AAP MLA Kapil Mishra attacks CM Arvind Kejriwal calling him Ghungru Seth, Twetterati make fun - 'आप' के बागी MLA का केजरीवाल पर तंज- मेरा इस्तीफा मांगकर 20 विधायक खो दिए घुंघरू सेठ ने - Jansatta
ताज़ा खबर
 

‘आप’ के बागी MLA का केजरीवाल पर तंज- मेरा इस्तीफा मांगकर 20 विधायक खो दिए घुंघरू सेठ ने

आम आदमी पार्टी (आप) के बागी विधायक कपिल मिश्रा ने पार्टी के मौजूदा हालातों पर जोरदार तंज कसा है और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को इशारों -इशारों में घुंघरू सेठ कह दिया है।

पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ अरविंद केजरीवाल।

आम आदमी पार्टी (आप) के बागी विधायक कपिल मिश्रा ने पार्टी के मौजूदा हालातों पर जोरदार तंज कसा है और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को इशारों-इशारों में घुंघरू सेठ कह दिया है। दरअसल, शुक्रवार (19 जनवरी) को ‘लाभ के पद’ मामले में चुनाव आयोग ने आप के 20 विधायकों की सदस्यता रद्द करने की सिफारिश की थी। इस पर आप ने तुरंत हाईकोर्ट की शरण ली, लेकिन वहां भी पार्टी को मायूसी और फटकार ही हाथ लगी। कोर्ट ने कहा- ”आप ने खुद से ही तय कर लिया कि उसे चुनाव आयोग के पास जाना है या नहीं। जब पार्टी चुनाव आयोग के पास गई ही नहीं तो वह मामले में सुनवाई नहीं होने की बात कैसे कह सकती है।” कोर्ट ने फिलहाल आप को राहत नहीं दी है। इसी घटनाक्रम पर कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया- ”मेरा इस्तीफा मांगते-मांगते 20 विधायक खो दिए घुंघरू सेठ ने … गिद्धों के मनाने से गाय नहीं मरती चपडगंजू।”

 

कपिल मिश्रा के यह ट्वीट करने भर की देर थी कि ट्विटर पर यूजरों को मसाला मिल गया। यूजरों ने केजरीवाल और पार्टी का जमकर मजाक बनाया। स्नेहा सिंघवी ने लिखा- ”वर्ड ऑफ द डे, चपडगंजू।” नवी ने लिखा कि आज कपिल मिश्रा और कुमार विश्वास पार्टी करेंगे। झांसी की रानी नाम की एक यूजर ने कहा कि मालिक पहले से बहुत दुखी है, आप उस पर नमक न डालें, चाहें तो तेजाब डाल दें। मनमोहन गोस्वामी ने लिखा- ”हाई कोर्ट ने निकाली घुंगरू सेठ की बारात, बीस बिना कार्ड के बाराती, हाहाहा अब तो किसी और के गले में वरमाला डालेंगे घुंगरू।”

सुचेता शर्मा ने कपिल मिश्रा को आईना दिखाते हुए लिखा- ”मिश्रा सर, प्रशांत पटेल का दिमाग लगा है विधायकों की सदस्यता रद्द करने में, वो अकेले आप पर भारी पड़े।” अभिषेक ने लिखा कि गुप्ता जी ने आते ही आप की हालत गुप्त कर दी। रिषी ने लिखा- ”केजरीवाल की हालत को देखकर एक कहावत याद आ गई- चौबे जी गए थे छब्बे बनने और दुबे बनकर रह गए। बता दें कि हाईकोर्ट में सोमवार को इस मामले पर अब सुनवाई होनी है। आप की तरफ से चुनाव आयोग पर आरोप लगाया जा रहा है कि उसका पक्ष सुने बिना फैसला लिया गया।

 

 

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App