ताज़ा खबर
 

आपकी हर एक फोन कॉल और मैसेज का रिकॉर्ड रखता है फेसबुक, डिलीट करने में यूजर्स को आ रही दिक्‍कत

फेसबुक और कैंब्रिज एनालिटिका कांड के बाद एक के बाद एक चौंकाने वाली बातें सामने आ रही हैं। अंग्रेजी अखबार द गार्जियन में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक यूजर का डेटा स्टोर करने के साथ ही उसके फोन के इनकमिंग और आउट गोइंग कॉल्स के सारे लॉग्स स्टोर कर लेता है।

ब्रिटिश कन्सल्टिंग कंपनी कैम्ब्रिज एनालिटिका पर आरोप लगा है कि उसने पांच करोड़ फेसबुक यूजरों का डेटा बिना अनुमति के जमा किया।

फेसबुक और कैंब्रिज एनालिटिका कांड के बाद एक के बाद एक चौंकाने वाली बातें सामने आ रही हैं। अंग्रेजी अखबार द गार्जियन में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक यूजर का डेटा स्टोर करने के साथ ही उसके फोन के इनकमिंग और आउट गोइंग कॉल्स के सारे लॉग्स स्टोर कर लेता है। यही नहीं यह एसएमएस मैसेज का डेटा भी स्टोर कर लेता है। हालांकि कंपनी की तरफ से साफ किया गया है कि यह प्रक्रिया यूजर के लिए वैकल्पिक होती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि फेसबुक का अकाउंट डिलीट करना कठिन है। यूजर अकाउंट डिलीट करने के बजाय उन्हें डीएक्टिवेट कर पा रहे हैं। यह भी कहा गया कि यूजर फेसबुक का अकाउंट हमेशा के लिए बंद करने में कामयाब भी हो जाएं तो भी उसका काफी डेटा फेसबुक के सर्वर में बना रहता है।

गार्जियन ने फेसबुक के प्रवक्ता के हवाले से लिखा है- ”एप्स और सर्विस का सबसे अहम हिस्सा यह है आप लोगों को आसानी से खोज सकते हैं और उनके संपर्क में रह सकते हैं। इसलिए जब आप पहली दफा अपने फोन में मैसेजिंग और सोशल एप पर साइन इन करते हैं, इसका फोन के कॉन्टेक्ट्स अपलोड करने के साथ व्यापक रूप से काम चालू हो जाता है।” आगे कहा गया है- ”कॉन्टेक्ट अपलोडिंग वैकल्पिक है। लोगों से स्पष्ट रूप से पूछा जाता है कि वे फोन के कॉन्टेक्ट्स अपलोड करने की इजाजत देते हैं या नहीं। जब आप शुरू करते हैं तभी इस विवरण एप में दिया जाता है। लोग पहले अपलोड की गई सूचना को किसी भी समय डिलीट कर सकते हैं और बाद में उनके खाते और एक्टिविटी लॉग से जानकारी वापस भी पा सकते हैं, जो कि आपके डाउनलोड इनफोर्मेशन टूल का हिस्सा है।”

बता दें कि हाल में लंदन की एक विवादित इलेक्शन कंसल्टेंसी क्रैब्रिज एनालिटिका के बारे में मीडिया में खुलासा हुआ था कि उसने फेसबुक के करीब 5 करोड़ लोगों का डेटा अमेरिकी चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप को चुनाव जिताने के लिए इस्तेमाल किया था। इस खुलासे के बाद दुनिया भर में हड़कंप मच गया था और हजारों लोग अपने फेसबुक अकाउंट डिलीट करने लगे। लेकिन अब यह बात भी सामने आ रही है, लोग चाहकर भी अपने अकाउंट डिलीट नहीं कर पा रहे हैं और उनका काफी डेटा फेसबुक के रिकॉर्ड में रहता है। आक्रोशित लोगों ने फेसबुक के खिलाफ नाराजगी को लेकर #DeleteFacebook ट्रेंड चलाकर लोगों से उनके खाते बंद करने की अपील की मुहिम भी चलाई।

कैंब्रिज एनालिटा कांड के बाद फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग खुद इस बारे में गलती स्वीकार चुके हैं। भारत में फेसबुक के करीब 20 करोड़ यूजर बताए जाते हैं। भारत अमेरिका के बाद फेसबुक का सबसे बड़ा बाजार हैं, इसलिए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद फेसबुक को उसके द्वारा भारतीय चुनावी प्रकिया में किसी प्रकार की गड़बड़ी पाए की सूरत में अंजाम भुगतने की चेतावनी भी दे चुके हैं। लेकिन हालिया घटनाक्रमों को लेकर फेसबुक यूजरों के मन में इसकी सुरक्षा पॉलिसी को लेकर भय बैठ गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App