ताज़ा खबर
 

PM मोदी के खिलाफ Twitter war में उल्टा पड़ा AAP का दांव, हुई खूब किरकिरी

प्रधानमंत्री मोदी को निशाना बनाने के लिए किए गए इन ट्वीट्स को कई वरिष्‍ठ पत्रकारों ने बेहद शर्मनाक बताया है।

Author नई दिल्‍ली | July 31, 2016 20:04 pm
आम आदमी पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए सभी ट्वीट।

आम आदमी पार्टी ने गुजरात के चर्चित स्‍नूपगेट कांड को फिर से हवा देने की को‍शिश की है। रविवार को पार्टी के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से #ModiAndMadhuri हैशटैग के तहत कई ट्वीट्स किए। प्रधानमंत्री मोदी को निशाना बनाने के लिए किए गए इन ट्वीट्स को कई वरिष्‍ठ पत्रकारों ने बेहद शर्मनाक बताया है। ABP News के वरिष्‍ठ टीवी पत्रकार अभिसार शर्मा ने ट्विटर पर लिखा, ”यह शर्मनाक है कि पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ऐसे ट्वीट किए जा रहे हैं।” वरिष्‍ठ पत्रकार अल्‍का सक्‍सेना ने लिखा, ”हैशटैग #ModiAndMadhuri निश्चित तौर पर घटिया है और राजनीतिक बहस के स्‍तर को गिराता है। साथ ही महिला निजता की पूरी हकदार है, उसका सम्‍मान करें।” CNN IBN की पत्रकार रूपश्री नंदा ने कहा कि ”यह हैशटैग #ModiAndMadhuri ठीक नहीं है। आम आदमी पार्टी की सोशल मीडिया टीम से ऐसी उम्‍मीद नहीं थी।” वरिष्‍ठ पत्रकार शेखर गुप्‍ता ने आप के ट्वीट को शेयर करते हुए लिखा, ”देखिए, इस तरह आम आदमी पार्टी राजनैतिक बहस की मर्यादा गिरा रही है।” उन्‍होंने आप के नेता आशुतोष को ट्वीट में टैग करते हुए कहा कि यह ‘चौंकाने वाला हैशटैग AAP के आधिकारिक हैंडल से चलाया गया है।’

वहीं, NDTV की पत्रकार स्‍वाति चतुर्वेदी ने ट्वीट किया, ”कृपया ऐसा न करें। इससे राजनीतिक बहस का स्‍तर गिरता है और वह महिला अपनी प्राइवेसी की हकदार है।” सोशल मीडिया पर कई लोगों ने आम आदमी पार्टी के इस हैशटैग और इससे जुड़े ट्वीट्स की तीखी निंदा की है। यूजर्स का कहना है कि राजनीतिक आरोप-प्रत्‍यारोप के बीच किसी पार्टी के आधिकारिक सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म से ऐसी पोस्‍ट करना उ‍चित नहीं है।

आम आदमी पार्टी ने किए थे ये ट्वीट:

READ ALSO: हाशिमपुरा नरसंहार: पूर्व एसपी ने लिखी किताब, कहा- अब तक मन पर बोझ है वो भयानक रात

वरिष्‍ठ पत्रकारों ने बताया ‘शर्मनाक’:

READ ALSO: खुद को भाजपा का नौकर बताने पर भड़के केन्‍द्रीय मंत्री, कहा- मायावती हैं BJP की गुलाम, मैं नहीं

पत्रकारों के विरोध के बावजूद पार्टी ने इन ट्वीट्स और हैशटैग को सही ठहराने की कोशिश की। शेखर गुप्‍ता की टिप्‍पणी पर जवाब देते हुए आप के नेता आशीष खेतान ने लिखा, ”कृपया पहले टेप्‍स सुन लीजिए। आपको नहीं लगता कि माेदी जी पर लगे जासूसी और पीछा कराने के आरोपों की जांच होनी चाहिए?” इस पर गुप्‍ता ने कहा कि ‘अगर आप यही बताना चाहते हैं तो इस दुर्भाग्‍यपूर्ण हैशटैग के बिना भी बता सकते हैं। नहीं, सड़कों पर होने वाली फाइट्स के भी कुछ नियम होते हैं।’ इस पर खेतान ने लिखा, ”क्‍या आपने वीडियो देखा? क्‍या आप ऐसे प्रधानमंत्री का समर्थन करते हैं जो अपने से आधी उम्र की जासूसी करवाता है? वीडियो देखने के बाद बेहतर हैशटैग सुझाएं।”

READ ALSO: देशभर में दलितों के खिलाफ हो रहे अत्याचारों के विरोध में भाजपा के दलित सांसद पार्टी से इस्तीफा दें: केजरीवाल

सोशल मीडिया पर भी आम आदमी पार्टी के इन ट्वीट्स की खूब निंदा हुई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App