अगर आपके भी फोन में हैं ये ऐप्‍स, तो तुरंत करें डिलीट; बन सकते हैं खतरा

गूगल ने Google Play Store पर 19,300 ऐप को बैन कर दिया था। जानकारी के मुताबिक बताया गया था कि इन ऐप्‍स से व्‍यक्तिगत डाटा लीक होने का खतरा था। जिस कारण से इन एप्‍स को हटाया गया। साथ ही रिपोर्ट में बताया गया था कि इन ऐप्‍स का इस्‍तेमाल कर ठगी भी हो सकती थी।

अगर आपके भी फोन में हैं ये ऐप्‍स, तो तुरंत करें डिलीट; बन सकते हैं खतरा (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

पिछले दिनों गूगल ने Google Play Store पर 19,300 ऐप को बैन कर दिया था। इन ऐप्‍स से व्‍यक्तिगत डाटा लीक होने का खतरा था, जिस कारण से इन्हें हटाया गया था। अवास्ट द्वारा जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, इन ऐप्‍स का इस्‍तेमाल ठगी में भी हो सकता था। एंड्रॉयड यूजर्स गूगल प्ले स्टोर के जरिये ही अपने स्मार्टफोन में एप्स डाउनलोड करते हैं।

डिजिटल सिक्योरिटी फर्म अवास्ट का मानना है कि अधिकांश ऐप मिसकंफिगर किए गए हैं। फायरबेस डाटा के चलते यह ऐप्स यूजर का डाटा और जानकारियां लीक कर सकत हैं। फायरबेस एक ऐसा टूल होता है जिसमें एंड्रॉयड डवलपर्स यूजर्स का डाटा स्टोर करकते हैं।

यह भी पढ़ें: Aadhar Card: अगर आधार कार्ड पर लगी फोटो नहीं है पसंद, ऐसे कर सकते हैं चेंज; जानें स्‍टेप बाई स्‍टेप प्रोसेस

ऐसे करते हैं डाटा चोरी
ये खुले उदाहरण Firebase के साथ विकसित किए गए ऐप्स द्वारा संग्रहीत और उपयोग किए गए डेटा को चोरी के जोखिम में डाल देते हैं। डेटा इन ऐप्स स्टोर में नाम, जन्मतिथि, पता, फोन नंबर, स्थान की जानकारी, सेव टोकन जैसी विभिन्न जानकारी शामिल हो सकती हैं। कुछ उदाहरणों में, यदि डेवलपर ने सर्वोत्तम सुरक्षा प्रथाओं का पालन नहीं किया, तो रिकॉर्ड में सादे पाठ में पासवर्ड भी हो सकते हैं।

अक्टूबर की शुरुआत में भी गूगल ने प्ले स्टोर से 136 ऐप्स को बैन किया था। इन ऐप्स को जिम्पेरियम की सिक्योरिटी रिपोर्ट के बाद हटाया गया था। जिम्पेरियम की रिपोर्ट में बताया गया था कि कुछ ऐप्स को एक मालवेयर ने अपना निशाना बनाया है। इन ऐप्स के जरिये यह मालवेयर यूजर्स के फोन से उनका बहुमूल्य डाटा भी चुरा रहा था और बैंक खातों में भी सेंध लगा रहा था।

जिन ऐप्स को हटाया गया था उनमें Handi Translator Pro, Heart Rate and Pulse Tracker, Geospot: GPS Location Tracker, ICare – Find Location और My Chat Translator प्रमुख ऐप हैं।

गौरतलब है कि भारत सरकार ने भी सुरक्षा कारणों के चलते कई चीनी मोबाइल ऐप्स को बैन किया था। हालांकि इनमें से अधिकांश ऐप नाम बदलकर या प्रॉक्सी के जरिये अभी भी उपयोग किए जा रहे हैं।

पढें टेक्नोलॉजी समाचार (Technology News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट