WhatsApp Co-founder Brian Acton says, we may enter digital payments segment-डिजिटल पेमेंट्स के बाजार में उतर सकती है वॉट्सएेप, कई कंपनियों को मिलेगी कड़ी टक्कर - Jansatta
ताज़ा खबर
 

डिजिटल पेमेंट्स के बाजार में उतर सकती है वॉट्सएेप, कई कंपनियों को मिलेगी कड़ी टक्कर

कंपनी ने 8 साल पूरे होने के मौके पर अपने स्टेटस फीचर में बड़ा बदलाव किया है। इसके तहत अब यूजर्स वॉट्सऐप स्टेटस में फोटो, विडियो और GIF को डाल सकेंगे।

देश के बीस केंद्रीय विश्वविद्यालयों में किए गए इस अध्ययन का निचोड़ यह है कि जिस तेजी से स्मार्टफोन पर निर्भरता बढ़ती जा रही है, वह स्वास्थ्य और पढ़ाई के लिहाज से एक खतरनाक संकेत है।

वॉट्सएेप के सह-संस्थापक ब्रायन एक्टन ने शुक्रवार को कहा कि उनकी कंपनी डिजिटल पेमेंट के बाजार में उतर सकती है, क्योंकि यह ज्यादा मुनाफे वाला कारोबार माना जाता है। शुक्रवार को वॉट्सऐप के 8 साल पूरे होने के मौके पर टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में उन्होंने यह बात कही। वॉट्सएेप के इस कदम से कई कंपनियों को झटका लग सकता है। यूक्रेन में पैदा हुए जैन कूम ने वॉट्सएेप की शुरुआत की थी, दोनों एक जमाने में याहू में साथ थे। आज इस एेप के पूरे दुनिया में 1.2 बिलियन यूजर्स हैं, जिसमें 20 करोड़ सिर्फ भारत में हैं। एक्टन ने कहा कि वॉट्सऐप ने अब तक \’अनटैप्ड\’ कमर्शल मैसेजिंग में एंट्री नहीं की है, हम इस सेक्टर में भी आने पर विचार कर रहे हैं।

जब उनसे पूछा गया कि क्या चीज उन्हें भारत ले आई तो उन्होंने कहा कि भारत में इसके सबसे ज्यादा यूजर्स हैं। हम भारत के लोगों के साथ काम करना पसंद करते हैं। जब उनसे पूछा गया कि स्टेट्स में बदलाव के अलावा वह किन और चीजों पर काम कर रहे हैं तो उन्होंने कहा कि कमर्शियल मैसेजिंग हमारे लिए अप्रयुक्त है। हम उस पर काम कर सकते हैं। भारत जैसे देश में कई यूजर्स बिजनेस कर रहे हैं, लेकिन उनके लिए अब तक कोई प्रोडक्ट नहीं है।

बता दें कि कंपनी ने 8 साल पूरे होने के मौके पर अपने स्टेटस फीचर में बड़ा बदलाव किया है। इसके तहत अब यूजर्स वॉट्सऐप स्टेटस में फोटो, विडियो और GIF को डाल सकेंगे। यह पूछे जाने पर कि फेसबुक ने फेक न्यूज पर कड़ा कदम उठाया है, इस पर वॉट्सऐप का क्या रुख है। ऐक्टन ने कहा, ‘फेक न्यूज के चैलेंज को लेकर हम जागरूक हैं। हमने इसके बारे में और लोगों पर इसके असर को समझना शुरू किया है। हमारा मानना यह है कि एक ऐसा टूल बनना चाहिए, जिससे लोग ऐसी फेक खबरों को पहचान सकें और इन पर रोक लगा सकें। फेक न्यूज फैलाने वाले यूजर्स को बैन करने का प्रावधान होना चाहिए।’ एक्टन ने बताया कि फिलहाल वॉट्सएेप में 80 इंजीनियर्स काम कर रहे हैं। इतने कम में वह कैसे गुजारा करते हैं तो उन्होंने कहा कि हम बहुत स्मार्ट लोगों को ही नौकरी पर रखते हैं। हम खुद को अनुशासित और इस बात पर फोकस करते हैं कि हमें क्या बनाना है और कैसे बनाना है।

ASUS ने मार्केट में उतारा अपना नया स्मार्टफोन ZENFONE 3S MAX, देखें वीडियो :

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App