ताज़ा खबर
 

सस्ते की सौगात: मोबाइल बिल में होने वाली है आपको भारी बचत, जानिए कैसे?

ट्राई ने इंटरकनेक्ट यूजर चार्ज को वर्तमान में प्रति मिनट 14 पैसे से घटा कर 6 पैसे प्रति मिनट कर दिया है।
1 जनवरी 2020 से इंटर कनेक्ट यूजर चार्ज पूरी तरह से खत्म कर दिया जाएगा।

त्योहारों का सीजन शुरू होने से पहले मोबाइल कंज्यूमर के लिए एक खुशखबरी है। जी हां, आपका मोबाइल बिल और भी कम होने जा रहा है। हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि टेलीकॉम नियामक संस्था ट्राई ने इंटर कनेक्ट यूजर चार्ज में भारी कटौती की है। इंटरकनेक्ट यूजर चार्ज वो रकम है जो फोन कंपनियां एक दूसरे का कॉल कनेक्ट के लिए लेती हैं। जैसे कि अगर आइडिया का एक यूजर एयरटेल नंबर पर कॉल करता है तो आइडिया को कुछ शुल्क एयरटेल को चुकाना पड़ता है। इसे रकम को इंटरकनेक्ट यूजर चार्ज कहते हैं। टेलीकॉम रेगुलरेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने इंटरकनेक्ट यूजर चार्ज की समीक्षा एक साल पहले शुरू की थी। अब ट्राई ने इंटरकनेक्ट यूजर चार्ज को वर्तमान में प्रति मिनट 14 पैसे से घटा कर 6 पैसे प्रति मिनट कर दिया है। नयी कीमतें अक्टूबर से लागू होंगी। लेकिन ट्राई की मंशा है कि इस चार्ज को पूरी तरह से खत्म कर दिया जाए। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक एक जनवरी 2020 से इंटरकनेक्ट यूजर चार्ज को पूरी तरह से खत्म कर दिया जाए।

ट्राई ने अपने नये आदेश में कहा है, ‘ये पाया गया है कि इंटरकनेक्ट यूजर चार्ज घटाने से उपभोक्ताओं को फायदा पहुंचा है और कॉम्पीटिशन भी बढ़ा है। मोबाइल टर्मिनेशन चार्ज (IUC) में कटौती से यूजर्स को और भी फायदा पहुंचने वाला है।’ हालांकि मोबाइल क्षेत्र की पुरानी कंपनियों भारती, एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया सेलुलर को ट्राई का ये कदम पसंद नहीं आया है और वे इसका विरोध कर रही है। यहां तक की ये कंपनियां इंटरकनेक्ट यूजर चार्ज में इजाफे की मांग कर रही हैं। हालांकि मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जिओ ने इन कंपनियों को कड़ी टक्कर दी है। इंटरकनेक्ट यूजर चार्ज कम करने का सबसे ज्यादा फायदा जिओ को ही मिलने वाला है। रिलायंस जिओ ने पिछले साल सितंबर में मोबाइल मार्केट में एंट्री करते हुए बड़ा धमाका किया था और बहुत ही कम रेट पर वॉयस कॉलिंग की सुविधा दी थी, यही नहीं जिओ ने कई ऑफर पर लाइफ टाइम फ्री वॉयस कॉलिंग की भी सुविधा दी थी।

टेलीकॉम इंडस्ट्री पर नजर रखने वाले विशेषज्ञों का कहना है कि जल्द ही जिओ नये टैरिफ रेट की घोषणा करने वाला है। इधर उम्मीद ये भी जताई जा रही है कि ट्राई के इस कदम के खिलाफ कुछ कंपनियां अदालत का दरवाजा खटखटाएंगी। एयरटेल, वोडाफोन आइडिया जिओ के लॉन्च के बाद से ही नुकसान सह रही हैं। इस घोषणा के बाद उनपर और भी दबाव बढ़ सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.