ताज़ा खबर
 

मोबाइल में इंस्‍टॉल कर रखा है यह ऐप तो खाते से उड़ सकते हैं पैसे- RBI ने किया अलर्ट, जानिए बचने के लिए क्‍या करें

यदि आप इलेक्ट्रॉनिक रूप से बैंकिंग कर रहे हैं, तो आपको एसएमएस / ईमेल अलर्ट के लिए खुद को रजिस्टर करना चाहिए और धोखाधड़ी के मामले में तुरंत अपने बैंक को सूचित करना चाहिए।

धोखाधड़ी करने वाले पहले ऐसे यूजर ढूंढते हैं जो मोबाइल पर बैंकिग का काम करते हैं।

क्या आप ऑनलाइन बैंकिंग का उपयोग करते हैं? सावधान रहें! हैकर्स धोखे से आपके ई-वॉलेट, मोबाइल बैंकिंग ऐप और UPI तक पहुंच सकते हैं। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बैंकों को एक डिजिटल बैंकिंग धोखाधड़ी की चेतावनी दी है जो यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) रूट का उपयोग करके ग्राहक के बैंक बैलेंस को उड़ा सकती है। 14 फरवरी को जारी एक अलर्ट में, आरबीआई की साइबर सुरक्षा और आईटी परीक्षा सेल ने कहा कि ‘AnyDesk’ नामक एक मोबाइल ऐप का उपयोग धोखेबाजों द्वारा मोबाइल उपकरणों पर डेटा तक पहुंचने के लिए किया जा रहा था। कम नकदी, डिजिटल अर्थव्यवस्था की दिशा में भारत को आगे बढ़ाने के नरेंद्र मोदी सरकार के प्रयासों के बीच डिजिटल सुरक्षा की चिंताओं को भी महत्व दिया है।

क्या है ‘AnyDesk’: ‘Anydesk’ एक रिमोट कंट्रोल एप्लीकेशन है। यह एक डिवाइस को दूसरे से कनेक्ट करने का काम करती है।
धोखाधड़ी से ग्राहक के बैंक बैलेंस को कैसे उड़ा सकता है?
– धोखाधड़ी करने वाले पहले ऐसे यूजर ढूंढते हैं जो मोबाइल पर बैंकिग का काम करते हैं। किसी भी तरह उनके फोन में AnyDesk ऐप डाउनलोड कराते हैं।
– ग्राहकों के डिवाइस पर उत्पन्न नौ अंकों के कोड के माध्यम से, हैकर्स को अपने मोबाइल पर रिमोट एक्सेस की सुविधा मिलती है।
– डिवाइस पर ऐप कोड डालने के बाद, हैकर ग्राहकों से कुछ अनुमतियों को प्रदान करने के लिए कहता है, जो अन्य ऐप्स का उपयोग करते समय आवश्यक हैं।
– एक बार जब वे मोबाइल फोन तक पहुंच प्राप्त कर लेते हैं, तो हैकर्स किसी भी मोबाइल बैंकिंग ऐप या भुगतान से संबंधित ऐप के माध्यम से धोखाधड़ी से लेनदेन कर सकते हैं, जिसमें UPI या वॉलेट शामिल हैं।

आपका मोबाइल हैक होने की स्थिति में आपको क्या करना चाहिए?
यदि आप इलेक्ट्रॉनिक रूप से बैंकिंग कर रहे हैं, तो आपको एसएमएस / ईमेल अलर्ट के लिए खुद को रजिस्टर करना चाहिए और धोखाधड़ी के मामले में तुरंत अपने बैंक को सूचित करना चाहिए। RBI के अनुसार, आपको ऑनलाइन बैंकिंग करते समय केवल https वाली साइटों का उपयोग करना चाहिए। फ्री नेटवर्क पर बैंकिंग से बचें। अपना पासवर्ड / पिन साझा न करें और नियमित रूप से बदलें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App