Aircel to shut operations in Gujarat, Maharashtra, Haryana, Himachal Pradesh, Madhya Pradesh and Uttar Pradesh West from January 30 2018: know here how to port - यूपी, हरियाणा, गुजरात समेत इन राज्यों में बंद होने वाली है एयरसेल, करा लें अपना नंबर पोर्ट - Jansatta
ताज़ा खबर
 

यूपी, हरियाणा, गुजरात समेत इन राज्यों में बंद होने वाली है एयरसेल, करा लें अपना नंबर पोर्ट

AIRCEL: ट्राई ने उन यूजर्स को 10 मार्च 2018 तक नंबर पोर्ट कराने के लिए वक्त दिया है, जो 90 दिन के भीतर ही एयरसेल से जुड़े हैं।

ट्राई के नियम के अनुसार लाइसेंस वापस करने की तारीख से 60 दिनों की समय-सीमा के अंदर एयरसेल का परिचालन बंद कर दिया जाएगा।

जियो के आने के बाद मोबाइल नटवर्क कंपनियों में सस्ती सर्विस की बहस चल रही है। इसके चक्कर में रिलायंस कम्यूनिकेशन ने अपनी मोबाइल सर्विस को ही बंद कर दिया है। रिलायंस के बाद अब एयरसेल ने भी उत्तर प्रदेश(वेस्ट), मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र और हरियाणा में अपनी सर्विस बंद करने का फैसला किया है। 30 जनवरी 2018 के बाद एयरसेल इन राज्यों में अपनी सेवाएं देना बंद कर देगी। कंपनी ने यह कदम ट्राई के निर्देश के बाद उठाया है। ट्राई ने तय समय सीमा के अंदर यूजर्स को अपना नंबर पोर्ट कराने के लिए कहा है। इसी के साथ ट्राई ने कंपनी को भी आदेश दिया है की वह अपने यूजर्स को नंबर पोर्ट कराने में मदद करे। ट्राई ने उन यूजर्स को 10 मार्च 2018 तक नंबर पोर्ट कराने के लिए वक्त दिया है, जो 90 दिन के भीतर ही एयरसेल से जुड़े हैं। ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि 90 दिन से पहले किसी भी नंबर को पोर्ट नहीं कराया जा सकता है। नया नंबर लेने के बाद उसे कम से कम 90 दिन इस्तेमाल करना होता है।

एयरसेल के समूह एयरसेल लिमिटेड और डिशनेट वायरलेस लिमिटेड ने 6 राज्यों के लिए अपना लाइसेंस ट्राई को लौटा दिया है। ट्राई के नियम के अनुसार लाइसेंस वापस करने की तारीख से 60 दिनों की समय-सीमा के अंदर एयरसेल का परिचालन बंद कर दिया जाएगा। यह अवधि 30 जनवरी को पूरी हो जाएगी। 1 दिसंबर 2017 को कंपनी ने लाइसेंस सरेंडर कर दिए थे।

ऐसे कराएं पोर्ट: सबसे पहले आपको AIRCEL को नंबर पोर्ट आउट करने की जानकारी देनी होगी। इसके लिए आपको PORT लिखकर 1900 पर मैसेज करना होगा। इसके जवाब में आपको 1901 नंबर से यूनीक पोर्टिंग कोड मिलेगा। इसकी वैधता 15 दिन की होगी। अब आपको उस कंपनी के सेंटर पर जाना होगा जिसमें आपको अपना नंबर पोर्ट कराना है। यहां पर कस्टमर एप्लिकेशन फॉर्म भरने के दौरान आपको पोर्टिंग कोड भी डालना होगा। इसके साथ ज़रूरी कागज़ात (आईडी प्रूफ, एड्रेस प्रूफ और एक पासपोर्ट फोटो) जमा करवाएं। इसके जवाब में आपको नई कंपनी की ओर से एक सिम कार्ड दिया जाएगा। एक्टिवेट होने के बाद यह सिम भी आपके पुराने नंबर का इस्तेमाल करेगा और आपका पुराना सिम हमेशा के लिए बंद हो जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App