ताज़ा खबर
 

अमर सिंह बोले: ‘पांच-सात सौ बंदूकें लेकर रामपुर गया था, आजम खान निकलता तो मार देता’

अमर सिंह आगे बोले कि "मुझे शर्म आती है कि हिंदुत्व की सरकार है और योगी जी मुख्यमंत्री हैं, मैंने पत्रकार सम्मेलन किया, योगी जी के पास गया, राज्यपाल के पास गया, लेकिन कुछ नहीं हुआ।

Author Updated: December 23, 2018 10:16 PM
सपा के पूर्व नेता अमर सिंह। (image source-Facebook/video grab image)

सपा के पूर्व कद्दावर नेता अमर सिंह और सपा के मौजूदा प्रभावशाली नेता आजम खान के बीच तकरार जगजाहिर है। दोनों नेता एक दूसरे पर सार्वजनिक तौर पर बयानबाजी करने से भी पीछे नहीं हटते। लेकिन एक हालिया इंटरव्यू में अमर सिंह ने खुलासा किया कि उनके और आजम खान के बीच की तनातनी, बयानबाजी से काफी आगे निकल गई है। दरअसल न्यूज 18 के साथ एक इंटरव्यू में अमर सिंह ने अपने और आजम खान के बीच की दुश्मनी का कच्चा-चिट्ठा खोलकर रख दिया है। पत्रकार ने अमर सिंह से उनकी और आजम खान की एक-दूसरे के प्रति नाराजगी का कारण जानना चाहा और पूछा कि इसका शुरुआत कहां से हुई? इस सवाल के जवाब में अमर सिंह ने खुलासा करते हुए बताया कि उनके और आजम खान के बीच झगड़े की शुरुआत जयाप्रदा के कारण हुई और वह ये बात ऑन रिकॉर्ड बोल रहे हैं।

अमर सिंह ने कहा कि जयाप्रदा जी आजम खान की उम्मीदवार थीं और उनका जयाप्रदा के साथ दूर-दूर तक संबंध नहीं था। जयाप्रदा के साथ आजम खान ने कुछ ऐसा हुआ, जिस पर वह बोलना चाहें या ना चाहें ये उनका अधिकार है। हालांकि लोग बोल रहे हैं! अमर सिंह ने बताया कि उन्होंने जब इस बात की शिकायत तत्कालीन सपा अध्यक्ष मुलायम सिंह से की तो उन्होंने भी आजम खान के खिलाफ कोई कार्रवाई करने से इंकार कर दिया। जिसके बाद उनके और आजम खान के बीच झगड़े की शुरुआत हो गई। बातचीत के दौरान अमर सिंह ने आजम खान के एक कथित इंटरव्यू का जिक्र किया, जिसमें अमर सिंह के अनुसार, आजम खान ने कहा था कि अमर सिंह और अमर सिंह जैसे लोगों की जवान होती बेटियों को तेजाब डालकर जलाना चाहिए और उनके जैसे लोगों की बहु-बेटियों को खींचकर टुकड़े-टुकड़े करना चाहिए!

अमर सिंह आगे बोले कि “मुझे शर्म आती है कि हिंदुत्व की सरकार है और योगी जी मुख्यमंत्री हैं, मैंने पत्रकार सम्मेलन किया, योगी जी के पास गया, राज्यपाल के पास गया, लेकिन कुछ नहीं हुआ। 10 दिनों तक प्रतीक्षा की और फिर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि रामपुर जा रहा हूं। 500-700 बंदूके राइफल लीं और रामपुर गया। मैं बंदूक लेकर जीप में चल रहा था और ऐसा लग रहा था कि जैसे मैं घोड़े पर हूं और मेरे हाथ में बंदूक थी और मुझे लग रहा था कि मेरे हाथ में शमशीर है और मैं खुद शमशेर हूं। अमर सिंह ने जोर देकर कहा कि यकीन करिए, अगर आजम खान घर से निकलता तो हिंसा होती, या तो वो मुझे मारता या मैं उसे मारता।”

बता दें कि बीते अगस्त माह में अमर सिंह ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आजम खान पर निशाना साधा था और आरोप लगाया था कि ‘आजम खान ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा है कि अमर सिंह और अमर सिंह जैसे लोगों की बेटियों पर तेजाब फेंकना चाहिए और अमर सिंह जैसे लोगों की बहू-बेटियों को खींचकर काटना चाहिए।’ अपनी इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमर सिंह ने सपा सरकार को भी निशाने पर लिया था और उसे ‘नमाजवादी पार्टी’ करार दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 टीवी डिबेट में नाराज हुईं एंकर, मोबाइल उठा रागिनी नायक से कहा- राहुल गांधी से ट्वीट करवाइए
2 अलका लांबा से आप ने नहीं लिया इस्तीफा, ‘भारत रत्न वापसी’ विवाद के बाद टीम केजरीवाल की हो रही लानत-मलानत
3 ‘आतंकी पर दया करने के बाद खुद को देशभक्‍त न कहें’, नसीरुद्दीन शाह को योगेश्‍वर का जवाब