ताज़ा खबर
 

गूगल ने बनाई जैकेट, स्मार्टफोन की स्क्रीन पर नहीं जैकेट पर टच करके ही रिसीव कर सकेंगे कॉल

Google और Levi's ने मिलकर एक एेसी स्मार्ट जैकेट बनाई है जो फीचर्स की वजह से बहुत खास होगी।

लड़कियों को इस बात का गम भी होता है कि उसका ब्‍वॉयफ्रेंड इतना हैंडसम क्यों नहीं है।

पिछले साल Google ने प्रोजेक्ट Jacquard की घोषणा की थी। इसमें Google और Levi’s ने संयुक्त रूप से एक जैकेट बनाने की पहल की थी। वही बहुप्रतिक्षित जैकेट अब बनकर तैयार है। ये एक तरह का स्मार्ट कनेक्टेड जैकेट है। गूगल ने भविष्य की स्मार्ट जैकेट बनाने के लिए एक विशेष प्रोजेक्ट की शुरुआत कर दी है। इसका नाम है प्रोजेक्ट जैकार्ड। गूगल ने अपने प्रोजेक्ट जैकार्ड का वीडियो टीजर लांच कर दिया है। इसके तहत गूगल ने कपड़े बनाने वाली कंपनी लिवाइस के साथ मिलकर एक एेसी स्मार्ट जैकेट बनाई है जो फीचर्स की वजह से बहुत खास होगी। इस प्रोजेक्ट का मुख्य लक्ष्य है ऐसे पहनने वाले कपड़े बनाना जिसको मात्र टच करके निर्देश दिए जा सकें। एकदम टचस्क्रीन स्मार्टफोन की तरह। टीजर वीडियो में दिखाया गया है की एक युवक साइकिल चला रहा है। मात्र अपनी आस्तीन को टच करके कॉल रिसीव या रिजेक्ट कर सकते हैं। मैप यूज करते हुए रास्ते की जानकारी पा सकते हैं। बस फोन से इयरफोन जुड़ा रहेगा। आस पास के रेस्टोरेंट, होटल, सुपर मार्किट अदि की जानकारी भी पा सकते हैं। कंपनी ने जिस प्रोडक्ट का टीजर लांच किया है उसका नाम है कम्यूट्यर ट्रैकर जैकेट। इसकी कीमत है 350 डॉलर यानी लगभग 23,000 रूपए।

जाहिर सी बात है की अगर आपकी आस्तीन टच करके फोन को कमांड दिया जा सकता है तो उसमे केवल कपड़ा नहीं हो सकता है। कंपनी ने इस जैकेट में लगने वाले कपड़ों में धागों के साथ बहुत ही पतला धातु वाला तार भी लगाया गया है। जिसकी सहायता से इसको इंसान के टच को समझने योग्य बनाया गया है। गूगल के इस नए प्रोजेक्ट के तहत कंपनी ने रोजमर्रा की जरूरत में प्रयोग होने वाली चीजों जैसे कपड़े या फर्नीचर को एक टच इंटरफेस में बदलने की योजना बनाई है। यह जैकट इस प्रोजेक्ट का पहला बड़ा लांच हो सकता है।

ये फाइबर्स स्केल में बनाए जाते हैं इसलिए इससे धागे की ही तरह अपनी पसंद की किसी भी तरह की सर्किट डायग्राम बनाई जा सकती है। Levi’s ने अपने Commuter कलेक्शन को पेश किया है जिसमें आपको प्रोजेक्ट jacquard बेस्ड जैकेट भी मिल जाएंगे।इस पूरे इंटरफेस में गूगल असिस्टेंट का एक बड़ा योगदान है। असिस्टेंट की वजह से ही यूजर के हाथ के टच और निर्देशों को फोन में पंहुचा कर उसके बाद के रिजल्ट को यूजर के कानों तक पहुंचाया जा सका है।

Tech से जुड़ी ज्यादा खबरों के लिए यहां क्लिक करें।

 

 

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने अपनी घोषणाओं में छोटे उद्योगों पर दिया ज़ोर, देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App