ताज़ा खबर
 

कश्मीर के बाद अब कठुआ गैंगरेप पर बोले क्रिकेटर शाहिद आफरीदी

शाहिद अफरीदी के ट्वीट पर कई लोग प्रतिक्रिया देते हुए उनकी बात से सहमति जता रहे हैं। एक ने लिखा, "आपसे सहमत हैं, इंसानियत पहले हैं, हम बच्ची के लिए न्याय की मांग करते हैं।"

Author नई दिल्ली | April 19, 2018 3:20 PM
पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेट कप्तान शाहिद अफरीदी (Express file photo)

कश्मीर मुद्दे पर ट्वीट कर भारतीय सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आए पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने एक बार फिर कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ रेप और फिर उसकी निर्मम हत्या करने के मामले को लेकर ट्वीट किया है। हालांकि इस बार लोग उन्हें ट्रोल नहीं कर रहे हैं। शाहिद अफरीदी ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, “चाहे 6 वर्षीय कसूर की बच्ची हो या जम्मू की 8 वर्षीय बच्ची, ऐसी बर्बर और अमानवीय कृत्यों की कठोर निंदा होनी चाहिए और जो भी इसके पीछे हैं उन्हें ज्यादा से ज्यादा सजा मिलनी चाहिए। इन केसों से अपराधियों को एक सबक मिलना चाहिए ताकि कोई भी बेटी ऐसे जघन्य अपराध का शिकार न बन सके।”

शाहिद अफरीदी के ट्वीट पर कई लोग प्रतिक्रिया देते हुए उनकी बात से सहमति जता रहे हैं। एक ने लिखा, “आपसे सहमत हैं, इंसानियत पहले हैं, हम बच्ची के लिए न्याय की मांग करते हैं।” एक ने लिखा, “जब तक आरोपियों को मौत की सजा नहीं होगी तबतक ऐसे ही केस होते रहेंगे।” एक ने लिखा, “इस तरह के अमानवीय कृत्य पर आवाज उठाने के लिए आपका शुक्रिया, आप केवल फील्ड पर हीरो नहीं बल्कि असलियत में भी हैं। हम कश्मीरी आपसे बहुत प्यार करते हैं, आपका बहुत-बहुत शुक्रिया।” एक ने लिखा, “इस अमानवीय कृत्य के बाद हम खुद को इंसान कहने का हक खो चुके हैं। अगर हम जानवर होते तो हमारे पास अभी भी आचरण होता। हम सबको खुदपर शर्म आनी चाहिए।”

 

आपको बता दें कि शाहिद अफरीदी से पहले शोएब अख्तर भी कठुआ गैंगरेप पर अपना आक्रोश दिखा चुके हैं। अपने ट्विटर हैंडल पर शोएब अख्तर ने लिखा था, “यह देखकर बहुत दुखी हूं। हमने पहले ही जैनब को खो दिया और अब उसे। हिन्दू, मुसलमान और किसी भी धर्म की हों, ये हमारी बच्चियां हैं जिन्हें हमारे शहरों और गांवों में बे-आबरू किया जा रहा है। हमें शायद अपराधियों से कड़ाई से निपटना चाहिए और उनके खिलाफ कोई दया नहीं दिखानी चाहिए। बस उन्हें फांसी पर लटका दो।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App