ताज़ा खबर
 

कुमार विश्‍वास ने डाटा चोरी के मसले पर ली नेताओं की चुटकी, लोगों ने कहा- नेता तो आप भी हो कविवर

एक यूजर ने राय दी, "आटा रामदेव ने चोरी किया और डाटा सरकार ने, वैसे भी 1.5 GB डाटा बेरोजगारों को बेरोजगारी का अहसास नहीं दिला पा रहा है यही सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि है।

AAP नेता व कवि डॉ कुमार विश्‍वास। (Photo: DrKumarVishwas/Twitter)

अमेरिका की कंसल्टेटिंग कंपनी कैम्ब्रिज एनालिटिका द्वारा डेटा दुरुपयोग कर भारत में चुनावों के नतीजों को प्रभावित करने से जुड़ा सियासी विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। कांग्रेस और बीजेपी दोनों पार्टियां एक दूसरे पर इस डेटा एनालिसिस फर्म से जुड़े होने का आरोप लगा रही हैं। इस बीच आम आदमी पार्टी नेता कुमार विश्वास ने भी इस मसले पर कुमार विश्वास ने नेताओं पर तंज कसा है। हालांकि लोगों ने उन्हें भी इस मसले पर खरी खोटी सुनाई है। कुमार विश्वास ने ट्वीट किया है, “वाह रे नेताओं! आटा-चोरी से चले थे, डाटा-चोरी तक आ गए?”

कुमार विश्वास के इस ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए किरण जैन नाम की यूजर ने लिखा, “अरे आटा और डाटा की छोड़ो, अब तो थूका हुआ चाटा तक आ गये हैं, पर अब आगे क्या? वैसे नेता तो तुम भी हो, मगर एक असफल नेता? कविराज।” प्रिया ने कहा, “आटा चोरी हो या डाटा चोरी हो, फंसता हमेशा आम भारतीय ही है।” एक यूजर ने कहा, “नेताओं क्यों सर, नाम लेने से डर लग रहा है क्या।” एक यूजर ने लिखा, “पहले कोयला लूटते थे अब बैंक, पहले आटा अब डाटा, देश बदल रहा है।”

एक यूजर ने राय दी, “आटा रामदेव ने चोरी किया और डाटा सरकार ने, वैसे भी 1.5 GB डाटा बेरोजगारों को बेरोजगारी का अहसास नहीं दिला पा रहा है यही सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि है। सरकार को डर है यदि डाटा चोरी हो गया तो बेरोजगार युवा सड़क पर आ जायेगा।” वहीं एक शख्स ने चुटकी लेते हुए कहा कि सर जी डिजिटल इंडिया हो रहा है ना आज भी चारा या आटा चुराते तो अच्छा न लगता इसलिए बदलते भारत में डाटा चोरी होगा।

बता दें कि 21 मार्च को कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर आरोप लगाया था कि पार्टी डेटा एनालिसिस कर इसके मुताबिक चुनावी रणनीति तैयार करने के लिए कैम्ब्रिज एनालिटिका की सेवाएं ले रही है। कानून मंत्री ने फेसबुक को भी चेतावनी दी थी कि वह भारत में किसी भी यूजर के निजी डेटा को चोरी करने की कोशिश ना करे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App