scorecardresearch

यूपी में किसे मिली जीत, मोदी या योगी? केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से पूछा गया सवाल तो मिला ये जवाब

उत्तर प्रदेश में भाजपा मोदी या योगी, किसकी वजह से जीती? केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार दोनों के कार्यों की वजह जीत मिली है।

Nitin Gadkari Photo| NItin| Nitin Gadkari PTI|
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (फाइल फोटो – पीटीआई/फाइल)

उत्तर प्रदेश में भाजपा को प्रचंड जीत मिल चुकी है, योगी आदित्यनाथ दोबारा मुख्यमंत्री बन चुके हैं। ऐसे में सबके दिमाग में यही सवाल चल रहा है कि भाजपा विरोध में माहौल बनाए जाने के बाद भी इतनी बड़ी जीत किसकी वजह से मिली? एक इंटरव्यू के दौरान जब केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से यही सवाल पूछा गया तो आगे पढ़िए क्या जवाब मिला।

यूपी में भाजपा को किसकी वजह से मिली जीत?: ABP न्यूज के एक इंटरव्यू में शामिल हुए नितिन गडकरी से पूछा गया कि उत्तर प्रदेश में भाजपा को मिली जीत किसकी जीत है? क्या योगी जी के लोकप्रियता की जीत है या मोदी जी के दिशानिर्देश की जीत है?  इस पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि “भारतीय जनता पार्टी की केंद्र सरकार का काम और यूपी में योगी सरकार द्वारा किए गये कार्यों का नतीजा ही है कि भाजपा को इतनी बड़ी जीत मिली है।”

“गुंडों के खिलाफ योगी जी ने दिखाई हिम्मत”: नितिन गडकरी ने कहा कि “उत्तर भारत में कानून-व्यवस्था को लेकर कई समस्याएं थीं। एक हिम्मत योगी जी ने दिखाई और जो गुंडे थे उनके खिलाफ कार्रवाई की। इससे कानून व्यवस्था का राज स्थापित हुआ। लोकतंत्र में अगर कानून का सम्मान और डर न रहे तो यह अच्छी बात नहीं है। कानून व्यवस्था के लिए योगी जी ने जो भूमिका निभाई, उससे माताओं-बहनों में एक विश्वास जगा है।”

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि “लोगों में जाति, धर्म, समुदाय से ऊपर उठकर लोगों में कानून पर विश्वास जगा। सरकार द्वारा जो कार्य किये गये उस पर लोगों ने भरोसा जताया। गंगा शुद्धि, जलमार्ग, नॅशनल मार्ग पर कार्य करने से लोगों को आराम मिला तो फायदा सरकार को मिला है। नितिन गडकरी ने यह भी बताया कि उन्होंने सीएम योगी से वादा किया है कि साल 2024 से पहले यूपी की सड़कें अमेरिका की सड़कें जैसी होंगी।

बता दें कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा को दूसरी बार लगातार बहुमत प्राप्त हुआ। मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी को हार का सामना करना पड़ा। ये सब तब हुआ जब उत्तर प्रदश में भाजपा के खिलाफ माहौल बनाने की पूरी कोशिश की गई थी। गौरतलब है कि 25 मार्च को योगी आदित्यनाथ ने दूसरी बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ले चुके हैं।

पढें ट्रेंडिंग (Trending News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट