scorecardresearch

बिना इंटरनेट मूवी, वीडियो और ऑनलाइन शॉपिंग का मजा, भारत सरकार और SugarBox Network का बड़ा प्लान

भारत सरकार SugarBox Network के साथ साझेदारी में हर गांव में फ्री एंटरटेनमेंट और ऑनलाइन शॉपिंग जैसी सेवाएं मुहैया कराने पर काम कर रही है।

बिना इंटरनेट मूवी, वीडियो और ऑनलाइन शॉपिंग का मजा, भारत सरकार और SugarBox Network का बड़ा प्लान
शुगरबॉक्स की यह सर्विस अभी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, महाराष्ट्र और उत्तराखंड के दूर-दराज वाले गांवों में उपलब्ध कराई जा रही है।

इंटरनेट, एक ऐसा शब्द जो आज दुनियाभर में सबसे ज्यादा चर्चित है। खासतौर पर कोरोना महामारी के दौरान इंटरनेट अधिकतर लोगों के लिए एक बेसिक जरूरत बन गया। वर्क फ्रॉम होम या ऑनलाइन पढ़ाई, एंटरटेनमेंट करना हो या दोस्तो-परिवार से बातचीत करना हो, इंटरनेट ने सारे काम बखूबी किए। शहरों में रह रहे लोगों के लिए डेटा कनेक्टिविटी जहां आसान है, वहीं दूर-दराज के गांवों में लोग अभी भी इंटरनेट कनेक्शन के लिए जूझ रहे हैं। लगातार बढ़ती महंगाई के बीच टेलिकॉम कंपनियां भी लगातार डेटा टैरिफ बढ़ा रही हैं। महंगे रिचार्ज और डेटा पैक हर किसी की जेब पर भारी पड़ रहे हैं, ऐसे में केंद्र सरकार की डिजिटल इंडिया मुहिम भी मुश्किल में है। लेकिन अब भारत सरकार SugarBox Network के साथ साझेदारी में हर गांव में फ्री एंटरटेनमेंट और ऑनलाइन शॉपिंग जैसी सेवाएं मुहैया कराने पर काम कर रही है।

बता दें कि देश के लगभग हर गांव में भारत सरकार का कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) मौजूद है। इन सीएससी सेंटर के साथ मिलकर ही शुगरबॉक्स नेटवर्क हाइपरलोकल क्लाउड एज टेक्नोलॉजी के जरिए फ्री में एंटरटेनमेंट, ऐजूकेशनल वीडियो, ऑनलाइन शॉपिंग जैसे जरूरी काम बिना इंटरनेट उपलब्ध करा रही है। शुगरबॉक्स की यह सर्विस अभी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, महाराष्ट्र और उत्तराखंड के दूर-दराज वाले गांवों में उपलब्ध कराई जा रही है। CSC ई-गवर्नेंस के प्रबंध निदेशक डॉक्टर दिनेश त्यागी का कहना है कि शुगरबॉक्स और CSC का मकसद इस टेक्नोलॉजी के जरिए हर गांव में बिना कोई लागत के इंटरनेट सेवाएं उपलब्ध कराना है। ताकि भारत सरकार की सभी जरूरी सेवाएं हर नागरिक तक पहुंच सके।

क्या है शुगरबॉक्स और CSC का प्लान?

शुगरबॉक्स के सीईओ और को-फाउंडर रोहित परांजपे ने जनसत्ता के साथ खास बातचीत में बताया कि देशभर में 70 करोड़ लोग भले ही इंटरनेट से कनेक्टेड हों लेकिन जब बात भरोसेमंद और मजबूत कनेक्टिविटी की होती है तो यह आंकड़ा सिर्फ 25 से 30 करोड़ लोगों तक ही सीमित रह जाता है। वहीं ऐसे भी करीब 40 करोड़ लोग हैं जो अभी भी इंटरनेट की पहुंच से दूर हैं। उनका कहना है कि शुगरबॉक्स ऐसे ही लोगों तक इंटरनेट कनेक्टिविटी देना चाहता है जो महंगे डेटा को अफॉर्ड नहीं कर सकते या फिर जिनके पास मजबूत नेटवर्क नहीं है।

