Google ने YouTubers को किया सावधान, इन बातों का रखे ध्‍यान वरना चोरी हो जाएगा आपका डाटा

ऑनलाइन माध्‍यमों का उपयोग करते हुए यूजर्स को ज्‍यादा सावधान रहना पड़ता है। थोड़ी सी लापरवाही होते ही यूजर्स का एकाउंट हैक या फ्राड जैसी घटनाएं हो जाती हैं।

Google ने YouTubers को किया सावधान, इन बातों का रखे ध्‍यान वरना चोरी हो जाएगा आपका डाटा (File Photo)

साइबर सुरक्षा आज के समय में बहुत महत्वपूर्ण है। ऑनलाइन माध्‍यमों का उपयोग करते हुए यूजर्स को ज्‍यादा सावधान रहना पड़ता है। थोड़ी सी लापरवाही होते ही यूजर्स का एकाउंट हैक या फ्राड जैसी घटनाएं हो जाती हैं। हैकर्स सबसे ज्यादा उपयोग फ़िशिंग का करते हैं और इससे यूजर्स की निजी जानकारी और डाटा चोरी कर लेते हैं। इसी के मद्देनजर Google ने YouTube यूजर्स के लिए फ़िशिंग हमले के बारे में चेतावनी जारी की है।

YouTubers को टारगेट करने के लिए किस प्रकार का हो रहा हमला
इस प्रकार के हमले को कुकी चोरी कहा जाता है। एक ब्‍लॉग पोस्‍ट में गूगल ने बताया है कि यह तकनीक बहुत पहले से है। हैकर्स वायरस या मैलवेयर भेजकर यूजर्स पर अटैकिंग आसानी से कर लेते हैं। इस कारण सोशल इंजीनियरिंग रणनीति को लेकर सुझाए गए बातों को ध्‍यान देना चाहिए।

हैकर्स Youtube यूजर्स को कैसे टारगेट करते हैं?
हैकर्स एक नकली व्यावसायिक ईमेल भेजते हैं और YouTube निर्माताओं से वीडियो विज्ञापन सहयोग का अनुरोध करने के लिए कहते हैं। एक बार जब इस पर सहमति मिल जाती है, तो सॉफ़्टवेयर डाउनलोड URL के माध्‍यम से एक मैलवेयर लैंडिंग पेज Google ड्राइव पर या ईमेल में आ जाता है। इससे आपका डाटा और पर्सनल जानकारियां चोरी हो सकती हैं। गूगल ने जानकारी दी कि हमलावरों ने फर्जी कंपनियों से जुड़े विभिन्न डोमेन पंजीकृत किए और मैलवेयर डिलीवरी के लिए कई वेबसाइटें बनाईं हैं। कुछ वेबसाइटों ने वैध सॉफ़्टवेयर साइटों का प्रतिरूपण किया, जैसे कि ल्यूमिनेर, सिस्को वीपीएन, स्टीम पर गेम, और कुछ ऑनलाइन टेम्प्लेट का उपयोग करके बनाए जाते हैं।

यह भी पढ़ें: Facebook New Name: फेसबुक को क्‍या जल्‍द मिलेगा नया नाम? यूजर्स ने बताया क्‍या रखना चाहिए नाम

इन हमलों से सुरक्षित रहने के लिए YouTubers क्या कर सकते हैं?
Google के पास कई टिप्स हैं जिनका YouTubers पालन कर सकते हैं। जैसे कि Google के पास एक सुरक्षित ब्राउज़िंग सुविधा है जिसका उपयोग मैलवेयर ट्रिगर करने वाले एंटीवायरस डिटेक्शन से बचने के लिए किया जा सकता है। Google एंटीवायरस या वायरस स्कैनिंग टूल का उपयोग करने के लिए भी कहता है। उपयोगकर्ताओं को अपने खातों को दो स्‍टेप सत्यापन के साथ सुरक्षित रखना चाहिए, जो आपके पासवर्ड के चोरी होने की स्थिति में आपके खाते को सुरक्षा की एक अतिरिक्त सुरक्षा देता है।

पढें टेक्नोलॉजी समाचार (Technology News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट