scorecardresearch

5G Launch in india: मुकेश अंबानी ने 5G को बताया ‘डिजिटल कामधेनु’, 2023 तक हर कस्बे और गांव में रोल आउट

मुकेश अंबानी ने Jio 5G को लेकर कहा कि जियो के हर ग्राहक तक 2023 दिसंबर तक 5G कनेक्टिविटी पहुंच जाएगी।

5G Launch in india: मुकेश अंबानी ने 5G को बताया ‘डिजिटल कामधेनु’, 2023 तक हर कस्बे और गांव में रोल आउट
मुकेश अंबानी (express file photo)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 अक्टूबर 2022 को India Mobile Congress (IMC 2022) में देश में 5G Services लॉन्च कर दीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के प्रगति मैदान में 5जी सेवाओं का बटन दबा कर शुभारंभ किया। 5जी सेवाओं के लॉन्च के मौके पर पीएम मोदी के साथ रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर मुकेश अंबानी ने कई बड़ी बातें कहीं। Jio 5G रोलआउट 1 अक्टूबर से देश के बड़े शहरों में शुरू हो जाएगा। मुकेश अंबानी ने कहा कि यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि 5G एक डिजिटल कामधेनु की तरह है, हमें जो कुछ भी चाहिए यह वह दे सकती है।

IMC 2022 में मुकेश अंबानी ने भरोसा दिलाया कि जल्द ही देश, 5G की सुपरफास्ट इंटरनेट सेवाओं का आनंद ले पाएगा। दीवाली तक चुनिंदा मैट्रो शहरों में और 2023 के अंत तक पूरे देश के हर शहर और हर तालुका में 5 जी सर्विस शुरू कर दी जाएगी। मुकेश अंबानी ने इशारा किया कि दुनिया के मुकाबले भारत में 5G सेवाएं सस्ती होंगी। उन्होंने कहा ‘5G का रोलआउट भारत के दूरसंचार इतिहास में कोई सामान्य घटना नहीं है। देश ने भले ही थोड़ी देर से शुरुआत की हो, लेकिन हम दुनिया की तुलना में उच्च गुणवत्ता वाली और अधिक किफायती 5G सेवाओं को शुरू करेंगे।’

अंबानी ने 5G को डिजिटल कामधेनु बताया। उन्होंने प्रधानमंत्री के नेतृत्व में 5जी के लिए उठाए गए कदमों की सरहाना भी की और कहा कि 5G अगली पीढ़ी की कनेक्टिविटी तकनीक से कहीं बढ़कर है। यह एक मूलभूत तकनीक है जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, रोबोटिक्स, ब्लॉकचैन और मेटावर्स जैसी अन्य टेक्नोलॉजी की पूरी क्षमता को पूरी तरह अनलॉक करेगी।

प्रधानमंत्री के सामने भारती एयरटेल के सुनील भारती मित्तल ने बेहद दिलचस्प बात कही। उन्होंने माना है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन मुकेश अंबानी, बहुत तेज रफ्तार से टेक्नोलॉजी को आगे ले गए और हमें यानी बाकी टेलीकॉम ऑपरेटर्स को भी अपनी स्पीड बढ़ानी पड़ी।

इससे पहले Jio True 5G तकनीक का जायजा लेने प्रधानमंत्री जियो पवेलियन पहुंचे। प्रधानमंत्री ने जियो-ग्लास पहनकर वर्चुअल रियलिटी का रियल टाइम एक्सपीरियंस किया। इस दौरान जियो के चेयरमैन आकाश अंबानी प्रधानमंत्री को जियो-ग्लास के बारे में बताते दिखे। इससे पहले रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने जियो पवेलियन पर प्रधानमंत्री का स्वागत किया।

मुकेश अंबानी ने आगे कहा कि वास्तव में, मुझे लगता है कि 5G के ‘5 लक्ष्यों’ की प्राप्ति के साथ ही यह हमारे राष्ट्र को बदल सकता है:

  1. 5G और 5G- डिजिटल सॉल्युशन्स आम भारतीयों तक सस्ती और उच्ची गुणवत्ता वाली शिक्षा और स्कील डेवलपमेंट को पहुंचा सकते हैं। यह युवा भारतीयों को विश्व स्तरीय क्षमताओं और दक्षताओं से लैस करके उनकी पूरी क्षमता को उभारने में मदद करेगा ताकि वे अधिक कमा सकें और भारत को विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बना सकें।
  2. 5G बिना किसी अतिरिक्त निवेश के मौजूदा अस्पतालों को स्मार्ट अस्पतालों में बदलकर ग्रामीण और दूरदराज के क्षेत्रों में अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान कर सकता है। यह भारत में कहीं भी सर्वश्रेष्ठ डॉक्टरों की सेवाएं डिजिटल रूप से उपलब्ध करा सकता है, इससे उपचार की स्पीड और सटीकता में नाटकीय रूप से सुधार होगा, और रियल टाइम में निर्णय लिए जा सकेंगे। यह सभी भारतीयों के स्वास्थ्य, धन और खुशी में वृद्धि करेगा।
  3. 5G कृषि, सेवाओं, व्यापार, उद्योग, परिवहन और ऊर्जा इंफ्रा के डिजिटलीकरण और उनके डेटा प्रबंधन में तेजी लाकर शहरी और ग्रामीण भारत के बीच की खाई को पाट सकता है। यह सभी आर्थिक गतिविधियों में भारी दक्षता पैदा करेगा, भारत को इनोवेशन्स का केंद्र बनाएगा, और जलवायु संकट को कम करने में भी मदद करेगा।
  4. 5G छोटे पैमाने के औद्योगिक और वाणिज्यिक उद्यमों को उतने ही शक्तिशाली प्रोडक्टिविटी टूल्स उपलब्ध करा सकता है, जो बड़े उद्योग धंधों द्वारा उपयोग किए जाते हैं। यह भारत की अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों के आधुनिकीकरण और लाभप्रदता को बढ़ाएगा।
  5. एआई का इस्तेमाल हर क्षेत्र में बढ़ाकर, 5जी भारत को दुनिया की इंटेलिजेंस कैपिटल के रूप में उभरने में मदद कर सकता है। इससे भारत को हाई वैल्यू डिजिटल सॉल्युशन्स और सेवाओं का निर्यातक बनने में मदद मिलेगी।

मुकेश अंबानी ने कहा कि इन पांच लक्ष्यों को प्राप्त करने से हमारे देश में उद्यमिता तेजी से बड़ेगी, जो और भी बड़े निवेश को आकर्षित करेगी और हमारे युवाओं के लिए लाखों नए रोजगार पैदा करेगा। जनसंख्या और डिजिटल टेक्नोलॉजी की संयुक्त शक्ति का उपयोग करके, भारत दुनिया की अग्रणी डिजिटल सोसइटी बन सकती है। ग्रोथ और डेवलेपमेंट के दोहरे लक्ष्यों को एक साथ प्राप्त किया जा सकता है। भारत को 3 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था से 2047 तक 40-ट्रिलियन- डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने और प्रति व्यक्ति आय को 2,000 डॉलर से बढ़ाकर 20,000 डॉलर तक ले जाया जा सकता है। इसलिए यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि 5G एक डिजिटल कामधेनु की तरह है, हमें जो कुछ भी चाहिए यह वह दे सकती है।

पढें टेक्नोलॉजी (Technology News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 01-10-2022 at 01:51:40 pm
अपडेट