लिखा कि अभी क्या ओबामा उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सीएम हैं क्या? प्रीति चौबे नाम की एक यूजर लिखती हैं – झूठ बोलते हो। 7 साल में तो किया नहीं।

Also Read
अमित शाह ने अखिलेश यादव पर साधा निशाना, कहा – इनकी सरकार में ‘कट्टे’ बनते थे, BJP सरकार में पाकिस्तान..

मलिक नाम के एक यूजर ने हंसने वाली इमोजी के साथ कमेंट किया कि जब घरों में बिजली का सप्लाई ही बंद कर देंगे तो बिजली का बिल कैसे भरेंगे बताओ भाई। सूरज नाम के एक यूजर ने कमेंट किया – अरे टेनी के बेटे छूट गए हैं तो कोई किसान उनकी थार से बच पाएगा तब तो उनको बिजली मुफ्त देंगे ना? राजीव निगम नाम के टि्वटर हैंडल से लिखा गया, ‘ रहने ही दो, बाद में कहोगे कि वो चुनावी जुमला था।’

राहुल नाम के ट्विटर यूजर लिखते हैं – बाबा रे बाबा। जुमले पे जुमले दिये जा रहे हो। अभी किसकी सरकार है फिर? निखत अली नाम की एक यूज़र लिखतीं हैं, ‘ अरे इन्हें कोई याद दिलाओ कि इस वक्त भी भाजपा की ही सरकार है।’ राघव नाम के एक यूजर ने लिखा कि भाषण में वजन डालने के लिए बोला गया जुमला। प्रदीप कुमार नाम के एक यूजर ने लिखा कि बाद में यह कहेंगे कि यह तो 15 लाख वाले की तरह एक जुमला था।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट