ताज़ा खबर
 

वीडियो: ‘पानी’ से बना यह रोबोट पानी के अंदर पकड़ता है जिंदा मछलियां, नहीं देता है दिखाई

झाओ का कहना है, "हम मेडिकल समूहों के साथ सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं, ताकि इन रोबोटों से हाइड्रोजेल हाथ आदि बनाकर मेडिकल इस्तेमाल किया जा सके। ये सर्जरी के दौरान काफी काम के साबित हो सकते हैं।

पानी के अंदर मछली पकड़ता है ये रोबोट। (Photo Source: Videograb)

वैज्ञानिकों ने एक ऐसा जेल आधारित रोबोट बनाया है जो पानी अंदर डालने पर चलती है तथा यह पानी के अंदर जिंदा मछलियों को पकड़ सकती है और वापस छोड़ सकती है। नेचर कम्युनिकेशन में प्रकाशित इस शोध के मुताबिक, ये रोबोट पानी के अंदर गेंद को जोर से धक्का देने में भी सक्षम है। ये रोबोट पूरी तरह से हाइड्रोजेल से बनाए गए हैं, जो कि एक मजबूत, रबर की तरह मुलायम और करीब-करीब पारदर्शी सामग्री है, जो ज्यादातर पानी से बना है।

मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी (Massachusetts Institute of Technology) के असिस्टेंट प्रोफेसर शुआन्हे झाओ का कहना है, “हाइड्रोजेल नर्म, गीले, बॉयोकॉमपैटिबल होते हैं और मानव अंगों के अनुकूल होते हैं।” ये रोबोट पूरी तरह से पानी से चलते हैं और लगभग पानी से बने हैं। इसलिए ये पानी में अच्छी तरह से काम करने में सक्षम हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि ये जिन्हें पानी के अंदर काम करने के लिए बनाया गया है, पानी में लगभग अदृश्य हो जाते हैं। प्रकाश और ध्वनि तरंगे इनके अंदर से पार हो जाती है जैसे कि पानी में हो जाते हैं जिसके कारण पानी के अंदर रोबोट को ढूंढ पाना मुश्किल होता है।

झाओ का कहना है, “हम मेडिकल समूहों के साथ सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं, ताकि इन रोबोटों से हाइड्रोजेल हाथ आदि बनाकर मेडिकल इस्तेमाल किया जा सके। ये सर्जरी के दौरान काफी काम के साबित हो सकते हैं।” गोल्ड फिश को पकड़ने के लिए 3 प्रिंटेड और लेजर कट मोल्ड्स का प्रयोग किया है। यह रोबोट देखने में जेली फिश की तरह है और इसके लिए यूएस ऑफिशियल ऑफ नेवल रिसर्च ने भी फंडिंग की है। इसका एक वीडियो में सामने आया है, जिसमें नजर आ रहा है कि पानी में लगभग गायब हो चुका रोबोट गोल्ड फिश को पकड़ता है। रोबोट बाद में मछ्ली को छोड़ देता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि इस तकनीकी का प्रयोग सर्जिकल ऑपरेशंस के लिए उपकरण बनाने में किया जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App