ताज़ा खबर
 

Apple ने शुरू किया पुराने iPhone की बैटरी बदलना, 6,500 की बैटरी मिल रही 2,000 रुपए में

Apple Iphone: लोगों के विरोध के बाद कंपनी की तरफ से एक माफीनामा जारी किया गया। जिसमें उसने बैटरी रिप्लेस करने की बात कही थी।

जब से ऐप्पल ने कबूला है कि उसने पुराने आईफोन्स को जानबूझकर स्लो कर दिया है, तब से कंपनी मुकदमों और आलोचनाओं का सामना कर रही है।

Apple ने कुछ समय पहले ही पुराने iPhone को स्लो कर दिया था। इसके बाद आईफोन यूजर्स ने इसके खिलाफ अपनी नाराजगी जताई थी। दरअसल बैटरी को लेकर फोन को कंपनी ने जानबूझकर स्लो कर दिया था। लोगों के विरोध के बाद कंपनी की तरफ से एक माफीनामा जारी किया गया। जिसमें उसने बैटरी रिप्लेस करने की बात कही थी। एप्पल ने अब ये प्रोग्राम लाइव कर दिया है यानी अब एप्पल यूजर्स आईफोन स्टोर पर जाकर अपनी बैटरी बदल सकते हैं। ऐप्पल ने अमेरिका के साथ-साथ पूरी दुनिया में ये प्रोग्राम चालू कर दिया है जो दिसंबर, 2018 तक चलेगा।

इसके तहत एप्पल ने बैटरियों की कीमत में भी भारी कटौती की है। भारत में आईफोन यूजर्स को ये बैटरी अब 6,500 रुपए के बजाए केवल 2,000 रुपए में मिलगी। कंपनी ने अपने बयान में कहा, ‘हमें तैयार होने के लिए और अधिक समय की जरूरत है, लेकिन हम अपने ग्राहकों को अभी ही कम कीमत पर बैटरी उपलब्ध कराने को लेकर खुश हैं। कुछ बैटरियों की शुरुआती आपूर्ति सीमित हो सकती है।’

जब से ऐप्पल ने कबूला है कि उसने पुराने आईफोन्स को जानबूझकर स्लो कर दिया है, तब से कंपनी मुकदमों और आलोचनाओं का सामना कर रही है। फोन प्रोसेसर की जांच करने वाली कंपनी प्राइम लैब के दावे के बाद ऐप्पल ने खुद इस बात को स्वीकार किया था कि उसने पुराने आईफोन स्लो किए हैं। इसके बाद से ही ऐप्पल की पूरी दुनिया में आलोचना शुरू हो गई थी।

इसके बाद कंपनी ने iPhone 6, iPhone 6s, iPhone SE and the iPhone 7 के प्रोसेसर को स्लो करने के लिए माफी मांगी थी और बैटरी रिप्लेसमेंट का ऑफर दिया था। एप्पल ने अपने माफीनामे में कहा था कि वह जानबूझकर अपने डिवाइस को स्लो नहीं कर रहा है। उन्होंने कहा कि वे iPhone की बैटरियों की लाइफ को बढ़ाने के लिए वे जरूरी और उचित कदम उठा रहे हैं। एप्पल ने कहा, इस फीचर का इरादा केवल अप्रत्याशित शटडाउन को रोकने के लिए है, ताकि iPhone का उपयोग लगातार किया जा सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App