अब भारत सरकार की एजेंसी सीएसएसी के सेंटर पर शुगरबॉक्स लोकल एज क्लाउड कंप्यूटिंग टेक्नोलॉजी वाले बॉक्स लगा रही है। इस बॉक्स यानी डिवाइस की खासियत है कि इसकी रेंज में आने पर मोबाइल यूजर बिना इंटरनेट ही मूवी, वेब सीरीज, और टीवी शो-वीडियो आदि डाउनलोड कर सकता है। शुगरबॉक्स का कहना है कि फिलहाल शुगरबॉक्स ऐप कई अलग-अलग ऐप्स, एजेंसियों और ई-कॉमर्स साइट के साथ बातचीत कर रही है ताकि ज्यादा से ज्यादा सेवाएं इन गांवों में पहुंचाई जा सकें। कंपना का कहना है कि जल्द ही इस प्लैटफॉर्म पर गेमिंग और सोशल मीडिया एक्सपीरियंस भी उपलब्ध कराया जाएगा।

हमने जब शुगरबॉक्स के सीईओ से ऐप में स्वास्थ्य से जुड़ी सुविधाएं लाने पर सवाल पूछा तो उन्होंने बताया कि कंपनी अपने प्लैटफॉर्म के जरिए हर गांव में बेहतर मेडिकल स्वास्थ्य सेवाएं देने के लिए भी काम कर रही है। जल्द ही ऐप में गांव के लोगों के लिए डॉक्टर से ऑनलाइन कंसल्टेशन सर्विस मिलेगी। इसके अलावा कंपनी ऐप में न्यूज सर्विस भी लाने की योजना कर रही है ताकि देशभर के गांवों में लोग हरदिन की खबरों से अपडेट रह सकें।

शुगरबॉक्स और CSC द्वारा ऑफर की जा रही सर्विस

हमने शुगरबॉक्स के ऐप को देखा तो पाया कि फिलहाल यूजर्स के लिए Zee5 का कॉन्टेन्ट उपलब्ध है। लेकिन यूजर्स इसके प्रीमियम कॉन्टेन्ट का फायदा नहीं ले पाएंगे। शुगरबॉक्स का कहना है कि कंपनी अभी अपने ऐप को तेजी से एक्सपेंड कर रही है और आने वाले वक्त में प्रीमियम ज़ी5 कॉन्टेन्ट के अलावा कई और ऐप का कॉन्टेन्ट भी मिलेगा।

शुगरबॉक्स की इस सर्विस का इस्तेमाल कैसे करें

शुगरबॉक्स ऐप को इस्तेमाल करने के लिए किसी भी गांव के मोबाइल यूजर को उस CSC सेंटर के पास जाना होगा जहां शुगरबॉक्स डिवाइस इंस्टॉल किया गया हो। इस डिवाइस की रेंज फिलहाल 100 मीटर है। अगर आप किसी भी कॉन्टेन्ट को अपने फोन में डाउनलोड करना चाहते हैं या फिर कोई सामान ऑर्डर करना चाहते हैं तो उस रेंज में आना होगा। इसके बाद अपने फोन के वाई-फाई को ऑन कर SugarBox Network पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आपका फोन, डिवाइस से कनेक्ट हो जाएगा और आप सर्विसेज का इस्तेमाल कर पाएंगे।

ध्यान देने वाली बात है कि शुगरबॉक्स ऐप को डिवाइस की रेंज में चलाना है तो आपके पास इतना इंटरनेट होना चाहिए कि sugarbox App डाउनलोड हो सके। यह एक छोटा सा ऐप है और ज्यादा स्टोरेज नहीं लेता। यह ऐप ऐंड्रॉयड और iOS प्लैटफॉर्म के लिए प्ले स्टोर और ऐप स्टोर पर उपलब्ध है।

शुगरबॉक्स डिवाइस की रेंज में डाउनलोड किए गए मूवी, टीवी शो या कोई भी दूसरे कॉन्टेन्ट को इसके बाद आप कहीं भी जाकर देख सकते हैं। आप चाहें तो ट्रेन में सफर करते हुए ऐप के डाउनलोड सेक्शन में जाकर उसका मजा ले सकते हैं।

हमने जब यूजर डेटा की सिक्योरिटी से जुड़ा सवाल शुगरबॉक्स के सीईओ से किया तो उन्होंने बताया कि यूजर डेटा पूरी तरह से सुरक्षित है। और यह देश में ही लोकली स्टोर किया जा रहा है।

पढें टेक्नोलॉजी (Technology News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट