ताज़ा खबर
 

श्री श्री पर बरसे ओवैसी- जिसने यमुना को बर्बाद कर दिया, वो चला है राम को बचाने!

चर्चा में भाग लेते हुए बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि आरोप लगने के डर से मुस्लिम नेता राम मंदिर पर समझौते से बच रहे हैं।
ओवैसी ने श्री श्री रविशंकर पर अयोध्या विवाद सुलझाने के मामले में झूठ बोलने का भी आरोप लगाया और उन्हें जोकर भी कहा।

हैदराबाद के सांसद और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने धर्मगुरू श्री श्री रविशंकर पर हमला बोला है और उन्हें श्री श्री कहने से इनकार किया है। न्यूज 18 इंडिया के कार्यक्रम चौपाल में भाग लेते हुए ओवैसी ने कहा कि जिस व्यक्ति ने यमुना को बर्बाद कर दिया, वो चला है राम को बचाने। ओवैसी ने श्री श्री रविशंकर पर अयोध्या विवाद सुलझाने के मामले में झूठ बोलने का भी आरोप लगाया और उन्हें जोकर भी कहा। उन्होंने कहा कि श्री श्री ने कभी भी मुस्लिम पर्नल लॉ बोर्ड के सदस्यों से मुलाकात नहीं की लेकिन उन्होंने देश और मीडिया के सामने ऐसा कहकर झूठ बोला।

इस चर्चा में भाग लेते हुए बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि आरोप लगने के डर से मुस्लिम नेता राम मंदिर पर समझौते से बच रहे हैं। स्वामी ने कहा कि ब्रिटिश हुक्मरानों ने ही देश को धर्म के आधार पर बांट दिया था। उन्होंने कहा कि अंग्रेजों ने मुसलमानों के लिए पाकिस्तान बनाया था। सुब्रमण्यम स्वामी ने ओवैसी पर तीखा हमला बोलते हुए उन्हें राष्ट्रभक्त मानने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि जब मुसलमान समझौते के तहत जमीन देने को तैयार हैं तो उनके जैसे लोग क्यों विरोध कर रहे हैं।

चर्चा के दौरान दोनों नेताओं के बीच जमकर तीखी बहस हुई। स्वामी ने कहा कि मस्जिद नमाज की जगह कहीं भी पढ़ी जा सकती है उसके लिए हम जगह देने को तैयार हैं। लगे हाथ स्वामी ने यह भी कहा कि ओवैसी यह बात मान लें कि उनके पूर्वज हिन्दू थे, तब वे मान लेंगे कि ओवैसी राष्ट्रभक्त हैं। बता दें कि दो साल पहले आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लीविंग ने दिल्ली में यमुना के किनारे वर्ल्ड कल्चरल फेस्टिवल किया था, जिस पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने आपत्ति जताई थी और प्रदूषण फैलाने पर जुर्माना लगाया था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Dec 7, 2017 at 9:20 pm
    कभी ताजमहल को तेजोमहालय शिवमंदिर बताकर और अब ज़ामा मस्ज़िद को जमुना देवी को मंदिर बताकर कौमी भाईचारे को ख़त्म कर देने की साज़िश की जा रही है, ताकि सांप्रदायिक ध्रुवीकरण हो और वोटों की फसल काट सकें ! भगवा ब्रिगेड की हिमाक़तें बढ़ती जा रही हैं ! क्योंकि इन लोगों ने बाबरी मस्जिद को अदालत की मुमानियत होने के बाबजूद ध्वस्त कर दिया , रामजन्मभूमि बताकर ! चूँकि अदालत ने कोई सख़्त कार्रवाई नहीं की, इसीलिए इन लोगों के होंसले बढ़ते जा रहे हैं ! अफ़सोस ! आज हिन्दोस्तान में शाही इमाम सैयद अब्दुल्ला बुखारी और सैयद शहाबुद्दीन जैसी अज़ीम शख्सियतें मौजूद नहीं हैं , इसीलिए बाबरी मसज़िद की ज़ंग कमजोर पड़ती जा रही है ! सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड वालों ! कान खोलकर सुन लो कि यदि तुम लोग बाबरी मसज़िद की ज़ंग में ढीले पड गए और बाबरी मस्ज़िद वाली जगह पर ही दोवारा से बाबरी मस्ज़िद की तामीर से कम, कुछ कबूल किया तो ये फ़िरक़ापरस्त ताक़तें यहीं सिलसिला ख़त्म नहीं करेंगीं बल्कि आहिस्ता आहिस्ता, ये सभी इस्लामी इमारतों पर कब्ज़ा जताएंगे !
    (1)(0)
    Reply
    1. M
      manish agrawal
      Dec 7, 2017 at 9:16 pm
      कभी ताजमहल को तेजोमहालय शिवमंदिर बताकर और अब ज़ामा मस्ज़िद को जमुना देवी को मंदिर बताकर कौमी भाईचारे को ख़त्म कर देने की साज़िश की जा रही है, ताकि सांप्रदायिक ध्रुवीकरण हो और वोटों की फसल काट सकें ! भगवा ब्रिगेड की हिमाक़तें बढ़ती जा रही हैं ! क्योंकि इन लोगों ने बाबरी मस्जिद को अदालत की मुमानियत होने के बाबजूद ने ाबूद कर दिया , रामजन्मभूमि बताकर ! चूँकि अदालत ने कोई सख़्त कार्रवाई नहीं की, इसीलिए इन लोगों के होंसले बढ़ते जा रहे हैं ! अफ़सोस ! आज हिन्दोस्तान में शाही इमाम सैयद अब्दुल्ला बुखारी और सैयद शहाबुद्दीन जैसी अज़ीम शख्सियतें मौजूद नहीं हैं , इसीलिए बाबरी मसज़िद की ज़ंग कमजोर पड़ती जा रही है ! सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड वालों ! कान खोलकर सुन लो की यदि तुम लोग बाबरी मसज़िद की ज़ंग में ढीले पड गए , तो ये फ़िरक़ापरस्त ताक़तें यहीं सिलसिला ख़त्म नहीं करेंगीं बल्कि आहिस्ता आहिस्ता, ये सभी इस्लामी इमारतों पर कब्ज़ा जताएंगे !
      (0)(0)
      Reply