ताज़ा खबर
 

फालतू वीडियो देख रहे आपके बच्‍चे तो यूट्यूब ने दी है रोकने की यह सुविधा

यूट्यूब किड्स एप्लीकेशन ने बीते शुक्रवार को अभिभावकों के लिए नए उपायों का ऐलान किया है, ताकि वे वीडियो शेयरिंग साइट पर अपने बच्चों को फालतू कंटेंट देखने से रोक सकें।

(फाइल फोटो)

वीडियो शेयरिंग साइट youtube पर भारी मात्रा में कंटेंट मौजूद है। दुनिया भर के यूजर्स कुछ न कुछ इस पर अपलोड करते ही रहते हैं। वे कभी काम की चीजें डालते हैं, तो कभी मजाकिया क्लिप्स। मगर कई मौकों पर यहां आपत्तिजनक और फालतू चीजें भी आ जाती हैं। ऐसे में अगर आपके बच्चे उन वीडियो को पा जाएं, तो उन पर उसका गलत असर पड़ सकता है। बच्चों को ऐसे ही फिजूल के कंटेंट से दूर रखने के लिए यूट्यूब किड्स ने तरीका निकाला है।

शुक्रवार को यूट्यूब किड्स ने अभिभावकों के लिए नए उपायों का ऐलान किया, ताकि वे वीडियो शेयरिंग साइट पर गलती से भी फालतू कंटेंट देखने वाले अपने बच्चों को वैसा करने से रोकें। अभिभावक यूट्यूब पर ऐसी वीडियो क्लिप्स को रिपोर्ट कर सकेंगे, जिनकी बाद में एक पॉलिसी टीम समीक्षा करेगी। कंपनी के मुताबिक, अगर रिपोर्ट करते वक्त यूजर अपनी आइडी से साइन इन हुआ, तो वह यूट्यूब की किड्स एप्लीकेशन पर ब्लॉक हो जाएगा। इतना ही नहीं, अभिभावक यूट्यूब किड्स एप पर कंटेंट को कस्टमाइज कर सकेंगे। मगर फिलहाल यह सुविधा कुछ ही देशों के लिए दी गई है। अभिभावक इसके तहत अनचाहे वीडियो और चैनल ब्लॉक कर सकते हैं।

कंपनी का कहना है कि जब वीडियो या चैनल ब्लॉक किया जाएगा, तो वे साइन इन रहने के दौरान यूजर को यूट्यूब किड्स एप पर नजर नहीं आएंगे। यूजर इस पर प्रोफाइल भी बना सकते हैं, जिसमें वे हर बच्चे के हिसाब से उम्र सीमा तय और कंटेंट का स्तर तय कर सकेंगे। बच्चों की प्रोफाइल हर किस्म की डिवाइस पर काम करेगी। अभिभावक सर्च का विकल्प बंद कर (टर्न ऑफ) कंटेंट का स्तर और सीमित करना चाहते हैं, तो वे यह भी कर सकेंगे। फिलहाल यूट्यूब किड्स एप्लीकेशन 37 देशों में लाइव है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App