Facebook अकाउंट डिलीट कर देंगे तो क्या होगा आपकी ‘लाइफ स्टोरीज’ का, जानना चाहेंगे?

अगर आपने किसी पोल (सर्वेक्षण) के संदर्भ में वोट दिया है तो आपको पोल की जानकारी नहीं मिलेगी, केवल जवाब दिखेंगे। ऐप पर आपने जिन सभी लोगों से संवाद किया है, उनके केवल नाम, तारीख और समय की सूची आती है। कुछ अपवाद भी हैं।

facebook, tech news, utility news
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः unsplash)

माइकल हम्फ्राय

फेसबुक से जुड़े विवादों के मद्देनजर यदि आप इस ऐप का इस्तेमाल बंद कर देना चाहते हैं तो ऐसा सोचने वाले आप अकेले नहीं हैं। लेकिन इसे किया कैसे जाए? इस बारे में मार्गदर्शन देने के लिए कई विकल्प हैं, बल्कि फेसबुक ने भी इसे समझना बहुत आसान बना दिया है। ऐसा कदम उठाने से पहले आपको यह सोचना चाहिए कि जब ऐप को आप हटा देते हैं तो आपकी ‘लाइफ स्टोरी’ का क्या होता है?

करीब एक दशक या उससे भी अधिक समय तक लोगों के अपडेट, कमेंट, फोटो, मैसेज, टैग, पोक, ग्रुप और प्रतिक्रियाएं एक डिजिटल घेरे में रहती हैं और फेसबुक समय-समय पर आपको इनकी याद दिलाता रहता है और इस तरह वह यह भी याद दिलाता है कि आप कितने लंबे समय से सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते आ रहे हैं।

ऐप का इस्तेमाल बंद करने के दो रास्ते हैं- इसे डिएक्टिवेट कर देना या फिर हटा ही देना (डिलीट कर देना)। जब आप फेसबुक को डिएक्टिवेट करते हैं तो यह एक तरह से निलंबित हो जाता है। आपने इस ऐप पर जो भी किया हो, कहा हो वह या तो हट जाएगा या अनुपलब्ध हो जाएगा। यदि किसी दिन आप इसे फिर से एक्टिवेट करेंगे तो यह सब वापस आ जाएगा और उपलब्ध हो जाएगा।

वहीं, अकाउंट डिलीट करने का मतलब होगा कि आपकी प्रोफाइल, फोटो, पोस्ट, वीडियो और जो कुछ भी आपने इसमें जोड़ा है वह स्थायी रूप से डिलीट हो जाएगा। फेसबुक के मुताबिक इनमें से कुछ भी आप वापस नहीं पा सकेंगे। आपकी जो भी यादगार बातें हैं उन्हें पूरी तरह डिलीट करने से पहले बचाने का एक ही तरीका है कि जानकारी को डाउनलोड किया जाए।

मेरा सुझाव है कि आपको एक समयांतराल पर एक बार ऐसा करना चाहिए क्योंकि इससे पता चलता है कि आप पर किस तरह नजर रखी जा रही है, आप ऐप पर इस माध्यम का किस तरह इस्तेमाल कर रहे हैं और पिछले कुछ सालों में साइट पर आपने किस तरह की गतिविधियां की हैं। यह भारी-भरकम फाइलें हैं जिन्हें आप फोल्डर से या ऑफलाइन वेब ब्राउजर से देख सकते हैं। आप ऑनलाइन फेसबुक के जरिए भी डाटा देख सकते हैं।

संपर्क पता नहीं चलते
लेकिन यह भी बात उतनी ही सच है कि आपका डाउनलोड किया गया डाटा संपर्क रहित हो जाता है। इसका क्या मतलब है? आपकी पोस्ट तारीख और समय के हिसाब से आती हैं, लेकिन उन पर कोई प्रतिक्रिया (लाइक आदि जैसे रियेक्शन) और टिप्पणियां (कमेंट्स) नहीं दिखाई देते। यह बात तस्वीरों और वीडियो के मामले में भी है। आप दूसरे लोगों की पोस्ट पर जो टिप्पणी करते हैं, उन पर भी यही बात लागू होती है।

अगर आपने किसी पोल (सर्वेक्षण) के संदर्भ में वोट दिया है तो आपको पोल की जानकारी नहीं मिलेगी, केवल जवाब दिखेंगे। ऐप पर आपने जिन सभी लोगों से संवाद किया है, उनके केवल नाम, तारीख और समय की सूची आती है। कुछ अपवाद भी हैं। जैसे कि आपके मैसेज रहते हैं तो आप अपने वार्तालाप को देख सकते हैं। फेसबुक पर आने वाले उन इवेंट्स की जानकारी भी क्रम में होती है जिन पर आपने भाग लेने की इच्छा जताते हुए प्रतिक्रिया दी थी। एक और बात कहना चाहूंगा कि मैं ये जानकारी अपने खुद के डाटा से ले रहा हूं, इसलिए अन्य अपवाद भी हो सकते हैं।

छोड़ते समय एक बार फिर नजर डाल लें
अंतत: जो भी आप डाउनलोड करते हैं उसे देखकर आप जीवन की एक दहलीज सा महसूस करने लगते हैं। उसमें सभी यादें होती हैं। आखिरी बार अपने एकाउंट के अंदर तक झांकें, उन जवाबों को सेव करें जो आपने दिए और जो आपको भाते हैं।

लेखक कोलोराडो स्टेट यूनिवर्सिटी में जर्नलिज्म ऐंड मीडिया कम्युनिकेशन के असिस्टेंट प्रोफेसर हैं।

पढें टेक्नोलॉजी समाचार (Technology News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट