ताज़ा खबर
 

मार्क जुकरबर्ग ने माना- मैसेंजर पर भेजे जाने वाले संदेशों पर नजर रखता है फेसबुक

Facebook: फेसबुक ने ब्लूमबर्ग को बताया कि मैसेंजर स्कैन एक टूल है जो दुरुपयोग को रोकने के लिए और "कम्यूनिटी स्टैंडर्ड्स" के मुताबिक कंटेंट को सुनिश्चित करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) मार्क जुकरबर्ग (PTI)

फेसबुक यूजर्स का डेटा लीक होने के बाद कंपनी की खूब आलोचना हो रही है। अब फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने माना है कि मैसेंजर पर भेजे जाने वाले मैसेज पर फेसबुक नजर रखता है। फेसबुक अपने मैसेंजर ऐप पर भेजे गए फोटो और लिंक को सुनिश्चित करने के लिए स्कैन करता है कि वे कंपनी के दिशानिर्देशों का पालन करते हैं या नहीं। फेसबुक के कम्यूनिटी स्टैंडर्ड के मुताबिक नहीं होने वाले किसी भी मैसेज को ब्लॉक कर दिया जाता है। नई जानकारी कैंब्रिज एनालिटिका के डेटा लीक के बाद आई है, जिसमें पहले से ही सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर गोपनीयता संबंधी चिंताओं और व्यक्तिगत सूचना सुरक्षा पर सवाल उठाए थे। फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने वॉक्स के संपादक, एजरा क्लेन के साथ एक इंटरव्यू के दौरान इसकी पुष्टि की।

इंटरव्यू के दौरान, जुकरबर्ग ने बताया कि फेसबुक ने म्यांमार में जातीय सफाई देने वाले मैसेज को ब्लॉक कर दिए थे। जुकरबर्ग के मुताबिक यह सनसनीखेज मैसेज फेसबुक सिस्टम द्वारा खोजे गए थे और उन्हें ब्लॉक कर दिया गया था। ऐसी स्थिति में हमारा सिस्टम यह डिटेक्ट करता है कि क्या चल रहा है और उसी के बाद मैसेज ब्लॉक किए जाते हैं। अपने अच्छे इरादों के बावजूद, फेसबुक यूजर्स अभी भी सोशल मीडिया के विशालकाय पुराने डेटा उल्लंघनों से जूझ रहे हैं।

हालांकि, फेसबुक ने ब्लूमबर्ग को बताया कि मैसेंजर स्कैन एक टूल है जो दुरुपयोग को रोकने के लिए और “कम्यूनिटी स्टैंडर्ड्स” के मुताबिक कंटेंट को सुनिश्चित करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। फेसबुक ने कहा था कि वह मैसेज को एडवर्टाइजिंग या किसी दूसरे इस्तेमाल के लिए स्कैन नहीं करते हैं। कुछ मैसेंजर यूजर्स आश्वस्त नहीं हैं। ट्विटर पर, एक व्यक्ति ने फेसबुक के दावों की वैधता पर सवाल उठाते हुए ट्वीट किया: “मैंने फेसबुक मैसेंजर चैट में आइसक्रीम के बारे में बात की थी और अब आइसक्रीम के लिए ट्विटर पर विज्ञापन दिख रहा है। हमारी गोपनीयता पर पहले से ही सालों तक हमला किया गया है और उत्पाद बेचने के लिए इस्तेमाल किया गया है।”

एक बयान में, एक फेसबुक मैसेंजर के प्रवक्ता ने कहा, “उदाहरण के लिए, मैसेंजर पर जब आप कोई फोटो भेजते हैं, तो हमारी स्वचालित प्रणाली फोटो मैचिंग टेक्नोलॉजी का उपयोग करके स्कैन करती है कि ताकि बाल शोषण इमेजरी का पता लगाया जा सके या जब आप कोई लिंक भेजते हैं, तो मैलवेयर का पता लगाया जा सके।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App