खरीदने जा रहे हैं स्मार्ट टीवी, तो इन टिप्स का रखिएगा ख्याल, वरना लेने के बाद हो सकता है मलाल

स्मार्ट टीवी में स्क्रीन, पिक्चर क्वालिटी के बाद कोई चीज आती है। तो उसकी साउंड क्वालिटी की बात आती है। अगर आपने बड़ी स्क्रीन और HD या 4K स्क्रीन वाला स्मार्ट टीवी खरीद लिया है। लेकिन इसकी साउंड क्वालिटी अच्छी नहीं है। तो आपके स्मार्ट टीवी का मजा आधा ही रह जाएगा।

smart tv, sony, realme, redmi, hd smart tv
स्मार्ट टेलीविजन खरीदने से पहले कुछ बातों का जरूर रखें ध्यान।

टेलीविजन का इतिहास काफी पुराना है। जिसमें ब्लैक इन व्हाइट से कलर और फिर स्मार्ट टेलीविजन ने लोगों के बीच अपनी जगह बनाई। टेलीविजन के इसी इतिहास को देखते हुए आज से ठीक 25 साल पहले संयुक्त राष्ट्र ने 1996 में 22 नवंबर के दिन को हर साल वर्ल्ड टेलीविजन डे के तौर पर मनाने का फैसला किया था। अगर आप भी जल्द ही अपने घर का टेलीविजन को बदल कर स्मार्ट टीवी लाने की सोच रहे हैं। तो आपको हम कुछ ऐसी जानकारी देने वाले हैं। जिससे आप स्मार्ट टीवी की भरमार के बीच अपने लिए बेस्ट स्मार्ट टेलीविजन चुन सके। आइए जानते हैं इसके बारे में…

डिस्प्ले से ना करें समझौता – जब भी आप स्मार्ट टीवी खरीदने जाए। तो सबसे पहले यह तय जरूर कर लें कि, आपको HD या 4K स्मार्ट टीवी ही लेना है। क्योंकि HD और 4K टीवी में वीडियो क्वालिटी काफी बेहतर होती है। इसके साथ ही स्मार्ट टीवी लेते समय पिक्चर क्वालिटी भी चेक करें। इसके लिए आप स्मार्ट टीवी में कार्टून लगा कर देख सकते हैं। क्योंकि ज्यादातर कार्टून कैरेक्टर मल्टी कलर होते हैं और इससे आपको स्मार्ट टीवी की पिक्चर क्वालिटी की हकीकत पता चल जाएगी।

साउंड के बिना नहीं आएंगा मजा – स्मार्ट टीवी में स्क्रीन, पिक्चर क्वालिटी के बाद कोई चीज आती है। तो उसकी साउंड क्वालिटी की बात आती है। अगर आपने बड़ी स्क्रीन और HD या 4K स्क्रीन वाला स्मार्ट टीवी खरीद लिया है। लेकिन इसकी साउंड क्वालिटी अच्छी नहीं है। तो आपके स्मार्ट टीवी का मजा आधा ही रह जाएगा। इसलिए जब भी स्मार्ट टीवी खरीदें तो उसमें 5 से 10 वॉट के स्पीकर्स होने चाहिए। अगर आपको स्मार्ट टीवी हॉल या किसी बड़े कमरे में लगाना है तो पोर्टेबल स्पीकर्स भी यूज कर सकते हैं।

कनेक्टिविटी के हो मल्टी ऑप्शन – स्मार्ट टीवी में हार्ड डिस्क सपोर्ट, MP4, AVI, MKV जैसे कॉमन वीडियो फॉर्मेट्स आसानी से चलने चाहिए। इसके साथ ही HD कंटेंट ऑनलाइन देखने पर डिस्प्ले क्वालिटी पर कोई असर नहीं पड़ना चाहिए। इसके साथ ही टीवी खरीदने से पहले एक बार USB प्लेबैक परफॉर्मेंस चेक करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: Airtel यूजर्स को महंगी पड़ेगी अब बात! इन पैक्स के टैरिफ में 25% की बढ़ोतरी

OS से क्या कर पाएंगे – एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम वाले टीवी पर अलग से कई ऐप्स इंस्टॉल किए जा सकते हैं। इनमें इंटरनेट के लिए वाई-फाई, इथरनेट जैसे फीचर्स होते हैं। इसके अलावा, मोशन सेंसर भी हैं जो गेम्स खेलने के लिए काम में आते हैं। कुछ टीवी में USB पोर्ट होता है जिससे कीबोर्ड कनेक्ट किया जा सकता है। ये वेबकैम और माइक कनेक्ट करने के काम भी आता है। इसमें ब्लूटूथ की मदद से वायरलेस डिवाइस भी कनेक्ट किया जा सकता है।

पढें टेक्नोलॉजी समाचार (Technology News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट