ताज़ा खबर
 

वायरस, फर्जी वेबसाइट व नकली ऐप से रहें सावधान, वरना उठाना पड़ सकता है भारी नुकसान, ऐसे करें पहचान

How to Spot a Fake website and fake Android App: ऑनलाइन दुनिया में कई वेबसाइट और गूगल प्लेस्टोर पर कुछ ऐप ऐसे भी हो सकते हैं, जो आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है (Photo- Indian Express)

How to Spot a Fake website and fake Android App: गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद 8 ऐप्स पर कुछ दिन पहले जोकर वायरस पाया गया था, जिसके बाद साइबर सिक्योरिटी फर्म क्विक हील ने इसकी जानकारी अल्फाबेट के स्वामित्व वाली कंपनी गूगल को दी थी। इसके बाद उन 8 ऐप्स को गूगल प्लेस्टोर से हटा दिया गया था। साथ ही उन यूजर्स को भी सलाह दी दी गई थी कि वे भी इन ऐप को फोन से हटा दें।

दरअसल, आज हम आपको कुछ ऐसे ही तरीकों के बताने में जा रहे हैं, जिनसे आप ऑनलाइन दुनिया में खुद को सुरक्षित रख सकते हैं। इससे आपका फोन भी सुरक्षित रहेगा। साथ ही अपने बैंक अकाउंट व पर्सनल डाटा भी हैक होने से बचा सकते हैं। आइये जानते हैं…

How do you verify a website

फर्जी वेबसाइट की पहचान करने का सबसे आसान तरीका है कि उसके URL को चेक करें। सबसे पहले देखना चाहिये कि डोमेन की शुरुआत में https:// है या नहीं। इसमें S सिक्योरिटी को दर्शाता है। अगर S नहीं है तो उसकी सुरक्षा की कोई गारंटी नहीं है।

How can I check if a site is safe

किसी भी वेबसाइट को चेक करने का दूसरा तरीका है यह कि उसके नाम को ध्यान से पढ़ें। अक्सर फर्जी वेबसाइट ब्रांड के नाम में कुछ स्पेलिंग बदलकर भी वेबसाइट तैयार कर लेती हैं, जो सरसरी नजर में एक ऑफिशियल वेबसाइट का यूआरएल दिखता है।

How to spot fake app on an app store

गूगल प्ले स्टोर पर पर जब भी किसी ऐप को सर्च करते हैं, तो एक ही नाम से ढेरों ऐप स्क्रीन पर नजर आने लगते हैं, लेकिन उनके नाम में थोड़े-थोड़े बदलाव होते हैं, जैसे प्रो, प्रो प्लस, आदि। इनमें कुछ ऐप फर्जी भी हो सकते हैं। एप इंस्टॉल करने से पहले स्पेलिंग और आइकन को ध्यान से देखें, उसके बाद ही उसे डाउनलोड करें।

मोबाइल ऐप रिव्यू जरूर पढ़ें (How do I see my app reviews?)

किसी भी ऐप को डाउनलोड करने से पहले एक बार उसके रिव्यू को जरूर पढ़ें और सिर्फ एक रिव्यू को पढ़कर अपनी राय न बनाएं बल्कि दो से अधिक रिव्यू को देखें और फिर उस ऐप के बारे में सोचें। एप में अधिकतर नकारात्मक कमेंट हैं तो उसे इंस्टॉल करने से बचना चाहिए। ऐप रिव्यू उसके नीचे देखे जा सकते हैं।

Next Stories
1 तेजस्वी के साथ भी जा सकते हैं चिराग पासवान, बोले- नरेंद्र मोदी पर आज भी विश्वास, लेकिन एकतरफ़ा न हो
2 तालिबान से हो सकती है बात तो पाकिस्तान से क्यों नहीं, पीएम की बैठक से पहले बोलीं महबूबा मुफ़्ती
3 श्यामा प्रसाद मुखर्जी: लॉर्ड माउंट बेटन को लिखी थी बंगाल बंटवारे के लिए चिट्ठी; जम्मू कश्मीर में हुई मौत का रहस्य आज तक है अनसुलझा
ये पढ़ा क्या?
X