WhatsApp ने अगस्त में 20 लाख भारतीय खातों पर लगाई रोक- रिपोर्ट

वही इंस्ट्राग्राम ने इस दौरान नौ अलग-अलग श्रेणियों में उसके मंच पर डाली गई 22 लाख सामग्रियों को हटाया या कार्रवाई की। फेसबुक ने बताया कि उसे 1-31 अगस्त के बीच अपने भारतीय शिकायत तंत्र के माध्यम से 904 उपयोगकर्ता रिपोर्ट प्राप्त की। इसमें से उसने 754 मामलों का निपटारा कर दिया गया।

whatsapp, tech news, national news
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Pixabay)

संदेश आदान-प्रदान मंच व्हाट्स ऐप ने 20 लाख से अधिक भारतीय खातों पर रोक लगा दी है। कंपनी को अगस्त में 420 शिकायतों से जुड़ी रिपोर्ट मिली, जिस पर कार्रवाई करते हुए उसने यह कदम उठाया। व्हाट्स ऐप ने अनुपालन रिपोर्ट में यह जानकारी दी है। वहीं, सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक ने अगस्त माह के दौरान नियमों के 10 उल्लंघन श्रेणियों में 3.17 करोड़ सामग्रियों पर कार्रवाई की। व्हाट्स ऐप ने मंगलवार को जारी अपनी ताजा रिपोर्ट में बताया कि उसने अगस्त महीने के दौरान 20,70,000 भारतीय खातों पर रोक लगाई है।

व्हट्स ऐप ने इससे पहले कहा था कि जिन खातों पर रोक लगाई गई उनमें से 95 प्रतिशत से अधिक खातों पर रोक उनके द्वारा थोक संदेशों का अनाधिकृत इस्तेमाल किये जाने के कारण लगाई गई। वैश्विक स्तर पर व्हट्स ऐप अपने मंच के दुरुपयोग पर औसतन हर महीने 80 लाख खातों पर रोक लगाता है। इसके अलावा फेसबुक ने शुक्रवार को जारी अपनी अनुपालन रिपोर्ट में बताया कि उसने अगस्त 2021 में 3.17 करोड़ सामग्रियों पर कार्रवाई की है।

वही इंस्ट्राग्राम ने इस दौरान नौ अलग-अलग श्रेणियों में उसके मंच पर डाली गई 22 लाख सामग्रियों को हटाया या कार्रवाई की। फेसबुक ने बताया कि उसे 1-31 अगस्त के बीच अपने भारतीय शिकायत तंत्र के माध्यम से 904 उपयोगकर्ता रिपोर्ट प्राप्त की। इसमें से उसने 754 मामलों का निपटारा कर दिया गया। कंपनी ने रिपोर्ट में कहा कि इन तीन करोड़ से अधिक सामग्रियों में स्पैम (2.9करोड़), हिंसक एवं रक्तपात (26 लाख), वयस्क नग्नता एवं यौन गतिविधि (20 लाख), नफरतपूर्ण भाषण (242,000) सहित अन्य मुद्दों से जुड़ी सामग्री शामिल हैं।

डॉट ने एयरटेल, वीआईएल पर 3,050 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया: दूरसंचार विभाग (डॉट) ने नियामक ट्राई की पांच साल पुरानी सिफारिश के आधार पर वोडाफोन आइडिया पर 2,000 करोड़ रुपये और भारती एयरटेल पर 1,050 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। एक सूत्र ने बृहस्पतिवार को कंपनियों को दिए गए मांग नोटिस से जुड़ी सामग्री को साझा करते हुए कहा कि दूरसंचार विभाग ने जुर्माना देने के लिए दूरसंचार परिचालकों को तीन सप्ताह का समय दिया है। इस बारे में संपर्क करने पर भारती एयरटेल के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हम एक नए परिचालक को पॉइंट ऑफ इंटरकनेक्ट के प्रावधानों से संबंधित 2016 की ट्राई की सिफारिशों के आधार पर मनमानी और अनुचित मांग से बहुत निराश हैं। ये आरोप बेबुनियाद हैं।’’

पढें टेक्नोलॉजी समाचार (Technology News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट