Electric Vehicles के बाद आने वाले हैं जेट पैक, फ्लाइंग कार और ड्रोन टैक्सी, आसमान में इंसान इनसे भरेगा उड़ान

अमेरिकी विमान बनाने वाली बोइंग (Boeing Co.) की इकाई विस्क (Wisk) में एशिया पैसिफिक डायरेक्टर अन्ना कौमिनिक के मुताबिक, हमें आसमान की ओर रुख करना चाहिए और इस जगह को एक संसाधन के रूप में देखना चाहिए।”

jet pack, taxi drone, e vehicles
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

हॉलीवुड फिल्मों में आपने आइरनमैन से लेकर बॉर्डर पुलिस को आर्मर सूट्स और जेट पैक्स की मदद से उड़ते देखा होगा? पर आने वाले वक्त में फिल्मों का मौजूदा साइंस फिक्शन असल में परिवहन का जरिया बनता दिखेगा। तेजी से बदलती ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री में जेटपैक्स के साथ पैरामेडिक्स, उड़ने वाली गाड़ियों (फ्लाइंग कार्स) में बॉर्डर पुलिस और टैक्सी ड्रोन्स की मदद से लोगों का आवागमन संभव हो सकता है। ये सारे कॉनसेप्ट एडवांस्ड एयर मोबिलिटी (एएएम) मार्केट का हिस्सा हैं, जो कि 2025 तक 17 बिलियन अमेरिकी डॉलर का हो जाएगा।

रॉयटर्स नेक्स्ट कॉन्फ्रेंस में गुरुवार (दो दिसंबर, 2021) को अमेरिकी विमान बनाने वाली बोइंग (Boeing Co.) की इकाई विस्क (Wisk) में एशिया पैसिफिक डायरेक्टर अन्ना कौमिनिक ने कहा, “हम सड़क परिवहन का इस्तेमाल जारी नहीं रख सकते। थ्री डी गतिशीलता वास्तव में जरूरी है।”

विस्क फिलहाल कोरा (Cora) की टेस्टिंग कर रही है, जो कि स्‍वायत्त इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट है। खास बात है कि यह हेलीकॉप्टर की तरह टेक ऑफ और लैंड करता है। विस्क अमेरिकी फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन सहित नियामकों के साथ संपर्क कर रहा है, ताकि एयर टैक्सी के सार्वजनिक उपयोग के लिए मंजूरी पा सके। यह एयर टैक्सी दो यात्रियों को 150 किमी प्रति घंटा (93 मील प्रति घंटे) की गति से 100 किलोमीटर (62 मील) तक ले जा सकती है।

कौमिनिक ने पांच नवंबर को रिकॉर्ड की गई एक पैनल चर्चा में बताया था, “2030 तक दुनिया की 60-70% आबादी शहरी होगी।” उनके मुताबिक, हमें आसमान की ओर रुख करना चाहिए और इस जगह को एक संसाधन के रूप में देखना चाहिए।”

नीदरलैंड मूल की पाल-वी (PAL-V) का दो सीटों वाला गायरोप्लेन रोड व्हीकल लिबर्टी 400 किलोमीटर की रेंज और 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार देता है, जिसे इसी साल यूरोपियन सड़कों पर इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिल गई है। पाल-वी इंटरनेशनल के चीफ एग्जियक्यूटिव रॉबर्ट डिंगमैन्स के मुताबिक, जरूरी ट्रेनिंग के बाद इसे 2023 के बाद कस्टमर्स को दिया जाना शुरू किया जाएगा।

पाल-वी के गायरो प्लेन में 193 देशों ने रुचि दिखाई है, जबकि इसके लिए 15 मुल्क ऑर्डर भी दे चुके हैं। हालांकि, कोरा यात्रियों को लेकर कब उड़ान भरेगा? इस बारे में फिलहाल चीजें साफ नहीं हो पाईं, मगर कौमिनिक ने इतना जरूर बताया, “हमें नहीं उम्मीद है कि मार्केट में ऐसा करने वाले पहले होंगे, पर हमें संभावना है कि हम सबसे बेहतर करेंगे।”

पढें टेक्नोलॉजी समाचार (Technology News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।