ताज़ा खबर
 

सिंघवी ने ट्वीट कर बताया, क्यों हटाया कांग्रेस एप…? यूजर्स ने लिए खूब मजे

बीजेपी ने आरोप लगाया कि जब कांग्रेस के एप पर बिना अनुमति उपयोगकर्ताओं के डाटा इकठ्ठा करने के आरोप लगे तो पार्टी ने प्ले स्टोर से अपने एप ही हटा लिए। अब अपने ऊपर लगे आरोपों पर कांग्रेस ने सफाई दी है।

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी। (file photo)

देश की राजनीति में ‘एप’ की एंट्री एक के बाद एक कई दिलचस्प मोड़ ले रही है। कांग्रेस बीजेपी पर सवाल उठा रही है कि पार्टी के सबसे प्रचलित एप में से एक ‘नमो एप’ यूजर्स का डाटा एकत्रित कर रही है तो बीजेपी कांग्रेस के एप को यूजर्स से दगाबाज़ी करने वाला एप बता रही है। हालांकि अभी तक किसी यूजर ने दोनों ही पार्टियों के एप को लेकर कोई शिकायत नहीं की है, लेकिन राजनीति में दोनों पार्टियों की आपसी शिकायतें जारी हैं। इस बीच बीजेपी ने आरोप लगाया कि जब कांग्रेस के एप पर बिना अनुमति उपयोगकर्ताओं के डाटा इकठ्ठा करने के आरोप लगे तो पार्टी ने प्ले स्टोर से अपने एप ही हटा लिए। अब अपने ऊपर लगे आरोपों पर कांग्रेस ने सफाई दी है।

कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने बाकयदा ट्वीट कर बतलाया है कि आखिर क्यों कांग्रेस ने अपना एप हटाया…?। अभिषेक मनु सिंघवी ने अपने ट्वविटर पर लिखा कि कांग्रेस सीधी सदस्यता चाहती है, ना कि मिस्ड कॉल प्रारुप. इसपर सिर्फ 15,000 डाउनलोड थे. हमारे सदस्य इसे नहीं चलाना चाहते थे। हालांकि अभिषेक मनु सिंघवी ने तो यह सफाई देकर इस पूरे विवाद से कांग्रेस को बचाने की कोशिश की, लेकिन सोशल साइट ट्वविटर पर लोग अब सिंघवी के इस ट्वीट पर खूब मजे ले रहे हैं। कई लोग इस एप के महज 15,000 डाउनलोड्स को लेकर कांग्रेस का मजाक भी उड़ा रहे हैं।

एक यूजर्स अनुराग दीक्षित लिखते हैं कि ‘एप भी चेंबर में डाउनलोड करा रहे थे क्या’…? वहीं एक दूसरे ट्वविटर उपयोगकर्ता विक्रांत, कांग्रेस नेता सिंघवी के इस ट्वीट पर चुटकी लेते हुए लिखते हैं कि ‘कम सें कम तुर्की से ही मदद मांग लेते’… जाहिर है एप विवाद में कांग्रेस बुरी तरह घिरती नज़र आ रही है। पार्टी के नेता कांग्रेस एप को डिलीट किये जाने को लेकर ट्वीट कर रहे हैं तो भी वो यूजर्स के निशाने पर आ जा रहे हैं। आपको बता दें कि सबसे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ही ‘नमो एप’ पर सवाल उठाते हुए कहा था कि इस एप के जरिए उपयोगकर्ताओं की निजी जानकारियां बिना उनकी अनुमति के स्टोर की जा रही है।

कांग्रेस की तरफ से किये गये इस हमले से बीजेपी बुरी तरह बौखला गई थी। पार्टी ने कांग्रेस एप को लेकर सवाल खड़े किये। जिसके बाद जल्दी ही प्ले स्टोर से कांग्रेस एप डिलीट भी होने लगे। इस मुद्दे को लेकर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर तंज भी कसा था। बहरहाल कांग्रेस की तरफ से ट्ववीट कर यह बता दिया गया है कि आखिर पार्टी ने कांग्रेस एप क्यों डिलीट किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App