एमपी में उफनती नदी को पार करते हुए वैक्सीन लगाने पहुंचे स्वास्थ्य कर्मी, वीडियो वायरल

मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा से एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें स्वास्थ्य कर्मी वैक्सीन लगाने जाने के लिए नदी को पार करते हुए दिखाई दे रहे हैं।

MP News, Corona Vaccine
MP में उफनती नदी को पार करते हुए वैक्सीन लगाने पहुंचे स्वास्थ्य कर्मी, वीडियो वायरल (Photo Source – Social Media)

मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा से एक वीडियो सामने आया है। जिसमें स्वास्थ्य कर्मी वैक्सीन लगाने जाने के लिए नदी को पार करते हुए दिखाई दे रहे हैं। वीडियो में देखा जा सकता है कि पानी के तेज बहाव को पार करते हुए स्वास्थ्य कर्मी वैक्सीनेशन किट साथ आगे बढ़ रहे हैं। इस वीडियो पर सोशल मीडिया यूजर्स स्वास्थ्य कर्मियों की तारीफ़ करते हुए अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

एक टि्वटर यूजर इस वीडियो पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिखते हैं कि ऐसी स्तिथि नहीं आनी चाहिए। ये सरकार की विफलता है कि स्वास्थ्यकर्मियों को सुरक्षित गंतव्य तक नहीं पहुँचाया जा पा रहा है और वो जान जोखिम में डालने पर मजबूर हैं। इनको योद्धा बता कर बड़ी सहजता से अपनी विफलताओं को छिपा ले रही हैं सरकारें। @Drchj टि्वटर हैंडल से लिखा गया है कि हमें ऐसे स्वास्थ्य कर्मियों पर गर्व करना चाहिए।

एक टि्वटर यूजर ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को कोसते हुए कहा कि 15 साल के शासन के बाद भी मामा एक पुल नहीं बनवा पाए हैं। @vinjayjha नाम के एक टि्वटर यूजर लिखते हैं कि कितने शर्म की बात है कि राज्य सरकार ने वहां अभी तक एक पुल का निर्माण भी नहीं करा पाया है। एक ट्विटर यूजर लिखते हैं कि अगर मंत्री होते तो उनको अभी तक हेलीकॉप्टर मिल गया होता।

@Bishantkhan15 नाम के ट्विटर यूजर लिखते हैं कि हम लोगों की जान बचाने के लिए स्वास्थ्य कर्मी अपने जान की बाजी लगा देते हैं। पत्रकार बृजेश राजपूत ने यह वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि वेक्सीनेशन के लिये इस स्वास्थ्य कर्ता के हौसले को सलाम. ये विडीओ छिन्दवाड़ा के पिंडरईकला का है जहाँ उफनता नाला पार कर अठारह लोगों को टीका लगाने पहुंची टीम।

पत्रकार अखिलेश आनंद लिखते हैं कि असली कोरोना वारियर्स तो यही हैं। एक ट्विटर यूजर लिखते हैं कि इंफ्रास्ट्रक्चर का अभाव और उसके बुरे असर जब तक यूजर और वर्कर पर ही पड़ते रहेंगे, विकास नहीं होगा। सिस्टम को इस स्टेप की सरहाना नहीं करनी चाहिए और स्वास्थ्य कर्मिओं को हिदायत हो कि वह अपनी जान खतरे में न डालें। प्रशासन तभी कुछ इलाज निकलेगा।

पढें ट्रेंडिंग समाचार (Trending News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट