यह है दुनिया का सबसे तेज-तर्रार इलेक्ट्रिक व्हीकलः 555.9 किलोमीटर प्रतिघंटा है Rolls-Royce एयरक्राफ्ट की टॉप स्पीड, Siemens का तोड़ा रिकॉर्ड

Rolls Royce का स्पिरिट ऑफ इनोवेशन इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट सिंगल सीटर है। जिसमें किसी भी विमान की तुलना में सबसे ज्यादा पावरफुल बैटरी पैक दिया गया है।

Rolls-Royce, Electric Aircraft, Electric Vehicle
रोल्स-रॉयस ने इस ऑल-इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट को स्पिरिट ऑफ इनोवेशन नाम दिया। (सांकेतिक फोटो)

आपने अभी तक इलेक्ट्रिक कार या इलेक्ट्रिक स्कूटर और बाइक के बारे में सुना होगा। लेकिन यहां हम आपको इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट के बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आपने अभी तक इसके बारे में नहीं पढ़ा है। तो आपको जानकार आश्चर्य होगा कि, सबसे लग्जरी कार निर्माता कंपनी ने ही सबसे तेज-तर्रार इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट तैयार किया है। जिसने हाल ही में 555.9 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से आसमान में उड़ान भरकर सफल यात्रा पूरी की है।

इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट का नाम है स्पिरिट ऑफ इनोवेशन – rolls Royce ने इस ऑल-इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट को स्पिरिट ऑफ इनोवेशन नाम दिया है। कंपनी ने इस एयरक्राफ्ट की पहली सफल उड़ान हाल ही में पूरी की है। जिसमें ये एयरक्राफ्ट 15 मिनट तक आसमान में रहा। rolls Royce के इस परीक्षण से साबित हो गया कि, आने वाले दिनों में आसमान में भी इलेक्ट्रिक विमान आसानी से अपनी उड़ान पूरी कर सकते है। आपको बता दें rolls Royce का ये इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट प्रोपल्शन सिस्टम पर तैयार हुआ है।

सिंगल सीटर है स्पिरिट ऑफ इनोवेशन एयरक्राफ्ट – rolls Royce कंपनी के अनुसार उसका पहला इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट सिंगल सीटर है। जिसमें किसी भी विमान की तुलना में सबसे ज्यादा पावरफुल बैटरी पैक दिया गया है। कंपनी के अनुसार इस एयरक्राफ्ट में 6000 सेल बैटरी पैक पर काम किया है।

इसके साथ ही एयरक्राफ्ट में जो इलेक्ट्रिक मोटर दी गई है। वो 500hp की पावर जनरेट करने में सक्षम है। रोल्स-रॉयस ने बताया है कि यह एयरक्राफ्ट 300 मील प्रति घंटा (लगभग 483 किलोमीटर प्रति घंटा) की टॉप स्पीड से उड़ सकता है।

यह भी पढ़ें: नवंबर में लॉन्‍च हुईं Suzuki, Darwin, Boom के Electric Scooters, जानिए सिंगल चार्ज में कौन देता है कितना रेंज?

Rolls-Royce और इस कंपनी ने किया है तैयार – Rolls-Royce ने एयर टैक्सी विकसित करने के लिए टेकनम नाम की कंपनी के साथ पार्टनरशिप की है। रोल्स-रॉयस और एयरफ्रेम टेकनम स्कैंडिनेविया की सबसे बड़ी एयरलाइन Widerøe के साथ मिल कर काम कर रहे है। ताकि कंम्प्यूटर बाजार में ऑल-इलेक्ट्रिक विमान वितरित किए जा सके। इसके साथ ही कंपनी की योजना है कि, 2026 तक रेवेन्यू सेवा के लिए इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट को तैयार किया जा सके।

पढें टेक्नोलॉजी समाचार (Technology News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट