ताज़ा खबर
 

फिल्ममेकर का ट्वीट- जो भी पीएम मोदी पर जूता फेंकेगा उसे 1 लाख रुपये दूंगा

इस शख्स ने एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा- भारत की नयी संस्कृति में आपका स्वागत है, इस संस्कृति की आधारशिला बीजेपी ने रखी है।'
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

फिल्म पद्मावती पर चल रहे हंगामे के बीच एक फिल्ममेकर ने विवादित बयान दिया है। मुंबई के एक फिल्ममेकर ने ट्वीट किया है कि जो कोई शख्स प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर जूता या चप्पल उछालेगा उसे वो एक लाख रुपये का ईनाम देगा। इस फिल्ममेकर का नाम राम सुब्रह्मण्यम है। इस शख्स का दावा है कि वो कई आंदोलन खड़े कर चुका है। फिल्म पद्मावती पर चल रहे विवाद से ये शख्स काफी नाराज नजर आ रहा है। इस शख्स ने एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा है, ‘एकदम नहीं, मैं उसे एक लाख रुपये देने की घोषणा करता हूं, जो नरेंद्र मोदी जी पर चप्पल या जूता फेंकता है। भारत की नयी संस्कृति में आपका स्वागत है, इस संस्कृति की आधारशिला बीजेपी ने रखी है।’ दरअसल ये शख्स उस ट्वीट पर प्रतिक्रिया दे रहा था, जिसमें कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डी के शिवकुमार ने पद्मावती विवाद से जुड़ा एक ट्वीट किया था। डी के शिवकुमार ने लिखा था, ‘ ये निंदा योग्य है कि बीजेपी का पदाधिकारी अभिनेत्री दीपिका पादुकोण के सर पर 10 करोड़ रुपये के ईनाम की घोषणा कर रहा है, जो कि हमारे राज्य की रहने वाली हैं और भारत के प्रतिष्ठित खिलाड़ी की बेटी हैं। क्या यही बीजेपी की संस्कृति है, क्या वे लोग इसी तरह महिलाओं का सम्मान करते हैं? इस शख्स के खिलाफ तुरंत कार्रवाई की जानी चाहिए।

बता दें कि हरियाणा बीजेपी के नेता सूरज पाल अमू ने फिल्म पद्मावती की अभिनेत्री दीपिका पादुकोण का सर काटने वाले शख्स को 10 करोड़ रुपये का ईनाम देने की घोषणा की थी। सूरज पाल अमू के इस बयान पर फिल्म इंडस्ट्री समेत समाज के हर तबके से जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली थी। बीजेपी ने भी इस शख्स को नोटिस भेजकर इससे जवाब मांगा था। सूरज पाल अमू ने कहा था कि कांट-छांट के बावजूद वे इस फिल्म को रिलीज नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा था कि चाहे क्यों ना उन्हें बीजेपी छोड़नी पड़े लेकिन वे फिल्म रिलीज नहीं होने देंगे।

फिल्म पद्मावती पर देश में लगभग 10 दिनों से संग्राम जारी है। राजपूत संगठनों का कहना है कि डायरेक्टर संजय लीला भंसाली ने इस फिल्म में तथ्यों के साथ छेड़छाड़ की है, और राजपूत इतिहास को गलत नजरिये से दिखाया है। करणी सेना जैसे संगठन इस फिल्म को कूड़ेदान में फेंकने की मांग कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    ram awadh
    Nov 25, 2017 at 11:31 am
    Bahut sahi kaha.
    (0)(0)
    Reply
    1. R
      ram awadh
      Nov 25, 2017 at 11:30 am
      Sorry, बहुत ी कहा।
      (0)(0)
      Reply
      1. R
        ram awadh
        Nov 25, 2017 at 11:28 am
        बहुत ी कहा।
        (0)(0)
        Reply
        1. H
          HIRA KANT
          Nov 24, 2017 at 3:08 pm
          जिस तरह मोदी का राष्ट्रीय - अंतर राष्ट्रीय ग्राफ बढ़ा है, उससे इनके दुश्मनो का भी इजाफा होगा ही. और हमने देखा है, कि इंदिरा का भी विरोध हुआ है. मुझे याद है,कि १९७२ में इंदिरा जी को एक घटिया अपशब्द बिहार के बेनीपुर नामक स्थान पर हुआ. दो स्लोगन थे जो यहाँ लिखना अतिश्योक्ति होगी. इस सुब्रमणियम नामक फ़िल्मकार ने जो घटियापन दिखाया है, इसके लिए ठोस कार्रवाई कि आवश्यकता है. मै शाशन से अपील करता हु कि जरूर से जरूर संज्ञान ले. लोकतंत्र का मतलव ऐसे लोगो को समझाना उचित. है. राजतन्त्र में अबतक फांसी कि घोषणा हो गयी होती.
          (2)(3)
          Reply
          1. R
            ram awadh
            Nov 25, 2017 at 11:46 am
            अरे ये तो 2019 में सौ प्रतिशत हारेगा ,सिर्फ बातें और कॉमेडी करता है काम कुछ नहीं करता 1.बनता है राष्ट्रवादी धारा 370 ख़तम करने की औकात नहीं। 2.रोजगार के द्वार पर ताला लगा दिया,बोला था 2 करोड़ रोजगार देंगे। 3.देश की विकास दर गिरा के देश का सत्यानाश कर दिया। 4.रोज जवान अपनी बलि दे रहे हैं। 5.गरीब जनता की रेल व्यवस्था चौपट करके उद्योगपतियों के लिए बुलेट ट्रेन चलवाएगा। 5.सिर्फ बोलता हिंदी में है हिन्दी को गर्त में धकेल दिया,पिछले वर्ष एनजीटी में हिंदी में अपील अस्वीकार्य हो गई,योजनाएं अंग्रेजी में लॉन्च हो रही है स्टार्टअप इंडिया स्टैंडअप इंडिया ,न्याय अब भी हिंदी नहीं मिलता,आईआईटी/एम्स में हिंदी माध्यम कब शुरू होगा। इससे बड़ा डरपोक कोई नहीं है,इसे रिलायंस जिओ ने 2014 में पब्लिसिटी करके लॉन्च किया था।रिलायंस उत्पादों की असलियत बाद में पता चलती है।
            (2)(0)
            Reply